Bihar News

तीन झोपड़ियों में आग लगने से अफरा-तफरी, दस झुलसे

Dainik Jagran - 5 hours 35 min ago

पटना सिटी। अगमकुआं थाना क्षेत्र के छोटी पहाड़ी स्थित कुम्हार टोला में मंगलवार की दोपहर एक बजे झोपड़ियों में लगी आग से लगभग सात लाख की संपत्ति जल गई। अगलगी के क्रम में झोपड़ी में रखे गैस सिलेंडर फटने से अफरा-तफरी मच गई। अगलगी में दस लोग जख्मी हुए। सिटी फायर स्टेशन से पहुंची तीन फायर यूनिटों ने आग बुझाया। आग में झुलसे लोगों में मिथिलेश को पीएमसीएच तथा अन्य नौ को निजी नर्सिंग होम इलाज के लिए भेजा गया। अगलगी का कारण स्पष्ट नहीं हो सका।

झोपड़पट्टी वासियों ने बताया कि सबसे पहले राजदेव पंडित के झोपड़ी से आग की तेज लपट निकली। तेज लपट से रामबहादुर पंडित और सुभाष पंडित की भी झोपड़ी में आग लग गई। लोग झोपड़ी से सामान निकालने में जुटे थे। अचानक झोपड़ी में रखा एक गैस सिलेंडर धमाके के साथ फट गया। गैस सिलेंडर फटने से आग की लपट और तेज हो गई। चारों ओर तेजी से काला धुआं फैलने लगा। मोहल्ला में अफरा-तफरी मच गई। जान बचाने के लिए बच्चे, महिलाएं व युवक बाहर भागते दिखे।झोपड़ियों में रखे कपड़े, घरेलू सामान, रुपये समेत अन्य सामान धू-धूकर जल गए।

नागरिकों की सूचना पर पहुंची अगमकुआं पुलिस ने भीड़ को नियंत्रित किया। सिटी फायर स्टेशन से पहुंची तीन फायर यूनिट ने लगभग एक घंटा में आग बुझाया। अगलगी में मिथिलेश, लालबाबू, बबलू पंडित, राहुल, सुनील, दीवाली, सोमनाथ, रानू, संजू, रवि झुलस गए। नाजुक स्थिति में मिथिलेश को पीएमसीएच इलाज के लिए ले जाया गया। अन्य घायल को इलाज के लिए निजी नर्सिंग होम ले जाया गया।

राम बहादुर पंडित ने बताया कि पुत्री की शादी के लिए रखे एक लाख रुपये, कपड़े व गहने जल गए। अगलगी में लगभग छह लाख की संपत्ति का नुकसान हुआ। घटनास्थल पहुंचे वार्ड 56 के पार्षद प्रतिनिधि बलराम मंडल ने बताया कि अगलगी में पीड़ितों की सहायता राशि उपलब्ध कराने के लिए अनुमंडलाधिकारी राजेश रौशन से बात की गई है। नुकसान का आकलन कर पीड़ितों को मुआवजा राशि दी जाएगी।

Categories: Bihar News

बैंकों के बाहर शारीरिक दूरी का उल्लंघन, उमड़ी भीड़

Dainik Jagran - 5 hours 45 min ago

संसू, फतुहा : अपने खाते से राशि निकालने के लिए मंगलवार की सुबह से ही घंटों बैंकों के गेट पर ग्राहकों की भीड़ लगी रही। प्रबंधक ने बताया कि बैंक के अंदर सोशल डिस्टेंस का ध्यान रखा गया था लेकिन बाहर बार-बार निवेदन के बाद भी सोशल डिस्टेंश का पालन नहीं किया जा रहा था। सरकार द्वारा जनधन, वृद्धा पेंशन एवं किसान सम्मान राशि खाते में भेजी गई है, जिसे निकालने के लिए हमलोग बैंक पहुंचे थे। ग्राहक सेवा केंद्रों पर दूसरे दिन भी लगी रही लोगों की भीड़ संवाद सहयोगी, मसौढ़ी : प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत कोविड-19 राहत को लेकर जनधन योजना के ग्राहकों के खाते में भेजी गई राशि की निकासी को लेकर मंगलवार को भी प्रखंड के विभिन्न ग्राहक सेवा केंद्रों पर लोगों की भीड़ लगी रही। इस दौरान लॉकडाउन का जमकर उल्लंघन हुआ। भगवानगंज थाना के दौलतपुर के एसबीआइ ग्राहक सेवा केंद्र पर रकम निकासी को ले सुबह से ही महिलाओं की भीड़ जुटी थी। इस दौरान केंद्र के सीएसपी संचालक रविता कुमारी व अभिराज कुमार ने लोगों से कई बार सोशल डिस्टेंस अपनाकर लाइन में खड़े होने की अपील की। लेकिन उसका कोई असर नहीं दिखा। बाद में भगवानगंज थाने से दो पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया। यहा रकम निकासी का कार्य भी ग्राहकों के अंगूठे के निशान लेकर किया जाता है। ऐसे में संक्रमण की आशका बनी रहती है। संसू, मनेर : जनधन, सामाजिक सुरक्षा पेंशन एवं किसान सम्मान के पैसे निकालने के लिए बैंक में भीड़ उमड़ रही है। इससे सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो पा रहा है। मनेर से खाशपुर तक के सभी बैंकों में ऐसा हाल देखने को मिला।

संवाद सहयोगी, दानापुर : मंगलवार को सेना इलाके में सप्लाई डिपो और दाउदपुर में सामान खरीदने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। वहीं गैस सिलेंडर के लिए लोग सुबह से दोपहर तक कतार में खड़े रहे। कतार में खड़े लोगों ने बताया कि घटों गैस सिलेंडर के लिए यहां खड़े हैं। यहा से सेना से जुडे़ लोगों को सिलेंडर दिया जाता है।

Categories: Bihar News

अब सैनिटाइज होकर ही ट्रेन में बैठ सकेंगे यात्री

Dainik Jagran - 5 hours 46 min ago

पटना। कोरोना वायरस के संक्रमण पर नियंत्रण के लिए रेलवे की ओर से लॉकडाउन के बाद ट्रेनों में बैठने वाले यात्रियों के सैनिटाइजेशन की व्यवस्था की जा रही है। यह सुविधा तब तक रहेगी जबतक संक्रमण के मामले आते रहेंगे। ट्रेन पर सवार होने के दौरान कोई यात्री कोरोना वायरस के संक्रमण की चपेट में नहीं आए, इसके लिए दानापुर मंडल रेल प्रबंधन की ओर से पटना जंक्शन, राजेंद्रनगर टर्मिनल, पाटलिपुत्र व दानापुर स्टेशन पर सैनिटाइजर स्कैनर लगाए जा रहे हैं। पटना जंक्शन पर जहां मुख्य परिसर के साथ ही करबिगहिया स्थित प्रवेशद्वार पर स्कैनर लगाए जा रहे हैं। वहीं राजेंद्रनगर टर्मिनल, दानापुर व पाटलिपुत्र स्टेशन पर एक-एक सैनिटाइजर स्कैनर लगेगा।

दानापुर मंडल रेल प्रबंधक सुनील कुमार ने बताया कि पहले ट्रायल के तौर पर दानापुर कोचिंग कांप्लेक्स व राजेंद्रनगर कोचिंग कांप्लेक्स में काम करने वाले रेलकर्मियों के लिए एक-एक सैनिटाइजर स्कैनर लगाए गए हैं। एक-दो दिन तक ट्रायल चलेगा। इसके बाद शक्तिशाली व बड़े आकार के स्कैनर पटना जंक्शन समेत चारों स्टेशनों पर लगेंगे। कोई भी यात्री इसी स्कैनर से गुजरने के बाद प्लेटफॉर्म पर जा सकेगा। यह व्यवस्था अन्य बड़े स्टेशनों पर भी की जा रही है ताकि वहां से भी यात्री सैनेटाइज होकर ही ट्रेन में सवार हो सकें।

सैनिटाइजर स्कैनर कैसे करेगा काम : स्टेशनों पर लगाए जाने वाले स्कैनर काफी शक्तिशाली होंगे। इसमें हाई प्रेशर जेट मशीन लगी रहेगी। पूरे स्कैनर में चार नोजल लगे रहेंगे। यह पूरी तरह सेंसरयुक्त होगा। जैसे ही कोई भी यात्री इस स्कैनर में कदम रखेगा मशीन ऑटोमैटिक ढंग से चालू हो जाएगी। यात्री के अंदर प्रवेश करते ही एक-एक करके चारों नोजल से सैनिटाइजर का स्प्रे निकलेगा जो पूरे शरीर को सैनिटाइज कर देगा। नोजल का कनेक्शन पास के ही टैंक से जुड़ा रहेगा जिसमें डिसइंफेक्टेंट लिक्विड भरा रहेगा।

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए यात्रियों को सैनिटाइज करने की व्यवस्था की जा रही है। दानापुर मंडल के पटना जंक्शन, दानापुर, राजेंद्रनगर टर्मिनल व पाटलिपुत्र स्टेशन पर सैनिटाइजर स्कैनर लगाए जा रहे हैं। अभी ट्रायल के लिए आरएनसीसी व दानापुर कोचिंग कांप्लेक्स में ऐसे दो स्कैनर्स लगाए गए हैं।

- सुनील कुमार, मंडल रेल प्रबंधक, दानापुर।

Categories: Bihar News

दुल्हिन बाजार में आपसी विवाद में बेटे को मारी गोली, जख्मी

Dainik Jagran - 5 hours 47 min ago

संसू, दुल्हिन बाजार : थाना क्षेत्र के सोनियावा गाव में मंगलवार की सुबह पिता-पुत्र में ईंट बंटवारे को लेकर झगड़ा हुआ जिसके बाद पिता ने पुत्र को गोली मार दी। जिससे वह गंभीर रूप से जख्मी हो गया। सोनियावा गाव निवासी अजय यादव की पहली पत्नी की मौत हो गई थी। बाद में उसने 8 वर्ष पूर्व दूसरी शादी कर ली। पहली पत्नी से 19 वर्षीय सुधीर कुमार व 17 वर्षीय रंधीर कुमार दो पुत्र हैं। उसी समय से सभी बंटवारा कर अलग रहते हैं। मंगलवार की सुबह ईंट बंटवारे को लेकर पिता अजय यादव व पुत्र सुधीर कुमार आपस में गाली-गलौज करते हुए मारपीट करने लगे। इस दौरान छोटा पुत्र रंधीर कुमार को अकेले देख पिता ने पीटकर गंभीर रूप से जख्मी कर दिया। छोटे भाई को जख्मी देख बड़ा भाई सुधीर कुमार मौके पर पहुंचा ही था कि आक्रोशित पिता अजय यादव ने गोली चला दी। जिससे सुधीर कुमार गंभीर रूप से जख्मी हो गया। गोली सीने को रगड़ते हुए दायें हाथ में लगी है। सूचना पर पहुंची पुलिस ने दोनों भाई को इलाज के लिए पीएचसी लेकर आई। वहीं सुधीर कुमार को दूसरी पत्नी से भी दो पुत्र हैं। संपत्ति को लेकर आपस में सभी का विवाद है। थानाध्यक्ष अशोक कुमार ने बताया कि पिता के द्वारा पुत्र को गोली मारने की बात सामने आई है। आरोपित पिता को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। मामले की जाच की जा रही है।

- - - - - - - - - - - - - - - - -

Categories: Bihar News

निजी अस्पतालों में जारी रहेंगी ओपीडी व इमरजेंसी सेवाएं

Dainik Jagran - 5 hours 48 min ago

पटना। राजधानी के निजी अस्पतालों में ओपीडी और इमरजेंसी सेवाएं बहाल रहेंगी। आयुष्मान भारत के 40 निजी अस्पतालों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक में जिलाधिकारी कुमार रवि ने यह निर्देश दिया। डीएम ने बैठक में कहा कि निजी अस्पतालों में कोरोना के पैसेंट आते हैं, तो इसकी सूचना अविलंब जिला प्रशासन को देना सुनिश्चित किया जाए, ताकि जाच की प्रक्त्रिया और अन्य अग्रेतर कार्रवाई तत्क्षण की जा सके। आयुष्मान भारत के मरीजों का मुफ्त में इलाज करने का निर्देश दिया गया गया है । लॉकडाउन को प्रभावी बनाने के लिए गलियों में मोटरसाइकिल से होगी गश्त: लाकडाउन को प्रभावी बनाने के लिए अब गलियों मेम मोटरसाइकिल से गश्ती तेज करने का निर्देश जिलाधिकारी ने दिया। बोरिंग रोड और अशोक राजपथ जैसे महत्वपूर्ण स्थलों पर लगातार गश्त करने और रोस्टर के अनुसार मजिस्ट्रेट की तैनाती सुनिश्चित कराने को भी कहा गया है । डीएम ने बताया कि सब्जी मंडी में एनसीसी की भी प्रतिनियुक्ति की गई है। मंडी में सोशल डिस्टेंस मेंटेन कराने के लिए दुकानों की दूरी बढ़ाने, पार्किंग स्थल को दूर रखने और प्रवेश व निकास द्वार बनाने की व्यवस्था भी होगी। ठेला और ई-रिक्शा के माध्यम से सब्जी बेचने की व्यवस्था करने के लिए भी कहा गया है। मिलों में है 4863 टन गेहूं और 1315 टन आटा: कोरोना संकट में राशन की समस्या से निपटने के लिए जिला प्रशासन द्वारा लगातार छापेमारी एवं दुकानों की जाच कराई जा रही है। इस क्त्रम में मंगलवार को 18 आटा मिल की जाच की गई। इन मिलों में गेहूं का स्टॉक 4863 टन तथा आटा का स्टॉक 1315 टन पाया गया। 39 खुदरा किराना दुकानों और 10 गैस एजेंसियों की जाच की गई । 43 जन वितरण प्रणाली दुकानों का निरीक्षण भी किया गया है। इसके अतिरिक्त खुला आटा, ब्राडेड आटा ,खाद्य तेल, चीनी ,नमक ,दाल, चावल ,आलू, प्याज, हरी सब्जी की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए दुकानदारों की समस्याएं सुनी गई। राहत केंद्रों पर 10995 लोगों को मिला भोजन : मंगलवार को आपदा राहत केंद्रों पर 369 व्यक्ति ठहरे। 10995 व्यक्तियों को राहत केंद्र पर बने सामुदायिक किचन से भोजन कराया गया।

Categories: Bihar News

Corona Fighters: घर-घर जाकर लोगों को बांट रहे भोजन, साबुन से लेकर मास्‍क तक करा रहे उपलब्‍ध

Dainik Jagran - April 7, 2020 - 10:19pm

पटना, जागरण टीम। पूरे देश में कोरोना का संक्रमण काल चल रहा है। एेसे ही संकट से बिहार भी गुजर रहा है। बात पटना की हो अथवा सिवान, गोपालगंज अथवा मुजफ्फरपुर की हो। सभी जगह एक जैसी स्थिति है। लोगों के रोजगार-धंधे बंद हो गए हैं। रोजी-रोटी पर आफत आ गई है। सरकार अपने स्‍तर से लोगों की मदद कर रही है। लेकिन कई ऐसे लोग भी हैं, जो इस कोरोना काल में लोगों की मदद कर रहे हैं। उन्‍हें घर पर राशन पहुंचा रहे हैं। कैंप लगाकर भोजन खिला रहे हैं। इसमें पुलिसकर्मी भी पीछे नहीं हैं। आम से लेकर खास तक मदद कर रहे हैं। खास बात कि इस दाैरान सोशल डिस्‍टेंसिंग का भी ध्‍यान रखा जा रहा है। 

जदयू विधान पार्षद प्रो. रणवीर नंदन ने बांटा कच्चा राशन

जदयू विधान पार्षद प्रो. रणवीर नंदन ने मंगलवार को कोरोना खतरे के बीच सक्रिय 100 कर्मयोगियों के लिए कच्चा राशन उपलब्ध कराया। उन्होंने स्वयं राहत सामग्री सौंपी। इस क्रम में उन्होंने सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ख्याल रखा। इसके पूर्व वह अपने आवासीय परिसर से कच्ची राशन सामग्री नियमित रूप से वितरित कर रहे हैं।

प्रो. नंदन ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कोरोना संक्रमण की वजह से हुए लाॅकडाउन के दौरान गरीब लोगों पर जो असर हुआ है, उसे भी आपदा मान रहे हैं। ऐसी अपदा में लोगों की मदद हमलोगों का धर्म है। इस पुनीत कार्य में उनके परिजन भी अपने दायित्व का निर्वहन कर रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि छात्र जदयू के प्रभारी होने के नाते वह उन हजारों विद्यार्थियों के लिए भी व्यवस्था कर रहे हैं, जो लाॅकडाउन की वजह से फंसे हुए हैं। गर्भवती महिलाओं के लिए एंबुलेंस का इंतजाम भी कर रहे।

मजदूरों के बीच बांटे आटा-चावल व साबुन-मास्‍क   

उधर, पटना दक्षिण नागरिक संघर्ष समिति की ओर कंकड़बाग व अशोक नगर में राहत सामग्री बांटी। समिति के अध्‍यक्ष दीपक कुमार ने बताया क‍ि कोरोना के मद्देनजर लॉकडाउन से प्रभावित दिहाड़ी मजदूरों, विशेषकर ओडीसा से आकर यहां पलंबर का काम कर रहे 125 मजदूरों को एक सप्ताह की खाद्य सामग्री बांटी गई। इसमें लोगों को आटा, चावल, आलू, प्याज, नमक साबुन समेत मास्क भी बांटे गए। मौके पर कंकङबाग के थाना प्रभारी मनोरंजन भारती भी मौजूद रहे। उन्‍होंने बताया कि समिति की ओर से अाठ दिनों से राहत सामग्री बांटी जा रही है। अब तक लगभग 500 मजदूरों, रिक्शा चालकों, ठेला चालकों व असहाय लोगों को भोजन पैकेट भी वितरण किए गए। इस काम में मनोज गुडडु ,त्रिपुरारी शरण, अजय सिंह आदि ने सहयोग किया।

पटना सिटी में मदद को सामने आ रहे लोग

लॉकडाउन में असहायों व जरूरतमंदों की मदद को सामाजिक, धार्मिक संगठन के अलावा शहरवासी निरंतर आगे आ रहे हैं। कुम्हरार विधानसभा अंतर्गत सुभाष, सम्राट अशोक मंडल, बहादुरपुर गांव, श्याम मंदिर, राजेंद्रनगर, गांधीनगर इलाकों  में जरूरतमंदों के बीच बिहार विधानसभा में सतारूढ़ दल के उप मुख्य सचेतक अरूण कुमार सिन्हा ने राशन सामग्री बांटी। उधर, जल्ला क्षेत्र में समाजसेवी ईश्वर अग्रवाल, शिवशंकर अग्रवाल, राहुल अग्रवाल, अजय अग्रवाल, अमित झुनझुनवाला, सुनील अग्रवाल, विशाल अग्रवाल, मिथिलेश झा आदि ने 400 घरों में राहत सामग्री बांटी। कचौड़ी गली स्थित श्याम इंफोटेक में प्रधानमंत्री कौशल युवा कार्यक्रम के तहत हस्तकला प्रशिक्षित महिलाओं द्वारा मास्क निर्माण किया जा रहा है। प्रतिदिन लगभग 400 मास्क तैयार किया जा रहा है। तैयार मास्क को सब्जी विक्रेता तथा अखबार के कर्मयोगियों के बीच अमित कानोडिया, सन्नी यादव, सचिन अग्रवाल, समीर बासोतिया, धनजंय मेहता बांट रहे हैं।  

भोजपुर में भी बांटे गए चावल, आलू व साबुन

भोजपुर के पीरो में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद पीरो नगर इकाई की ओर से जरुरतमंद परिवारों के बीच चावल, आलू, साबुन आदि का वितरण किया गया। अभाविप के पूर्व नगर मंत्री अजय कुमार मिश्र की पहल पर संगठन के सदस्यों ने पीरो नगर के दुसाधी बधार, देवचंदा बाल सहित कई अन्य मुहल्लों में जाकर अभावग्रस्त परिवारों को खाद्य सामग्री के साथ-साथ साबुन उपलब्ध कराया।  

सिवान में बांटी गई राहत सामग्री

सिवान के तरवारा स्थित जीबी नगर थाना क्षेत्र के तरवारा बाजार स्थित स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ग्राहक सेवा केंद्र पर मंगलवार को संचालक मनोज सिंह ने सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए करीब 100 लोगों के बीच राशन का वितरण किया। साथ ही लोगों को सफाई तथा लॉकडाउनका पालन करने की अपील की। मौके पर धीरज कुमार, सलोनी कुमारी, रूपेश परासर, सुजीत ङ्क्षसह, प्रियंका कुमारी, अंजली कुमारी आदि उपस्थित थे। उधर, आंदर के असांव थाना क्षेत्र के कशिला पचबेनिया पंचायत की मुखिया कुमारी किरण व उप मुखिया शत्रुघ्न दुबे उर्फ मालिक दुबे ने सोमवार को दर्जनों गांवों में ग्रामीणों के बीच 6 हजार डिटॉल साबुन, मास्क व सैनिटाइजर का वितरण किया। महाराजगंज के मुखिया संघ के अध्यक्ष रमेश यादव ने पोखरा पंचायत, पकवलिया, रतनपुरा आदि गांवों में मंगलवार को जरूरतमंदों के बीच खाद सामग्री का वितरण किया। वितरित किया तथा लोगों को घरों में रहने की सलाह दी। उन्होंने सोशल डिस्टेंसिंग के लिए जागरूकता अभियान चलाया। सिसवन में चैनपुर मुबारकपुर पंचायत की मुखिया पूनम कुमारी ने सैकड़ों परिवारों के बीच साबुन के साथ खाद्य सामग्री का वितरण किया। उन्होंने कहा कि जनता से सीधा संपर्क स्थापित कर ऐसे लोगों  को मदद पहुंचा रही है जो बिल्कुल परेशानी में है। रघुनाथपुर प्रखंड प्रमुख विनोद कुमार सिंह ने मंगलवार को प्रखंड कार्यालय में बीडीओ को वितरण के लिए 500 मास्क दिए।

मुजफ्फरपुर में घर-घर जाकर बांट रहे जरूरत का सामान

कोरोना से बचाव के लिए कुढऩी प्रखंड के छह लोग एकजुट हुए और गांवों में घर-घर जाकर जरूरतमंदों की मदद कर रहे। इस दौरान ये लोग कोरोना वायरस से अपनी सुरक्षा का भी ध्यान रहते। लॉकडाउन के बाद पकाही पंचायत स्थित बाघी के दवा के थोक विक्रेता दिनेश झा व रामनरेश झा, पैक्स अध्यक्ष सह पशु चिकित्सक डॉ. शशिभूषण कुमार, उपमुखिया मुकेश कुमार, समाजसेवी पप्पू सिंह और बबन सिंह ने गरीब लोगों की मदद की शुरुआत की। सारा खर्च आपसी सहयोग से जुटाते हैं। ये लोग प्रतिदिन अलग-अलग पंचायतों में पहुंचते हैं। एक-एक घर में पहुंच जागरूक करने के साथ गरीबों को जरूरत का सामान देते हैं। इसमें हाथ धोने के लिए साबुन, डेटॉल, रूमाल, प्लास्टिक की बाल्टी, मग, टिश्यू पेपर व मास्क के अलावा सर्दी-खांसी, बुखार की दवा भी शामिल होती है। अभी तक ये लोग पकाही, हरनारायण, लदबरिया, बाघी, सुबधिया, मधुबन व केरमाडीह सहित अन्य पंचायतों में करीब 100 लोगों की मदद कर चुके हैं।

Categories: Bihar News

Coronavirus Roundup : बिहार में फिर कोराेना ने पसारा पांव, सरकार तीन तरफ से करेगी हमला; पढ़ें दिनभर की खबरें

Dainik Jagran - April 7, 2020 - 9:07pm

पटना, राज्य ब्यूरो। बिहार में 72 घंटे के बाद फिर कोरोना ने अपना पांव पसारा। मंगलवार को कोरोना के दो नए मरीज मिले हैं। इस तरह, अब बिहार में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्‍या 34 हो गई है। शनिवार के बाद से मरीजों की संख्‍या पर ब्रेक लग गई थी। इससे सरकार थोड़ी राहत महसूस कर रही थी। उधर, मंगलवार को मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर हाई प्रोफाइल बैठक हुई। इसमें कोरोना पर तीन तरफ से प्रहार करने पर रणनीति बनाई गई। दूसरी ओर, बिहार भी लाॅकडाउन खत्म करने पर अपनी असहमति जता सकता है। हवाई व रेल सेवा सहित पब्लिक ट्रांसपोर्ट शुरू करने के पक्ष में फिलहाल सरकार नहीं है। सरकार चाहती है कि उन जिलों में लाॅकडाउन जारी रहे, जहां से मामले पॉजिटिव अा रहे हैं। वहीं, समस्‍तीपुर में  आइसोलेशन सेंटर पर हमला हुआ है। कोरोना राउंडअप में पढ़ें मंगलवार की दिनभर की खबरें। 

तमिलनाडु में फंसे कामगारों ने की मुख्यमंत्री की तारीफ 

लाॅकडाउन की वजह से तमिलनाडु में फंसे अप्रवासी बिहारी कामगारों ने राज्य सरकार द्वारा विशेष सहायता के रूप में अपने खाते में एक हजार रुपए भेजने पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की तारीफ की है। इन लोगों ने वीडियो संदेश भेजकर मुख्यमंत्री के प्रति आभार जताया है। वैशाली जिले फंसे लोगों में लालगंज प्रखंड के उमेश कुमार सहनी, भगवानपुर प्रखंड के राजकुमार के साथ रहने वाले जिले के अन्य लोगों ने वीडियो संदेश भेजा है। इन लोगों ने कहा कि सरकार द्वारा एक हजार रुपए खाते में भेजे जाने से उन्हें काफी राहत मिली है। राज्य सरकार के आपदा राहत केंद्रों पर उन्हें 11 किलो चावल, एक किलो दाल, एक किलों सरसो तेल के साथ अन्य जरूरी मदद की जा रही है।

कोरोना की जंग जीतने वाले 12 को सीएम ने दी बधाई 

कोरोना की जंग जीतने वाले बारह लोगों को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बधाई दी है। इनमें शाह मनोज, राजा कुमार, मो. मेराज हुसैन, ङ्क्षपकी कुमारी, भोला शर्मा, सूरज कुमार, रशीदा बेगम, मो.कैफ, विवेक कुमार, टुनटुन कुमार, मो. अकीब व मो. नासिर शामिल हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संक्रमण के खिलाफ राज्य सरकार की कोशिशों को इनके ठीक होने से बल मिला है। मुख्यमंत्री ने इन सभी बारह लोगों के स्वस्थ एवं दीर्घायु जीवन की कामना की है।

बिहार में 72 घंटे बाद कोरोना ने पसारा पांव 

बिहार में कोरोना पॉजिटिव की संख्‍या मंगलवार को 34 हो गई है। दरअसल, मरीजों की संख्‍या पर शनिवार से ही ब्रेक लग गई थी। लेकिन मंगलवार को अचानक दो मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई। शनिवार को पॉजिटिव मरीजों की संख्‍या 32 थी, जो अब बढ़कर 34 हो गई। 72 घंटे के बाद मंगलवार को मिले दोनों मरीज महिलाएं हैं, जो सिवान की रहने वाली हैं। इस तरह, सिवान के कोराेना मरीजों की संख्‍या आठ हो गई। लेकिन अच्‍छी बात यह है कि 34 में से 15 लोग बिल्‍कुल ठीक हो गए हैं। एक मरीज की पहले ही मौत हो गई है।   

बिहार में भी बढ़ सकता है लाॅकडाउन

बिहार में अभी लॉकडाउन रह सकता है। इसके खत्म करने पर सरकार अपनी असहमति जता सकती है। दरअसल, हवाई व रेल सेवा सहित पब्लिक ट्रांसपोर्ट शुरू करने के पक्ष अभी सरकार नहीं है। इस बाबत मुख्यमंत्री नीतीश कुमार विशेषज्ञों की राय ले रहे हैं। वे इसे लेकर डॉक्टरों से भी बात करेंगे। इस पर दो-तीन दिनों में निर्णय ले लिया जाएगा। सरकार चाहती है कि उन जिलों में लाफकडाउन जारी रहे जहां से कोरोना पॉजिटिव के मामले सामने अा रहे हैं। बता दें कि मुंगेर, सिवान, भागलपुर, गया आदि से कई पॉजिटिव मरीज मिले हैं। हालांकि वे सब ठीक भी हो रहे हैं। बताया जाता है कि नीतीश सरकार के स्तर पर यह विश्लेषण किया गया है कि लाॅकडाउन की वजह से बिहार में स्थिति बहुत हद तक नियंत्रित हुई है। लोग अनुशासित भी रहे हैं। लाॅकडाउन अगर अचानक से खत्म होता है तो भीड़ तेजी से बाहर अाएगी। सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जी उड़ जाएगी अौर एेसे में स्थिति को नियंत्रित करना सरकार के बूते की बात नहीं रहेगी। विशेषज्ञों का कहना है कि सोशल डिस्टेंसिंग इसलिए भी जरूरी है कि संक्रमण अगले चरण में प्रवेश नहीं करे।

समस्तीपुर में आइसोलेशन  सेंटर पर हमला, तीन जख्मी 

समस्तीपुर के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के राजकीयकृत मध्य विद्यालय विशनपुर स्थित आइसोलेशन सेंटर में सोमवार देर रात नशे की हालत में तीन लोगों ने हमला कर दिया। इस दौरान क्वारंटाइन में रह रहे 10 लोगों में तीन को मारपीट कर गंभीर रूप से जख्मी कर दिया। सूचना के बाद पुलिस ने तीनों जख्मी का सदर अस्पताल में उपचार कराया। वहीं, तीन लोगों को गिरफ्तार किया। इस संबंध में थानेदार विक्रम आचार्य ने कहा कि गिरफ्तार हमलावरों को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। जख्मी लोग भी विशनपुर गांव के निवासी हैं। घटना के बाबत मंगलवार को प्राथमिकी दर्ज की गई। इसमें हकीमाबाद निवासी यशवंत कुमार, जितवारपुर के फरपुरा निवासी विकास कुमार राय और संतोष कुमार को आरोपित किया है। 

स्वास्थ्य विभाग समेत अन्‍य को सौंपी गई जिम्मेदारी

बिहार में कोरोना को एक हद तक नियंत्रित करने में सफल रहने के बाद अब सरकार ने इस महामारी पर तीन तरफा प्रहार की रणनीति बनाई है।  राज्य के मुख्य सचिव दीपक कुमार की अध्यक्षता में हुई बैठक में रणनीति पर गहन विचार-विमर्श के बाद तीन प्रमुख महकमों को इसे अमल में लाने और कोरोना पर प्रहार की जिम्मेदारी सौंपी गई है। इस पूरी कवायद का मसकद पूरी तरह से साफ है। सरकार इस कोशिश में है कि कोरोना के प्रकोप को अब यहीं रोक लिया जाए। इसके आगे बढ़ने का सारे रास्ते पूरी तरह से बंद कर दिए जाएं। जिन तीन महकमों को इस कार्य का दायित्व सौंपा गया है वे हैं स्वास्थ्य, नगर विकास एवं आवास और पंचायती राज विभाग।

दूसरे राज्यों से आए लोगों की जांच का फार्मूला तय

कोरोना पर तीन तरफा प्रहार की रणनीति की पहली कड़ी में स्वास्थ्य विभाग को यह काम सौंपा गया है कि वह विदेश से आए लोगों की पहचान का काम पूरा होने के बाद अब दूसरे राज्यों से आए लोगाें में कोरोना की पुष्टि के लिए कार्य करे। सबसे पहले महाराष्ट्र, पुणे के लोगों को सूचीबद्ध करने के निर्देश है। दूसरे पायदान पर कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु और दिल्ली से आए लोग हैं। इनमें से अधिकांश अभी क्वारंटाइन में हैं। अब स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव-गांव जाकर क्वारंटाइन में भर्ती लोगों में से लक्षण वाले व्यक्तियों की पहचान करेगी। पहचान में आए व्यक्ति के सैंपल लिए जाएंगे और जांच के लिए संबंधित जांच एजेंसी भेजे जाएंगे। मुख्य सचिव की माने तो पहले लक्षण वाले लोगों के सैंपल लिए जाने हैं। इनमें से यदि कोई रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो उस क्वारंटाइन सेंटर के सभी लोगाें की सैंपल जांच होगी।इस कार्य के लिए बकायदा टीम तक बन गई है। टीम में जिला स्तर के स्वास्थ्य कर्मी, एक पारा मेडिक्स और एक डॉक्टर को रखा गया है। स्वास्थ्य सूत्रों की माने तो यह कार्य सोमवार से प्रारंभ कर दिया गया है। 

गांव-गांव, शहर-शहर चिह्नित होंगे हॉट स्पॉट

कोरोना की जंग को जीतने के लिए सरकार ने अब सूबे के हर क्षेत्र में वैसे हॉट स्पॉट चिन्हित करने का फैसला किया है जहां कोरोना की आशंका ज्यादा हो सकती है। इस कार्य का दायित्व स्वास्थ्य विभाग के साथ ही पंचायती राज विभाग को भी दिया गया है। पंचायत स्तर पर पंचायत कर्मी गांव में रिक्शा अथवा ऑटो पर लाउड स्पीकर लगाकर लोगों के बीच प्रचार लाेगाें से बाहर से आए लोगों की सूचना देने की अपील करेंगे। इधर स्वास्थ्य कर्मी वैसे स्थानों की सूची बनाएंगे जहां राज्य या देश के बाहर से ज्यादा लोग आकर रह रहे हैं। आवश्यकता पड़ने पर ऐसे गांव या स्थान को हॉट स्पॉट मानकर इन्हें सील करते हुए सैनिटाइज करने की कवायद होगी। फिलहाल पटना में डाकबंगला चौराहे को हॉट स्पॉट मानकर होटल गली और इसके आसपास के क्षेत्र में जांच और सैनिटाइज करने का अभियान शुरू किया गया है। जिलाधिकािरयाें के साथ ही पंचायत के मुखिया तक का हिदायत है कि कहीं से समूह में कोरोना की आशंका वली जानकारी मिलती है तो सरकार को तत्काल इसकी सूचना दें। 

12 नगर निगम क्षेत्र में बनेगी सैनिटाइजर टनल

इधर नगर विकास एवं आवास विभाग को यह कार्य सौंपा गया है कि वह प्रदेश के 12 नगर निगमों में वैसे स्थानों को चिन्हित करे जहां एक बार में ज्यादा भीड़ जमती हो। विभाग की योजना ऐसे स्थानों पर सैनिटाइजर टनल बनाने की है। विभाग के सूत्रों की माने तो विभाग को इस कार्य को प्राथमिकता के आधार पर करने की चुनौती दी गई है। सरकार के अादेश के बाद सभी 12 नगर निगमों के प्रशासकों को यह कार्य सौंपा जा चुका है। पटना और गया में सैनिटाइजर टनल ने काम करना शुरू भी कर दिया है। पटना में राजेंद्र नगर में तो गया में कुल पांच स्थानों पर ऐसे टनल बनाए गए हैं। विभाग ने आधिकारिक जानकारी में बताया गया सैनिटाइजर टनल बनने से लॉक डाउन के दौरान रोजमर्रा की जरूरत के सामने लेने आए लोगों को सैनिटाइज किया जा सकेगा। विभाग ने दावा किया कि 12 नगर निगमों को मिलाकर फिलहाल 60 से 75 टनल बनाने की विभाग की योजना है। पहले चरण में छह टनल बनाए गए हैं। अगले 24 घंटे के अंदर और स्थान चिन्हित कर लिए जाएंगे और वहां भी सैनिटाइजर टनल बन जाएगी।

Categories: Bihar News

Coronavirus: कोरोना के साथ ही बर्ड-स्वाइन फ्लू पर भी विमर्श, नीतीश बोले- राशन की कमी नहीं, धैर्य से रहें लोग

Dainik Jagran - April 7, 2020 - 8:44pm

पटना, राज्य ब्यूरो। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को कहा कि सूबे में जरूरी सामानों की कोई कमी नहीं है। लोगों को खाद्य सामग्री तथा अन्य जरूरी चीजें उपलब्ध होती रहेंगी। लोग धैर्य और संयम बनाए रखें। सरकार की परिस्थितियों पर पैनी नजर है। कोरोना संक्रमण से निपटने को सरकार द्वारा उठाए जा रहे कदम की समीक्षा के क्रम में मुख्यमंत्री ने यह बात कही। उन्होंने एईएस, बर्ड फ्लू और स्वाइन फ्लू पर भी विमर्श किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि दवाओं, मास्क और अन्य जरूरी उपकरणों की उपलब्धता सुनिश्चत करायी जाए। इसकी कमी नहीं होनी चाहिए। क्वारंटाइन में रखे गए मरीजों की निगरानी करते रहें। आपदा राहत केंद्रों पर आवासन, भोजन व चिकित्सा सुविधाओं पर निगाह रखी जाए। उन्‍हाेंने कहा कि राज्य में राशन सामग्री की कोई कमी नहीं है। लोग अनावश्यक रूप से घर से बाहर नहीं निकलें। जरूरी सामानों की आपूर्ति में किसी तरह की कठिनाई नहीं होगी। संक्रमित लोगों के इलाज के लिए जरूरी प्रबंध किए गए हैं। 

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को यह जानकारी दी गयी कि कोरोना संदिग्धों की अधिक से अधिक जांच करायी जा रही है। संदिग्ध लोगों की स्क्रीनिंग भी तेज है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री राहत कोष से मुख्यमंत्री विशेष सहायता योजना के तहत जो एक हजार रुपए सभी राशनकार्ड धारी परिवारों के खाते में भेजे जा रहे हैं, उनमें और तेजी लाई जाएगी। 

मुख्यमंत्री ने एईएस, बर्ड फ्लू और स्वाइन फ्लू की स्थिति पर भी विस्तार से बात की। उन्होंने कहा कि एईएस से प्रभावित होने वाले संभावित क्षेत्रों में सभी प्रकार के सुरक्षात्मक उपाय सुनिश्चित करें। अन्य बीमारियों के इलाज के लिए भी समुचित कार्रवाई हो। ओला वृष्टि और असामयिक बारिश से जिन किसानों की फसल बर्बाद हुई है उनके खाते में तेजी से कृषि इनपुट अनुदान की राशि भेजें। सरकार ने इसके लिए 518.42 करोड़ रुपए स्वीकृत किए हुए हैं। उन्‍होंने कहा कि लोगों को घबड़ाने की जरूरत नहीं। कोरोना वायरस के कारण उत्पन्न परिस्थिति से प्रभावित लोगों की मदद सरकार आपदा मानकर कर रही है। 

Categories: Bihar News

बिहार की नीतीश सरकार अभी लॉकडाउन खत्म करने के पक्ष में नहीं, 11 अप्रैल को लेगी फैसला

Dainik Jagran - April 7, 2020 - 8:13pm

राज्य ब्यूरो, पटना। अपने अंतिम हफ्ते के करीब पहुंच चुके लाकडाउन को पूरी तरह से खत्म किए जाने के निर्णय पर बिहार भी असहमति जता सकता है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस संबंध में विशेषज्ञ और चिकित्सकों से परामर्श कर रहे हैं। दो-तीन दिनों के भीतर इस बाबत वह विशेषज्ञ चिकित्सकों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग भी कर सकते हैं।

इसके बाद सरकार के स्तर पर आधिकारिक रूप से लाकडाउन को विस्तारित किए जाने के मसले पर वक्तव्य आ सकता है। सरकार के स्तर पर इस बात पर सीधी सहमति है कि फिलहाल ट्रेन व हवाई सेवा सहित पब्लिक ट्रांसपोर्ट पर पूरी तरह से पाबंदी रहे।

सरकार के स्तर पर यह विश्लेषण किया गया है कि लाकडाउन की वजह से बिहार में स्थिति बहुत हद तक नियंत्रित हुई है। लोग अनुशासित भी रहे हैं। लाकडाउन अगर अचानक से खत्म होता है तो भीड़ तेजी से बाहर आएगी। सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जी उड़ जाएगी और ऐसे में स्थिति को नियंत्रित करना सरकार के बूते की बात नहीं रहेगी। विशेषज्ञों का कहना है कि सोशल डिस्टेंसिंग इसलिए भी जरूरी है कि संक्रमण अगले चरण में प्रवेश नहीं करे।

सरकार के स्तर पर यह विमर्श चल रहा है कि लाकडाउन उन जिलों में तो एकदम खत्म नहीं की जाए जहां से मामले अधिक अाने की संभावना है। एक तरह से बिहार के लिए वे जिले हॉटस्पॉट के रूप में चिन्हित होने की प्रक्रिया में हैं। देश के बाहर खासकर हाल में खाड़ी देशों से अाए लोगों की संख्या वहां अधिक रही है। एहतियात के तौर इन जिलों में लोगों को अगले पंद्रह दिनों तक और घर में रहने को कहा जा सकता है।

राज्य सरकार के स्तर पर इस बात को लेकर भी विमर्श चल रहा है कि अगर लाकडाउन में व्यावसायिक प्रतिष्ठान खोलने की अनुमति मिलती है तो सरकार अपने स्तर से यह व्यवस्था कर दे कि पब्लिक ट्रांसपोर्ट को अभी अनुमति नहीं दी जाए।

 

Categories: Bihar News

कोरोना से बिहार का अभी नहीं छूटा है पीछा, RMRI की जांच में फिर मिले दो कोरोना पॉजिटिव

Dainik Jagran - April 7, 2020 - 7:22pm

पटना, जेएनएन। पिछले दो दिनों से बिहार में कोरोना के एक भी मरीज की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव नहीं पाई गई थी। लेकिन मंगलवार को एक बार फिर से पटना के आरएमआरआइ में कोरोना के सैंपल्स की जांच में दो की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है। ये दोनों मरीज महिलाएं हैं और सिवान जिले की रहने वाली हैं।

पटना आरएमआरआइ की जांच रिपोर्ट के मुताबिक ये दोनों महिलाएं सिवान जिले के मरीज के परिवार की हैं जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। एक उस मरीज की मां है तो दूसरी उसकी पत्नी है। मां की उम्र 42 वर्ष है तो वहीं पत्नी की उम्र 22 वर्ष है। कोरोना पॉजिटिव मरीज की ट्रैवल  हिस्ट्री है, वह मिडिल ईस्ट से लौटकर अपने घर सिवान आया था।

इस तरह आज दो नए मामले सामने आने के बाद बिहार में कुल कोरोना संक्रमित मरीजों की संक्या 34 पहुंच गई है जिसमें 15 मरीज ठीक हो गए हैं और अपने घर चले गए हैं। वहीं एक मरीज की मौत हो चुकी है। बिहार में सोमवार को जहां एक साथ पांच कोरोना पॉजिटिव मरीजों की फाइनल जांच रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी तो वहीं मंगलवार को एक साथ छह एेसे मरीजों को छुकोरोना के मरीज छुट्टी दे दी गई जिनकी फाइनल जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है।

सोमवार को अस्पताल से डिस्चार्ज किए गए पांच मरीज में से चार सिवान जिले के थे तो वहीं एक पटना का था। आज भागलपुर के छह मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दी गई, इनमें से दो मुंगेर जिले के जिस युवक की कोरोना वायरस की रिपोर्ट उसकी मौत के बाद पॉजिटिव आयी थी उसके ही रिश्तेदार थे। एक महिला उसकी बुआ थी तो दू्सरा उसके पड़ोस में रहनेवाला एक बच्चा था।

वहीं चार मरीज और अस्पताल से डिस्चार्ज किए गए हैं। एक साथ इतने मरीजों के स्वस्थ होने से बिहार के लोगों ने राहत भरी सांस ली है।

Categories: Bihar News

CoronaVirus: कोरोना को हराने के लिए लालू-राबड़ी ने बताया ये फॉर्मूला, जानिए क्या कहा

Dainik Jagran - April 7, 2020 - 6:33pm

पटना, जेएनएन। कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए बिहार सहित पूरे देश में लॉकडाउन चल रहा है। लॉकडाउन के दौरान पुलिस और प्रशासन लोगों को जागरूक कर रहे हैं कि वो इसका पालन करें यही कोरोना को हराने का एकमात्र इलाज है। इसके लिए प्रशासन की तरफ से सख्ती भी दिखाई जा रही है। बावजूद इसके कुछ लोग लॉकडाउन का उल्लंघन कर रहे हैं।

इस बीच राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने एक ट्वीट के जरिए कोरोना वायरस को हराने का एक बेहतर फार्मूला लोगों को सुझाया है और इस वायरस को हराने की अपील की है। उन्होंने लोगों से अपील करते हुए अपने ट्वीट में लिखा है कि कोरोना को हम आराम से हरा सकते हैं, घर में रहिए आराम करिए।

 

कोरोना को आप आराम से हरा सकते है।

घर में रहिए..............आराम करिए।

— Lalu Prasad Yadav (@laluprasadrjd) April 7, 2020

लालू के बाद उनकी पत्नी और बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने भी अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया है जिसमेंं उन्होेने भी कोरोना को भगाने का फार्मूला बताया है। राबड़ी देवी ने अपने ट्वीट में लिखा है कि हाथ धोते रहें, कोरोना अपनी जान से हाथ धो बैठेगा।

 

हाथ धोते रहे, कोरोना अपनी जान से हाथ धो बैठेगा। #Corona #Covid_19

— Rabri Devi (@RabriDeviRJD) April 7, 2020

गौरतलब है कि बिहार में भी कोरोना वायरस के मामले लगातार सामने आ रहे हैं और अगर ऐसे में लालू प्रसाद यादव जैसा बड़ा नेता लोगों से अपील करता है कि घरों में रहें और लॉकडाउन का पालन करें, तो उसका एक बड़ा असर होता है।

सिर्फ लालू प्रसाद यादव ही नहीं बल्कि उनके दोनों बेटे तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव भी लगातार सोशल मीडिया पर एक्टिव हैं और कोरोना वायरस के मसले को लेकर काम कर रहे हैं। तेजस्वी और तेज प्रताप यादव लगातार सोशल मीडिया पर एक्टिव होकर बिहार के बाहर फंसे बिहारी मजदूरों की मदद कर रहे हैं और जिस राज्य में वो हैं, वहां की सरकार से गुहार लगा रहे हैं।

 

Categories: Bihar News

World Health Day: लॉकडाउन में मधुमेह-किडनी के रोगी रहें अलर्ट, बरतें सावधानी तो नहीं होगी परेशानी

Dainik Jagran - April 7, 2020 - 6:16pm

पटना, जेएनएन। हाइपरटेंशन, मधुमेह और किडनी जैसे रोग मनुष्य की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर कर देते हैं। कोरोना प्रकोप के इस दौर में यदि इन रोगों से पीडि़त लोगों को अस्पताल या घर से बाहर जाना पड़ा तो उन्हें संक्रमण की सबसे ज्यादा आशंका है। 60 वर्ष से अधिक के रोगियों को तो और भी ध्यान देने की जरूरत है। ऐसे लोगों को लॉकडाउन का सख्ती से पालन करते हुए अपनी दवा, खानपान और योग-ध्यान की बाबत खास एहतियात बरतने की जरूरत हैं। ये बातें विश्व स्वास्थ्य दिवस की पूर्व संध्या पर सोमवार को इंडोक्राइन सुपरस्पेशियलिटी हॉस्पिटल के चिकित्सा निदेशक सह मधुमेह रोग विशेषज्ञ डॉ. मनोज कुमार सिन्हा ने कहीं। 

मधुमेह, बीपी और किडनी रोगी निम्न बातों का रखें ध्यानडॉ. मनोज कुमार ने बताया कि 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोग कोरोना के आसान शिकार हैं। ऐसे में सबसे जरूरी है कि नियमित रूप से चलने वाली दवाओं को समय से लेते हुए संयमित खानपान और व्यायाम से शुगर और बीपी को सख्ती से नियंत्रित रखें। साथ ही नियमित रूप से ग्लूकोमीटर से शुगर लेवल और संभव हो तो बीपी नापते रहें। बिना फोन पर डॉक्टर की सलाह के किसी अस्पताल या क्लिनिक नहीं जाएं। तनाव और डर पर काबू के लिए योग-ध्यान जरूरीलॉकडाउन के कारण अब स्वस्थ व्यक्ति को भी तनाव होने लगा है। ऐसे में शुगर, बीपी और किडनी रोगियों और उनके स्वजनों का तनाव और बढ़ गया है। प्राणायाम, योग और ध्यान कर काफी हद तक तनाव पर काबू पाया जा सकता है। खानपान में रखें इन बातों का ध्यान 

  • एक नियमित आहार तालिका का पालन करें।
  • मधुमेह रोगी तीन मेजर मील और तीन स्नैक्स लें। जितनी भूख हो एकबार में उसका आधा ही खाएं। 
  • ग्रीन टी या बिना मलाई व चीनी के दूध, चाय व कॉफी पी सकते हैं।
  • खाने में 60 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट यानी गेहूं या उससे बनी चीजें, कैलोरी जैसे दाल या सूखे मेवे 15 से 20 प्रतिशत लें।
  • कोलेस्ट्रॉल यानी मक्खन, देसी घी, मलाईयुक्तदूध आदि 200 मिलीग्राम से अधिक नहीं लें। 
  • ताजे फल 3 से 5 बार अवश्य खाएं। सेब, संतरा, मौसमी, केला, पपीता, गाजर, तरबूज, अमरूद, टमाटर, बेर, जामुन, जैसे फल उपयोगी हैं।
  • अंकुरित चना या मूंग रोज खाएं, उसना चावल एवं चोकर सहित गेहूं का ही प्रयोग करें।

फाइबर यानी रेशेदार चीजें खाना फायदेमंदखून में से शुगर को सोखने में फाइबर काफी उपयोगी है। फाइबर एक ओर पानी को अधिक देरतक रोक कर खाना पचाने में सहायक होता है तो वहीं खाने से अवशोषित शुगर की अधिक मात्रा को सोख कर इंसुलिन को नार्मल कर शुगर  नियंत्रित रखता है। धूप की रोशनी  भी है जरूरी थोड़ी देर सूरज की रोशनी में बैठने से अच्छी मात्रा में विटामिन डी मिलता है जो  शरीर में प्राकृतिक इंसुलिन बनाने में सहायक होता है। यदि शरीर में विटामिन डी की कमी हो जाती है तो इंसुलिन कम हो जाती है।  दस बादाम व अखरोट का दमडायबिटिक को प्रतिदिन एक मुट्ठी कागजी बादाम और अखरोट खाना अच्छा माना जाता है। इसमें उत्तम कोटि का प्रोटीन होता है और 80 प्रतिशत घुलनशील फाइबर होता है जो कोलेस्ट्रोल घटाता है। ये कब्ज दूर कर आंतों को ठीक रखता है। ये इंसुलिन को संवेदनशील ओर कारगर बनाती है। इसका मैग्निीशियम, विटामिन -6, आयरन, जिंक, कॉपर, मैंगनीज, सेलेनियम, थायमीन, आदि पोषक तत्व डायबिटीज होने से बचाता है और ब्लड शुगर नियंत्रित करता है। इसे खाने से वजन भी कम होता है। 

इन खाद्य तेलों का करें उपयोगऑलिव ऑयल, सरसों का तेल, तिल का तेल, सूरजमुखी का तेल, सन फ्लावर तेल के कांबिनेशन का इस्तेमाल करें। ये पूफा और मूफा युक्त होते हैं, जो अच्छे कोलेस्ट्राल को बढ़ाते हैं। तीसी या अलसी का तेल या चूर्ण लेने से ओमेगा-3 फैटी एसिड मिलता है। इसी प्रकार राइस ब्रान, सोयाबीन ऑयल, में अल्फा लीनोलीक रहता है, जो ओमेगा:3 में बदल जाता है। ओमेगा : 3 ह्रदय के लिए अच्छा माना जाता है। 

Categories: Bihar News

Corona Fighters: बिहार में जीविका दीदियों ने अब तक बनाए पांच लाख मास्क, बिजली कंपनियों ने खरीदा सबसे ज्‍यादा

Dainik Jagran - April 7, 2020 - 5:20pm

पटना, राज्य ब्यूरो। कोरोना से बचाव के लिए जीविका दीदी अस्पतालों और आम लोगों के लिए मास्क बनाने का कार्य युद्धस्तर पर कर रही हैं। मंगलवार तक राज्य के अलग-अलग हिस्सों में जीविका समूह ने 5,07,947 मास्क का निर्माण किया है। इसमें से अकेले साउथ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी ने 44 हजार मास्क की खरीद की है। यह जानकारी ग्रामीण एवं संसदीय कार्य मंत्री श्रवण कुमार ने मंगलवार को दी।

मंत्री श्रवएा कुमार ने कहा कि बिहार में में मास्क की कमी न हो, इसके लिए जीविका समूह लगातार प्रयासरत हैं। छोटे से जिले शेखपुरा तक में इस समूह ने अब तक 66,675 मास्क बनाए हैं। इसके अलावा पूर्वी चंपारण में 51 हजार, मधुबनी में 42979, औरंगाबाद में 28649, प. चंपारण में 23975, गया में 22669, जहानाबाद में 20,892 मास्क बनाए गए हैं।

उन्‍होंने कहा कि नालंदा में कार्य देर से शुरू हुआ, मगर इस जिले ने सिर्फ छह अप्रैल को ही 9100 मास्क बना डाले। उन्होंने कहा कि इन मास्क की स्थानीय बाजार में भी खपत हो रही है। इसके अलावा समाचार पत्रों, बैंक और कई स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा भी अपने कर्मचारियों के लिए भी यह मास्क बड़ी संख्या में प्रयोग किए जा रहे हैं। सरकार की ओर से भी आम लोगों के बीच इन मास्क का वितरण किया जा रहा है।

गौरतलब है कि कोरोना वायरस को लेकर बिहार पूरी तरह अलर्ट है। आम से लेकर खास तक गली-गली तक इसे लेकर लोगों को जागरूक कर रहे हैं। लोगों को किसी प्रकार की कोई दिक्‍कत नहीं हो, इसके लिए उन्‍हें मास्‍क लगाने को कहा जा रहा है तथा मास्‍क उपलब्‍ध भी कराया जा रहा है। मास्‍क की कमी नहीं हो, इसके लिए जीविका दीदी युद्ध स्‍तर पर मास्‍क बनाए जा रहे हैं। हालांकि, यह सुकून देने वाली खबर है कि कोरोना संक्रमित लोगों की संख्‍या पिछले तीन दिनों से स्थिर है।  

Categories: Bihar News

Coronavirus Lockdown: न्यूयॉर्क के चिडिय़ाघर में बाघिन को कोरोना वायरस की सूचना पर बिहार का VTR अलर्ट

Dainik Jagran - April 7, 2020 - 4:40pm

पश्चिम चंपारण, जेएनएन। न्यूयॉर्क के चिडिय़ाघर में बाघिन के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद वीटीआर (वाल्मीकि टाइगर रिजर्व) प्रशासन अलर्ट हो गया है। मुख्य वन संरक्षक हेमकांत राय ने वन अधिकारियों की छुट्टी अगले आदेश तक रद कर दी है। साथ ही वनकर्मियों को निर्देश दिए गए हैं कि वे अगले आदेश तक वन क्षेत्र से बाहर नहीं निकलें। ड्यूटी के दौरान फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करें। अधिकारियों का मानना है कि घर जाने के दौरान यदि कोई कर्मी कोरोना संक्रमित हो गया तो जानवरों की सुरक्षा खतरें में पड़ जाएगी । 

40 से अधिक बाघ हैं वीटीआर में

890 वर्ग किलोमीटर में फैले वीटीआर में 40 से अधिक बाघ, पांच हाथी और 110 भालुओं के अलावा अन्य कई जानवर हैं। लॉकडाउन के बाद से यहां पर्यटकों के प्रवेश पर पहले से पाबंदी है। लेकिन, अब पशुपालकों को भी जंगली क्षेत्र में मवेशियों को चराने पर रोक लगा दी गई है। मुख्य वन संरक्षक के आदेश के बाद वन प्रमंडल एक तथा दो के डीएफओ नियमित रूप से वनकर्मियों की कार्यशैली की समीक्षा कर रहे। वीटीआर के 45 एंटी पोङ्क्षचग सेंटरों में 250 कर्मियों को सेल्फ क्वारंटाइन किया गया है। ये ऐसे कर्मी हैं जो हाल में घर आए-गए हैं। जबकि 700 कर्मी लॉकडाउन का पालन करते हुए ड्यूटी कर रहे हैं। 

बंदरों से खतरा बढ़ा

वीटीआर में बड़ी संख्या में बंदर, ङ्क्षचपांजी और गोरिल्ला हैं। बंदर भोजन की तलाश में रिहायशी इलाकों में जाते रहते हैं। इससे भी कोरोना का खतरा है। इसे देखते हुए वनकर्मी बंदरों की ट्रैङ्क्षकग कर रहे हैं। मुख्य वन संरक्षक, वीटीआर का कहना है कि कोरोना के संक्रमण का खतरा वन्य जीवों पर भी है। इसलिए एहतियात के तौर पर अलर्ट किया गया है। 

पशु चिकित्सक का एक पद, वह भी खाली 

वीटीआर में पशु चिकित्सक का एक पद है। वह भी इस समय खाली है। बगहा के पशु चिकित्सक से काम चलाया जाता है। पशु चिकित्सक के अनुसार वीटीआर में कोरोना से बचाव के लिए जानवरों के पानी पीने वाली जगह को सैनिटाइज करने, वनकर्मियों की ओर से फिजिकल डिस्टेंङ्क्षसग का ख्याल रखने और सैनिटाइजर का इस्तेमाल करने सहित उपाय को जरूरी बताया।

Categories: Bihar News

बड़ी राहत: बिहार में तेजी से ठीक हो रहे कोरोना मरीज, 11 गए घर, आज शाम चार होंगे डिस्चार्ज

Dainik Jagran - April 7, 2020 - 4:20pm

जागरण टीम, पटना। बिहार के लिए बड़ी राहत की बात है कि राज्य में कोरोना के मरीज तेजी से ठीक हो रहे हैं। प्रदेश में अबतक 11 मरीज ठीक होकर घर जा चुके हैं तो वहीं आज शाम चार और मरीजों को अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा सकता है। बता दें कि कल शाम एक साथ पांच मरीजों को पटना के कोरोना अस्पताल घोषित एनएमसीएच से डिस्चार्ज किया गया था तो वहीं आज दोपहर बाद भागलपुर के जेएलएनएमसीएच से कोरोना संक्रमित छह मरीजों की अंतिम जांच रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद अस्पताल से डिस्‍चार्ज कर दिया गया है।

इन छह मरीजों में से दो को घर भेजा जा चुका है तो वहीं, चार को शाम तक डिस्‍चार्ज होने की इउम्‍मीद है।बता दें कि कोरोना से संक्रमित हुए मृतक मरीज की मां और उसके पडेास में रहने वाला बच्‍चे की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी जिसके बाद उनका इलाज किया गया और आज उनकी फाइनल जांच रिपोर्ट निगेटिव आ गयी है जिसके बाद उन्हें घर भेज दिया गया है। बता दें कि दोनों आइसोलेशन वार्ड में भर्ती थे।

 

सोमवार को पटना के नालंदा मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल (एनएमसीएच) में बनाई गई इंटरनल गाइडलाइन पर इलाज करते हुए सोमवार को पांच कोरोना पॉजिटिव युवकों को स्वस्थ करने में सफलता मिली है। फाइनल जांच रिपोर्ट निगेटिव आने पर सभी को डिस्चार्ज किया गया है। पांचों ने डॉक्टरों, नर्सो और अस्पतालकर्मियों की सराहना की।

अस्पताल के अधीक्षक डॉ. निर्मल कुमार सिन्हा ने बताया कि इनमें चार युवक सिवान के हैं और एक शरणम अस्पताल, पटना का वार्ड ब्वॉय है जो मुंगेर के संक्रमित मृत युवक के संपर्क में आया था।

24 वर्षीय सूरज कुमार जो खेमनीचक के निवासी हैं, ने बताया कि शरणम अस्पताल में वार्ड ब्वॉय हूं। पटना एम्स में भर्ती जिस कोरोना पॉजिटिव मरीज की मौत हुई थी वह एम्स से पहले मेरे अस्पताल में आया था। उसके इलाज के दौरान मैं संपर्क में आ गया। इस अस्पताल के दो कर्मी संपर्क में आए थे। इनमें से एक कर्मी पहले ही डिस्चार्ज हो चुकी है।

स्वास्थ्य विभाग की जानकारी के अनुसार प्रदेश में कोरोना की जांच प्रारंभ होने के बाद से लेकर सोमवार तक कुल 3689 सैंपल की जांच हुई है। इसमें अब तक कुल 32 पॉजिटिव केस मिले हैं। अच्छी बात यह है कि इनमें से सोमवार तक कुल नौ पॉजिटिव मरीज ठीक भी हो चुके हैं। चार मरीज पहले ही ठीक होकर घर जा चुके हैं। आज और पांच मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उन्हें घर जाने की अनुमति दी गई। राज्य में अब तक एक कोरोना पॉजिटिव की मौत हुई है।

 

Categories: Bihar News

पटना में ईंट बंटवारे को लेकर बेटे को पीटने लगा पिता, बड़े भाई ने किया विरोध तो मार दी गोली

Dainik Jagran - April 7, 2020 - 3:47pm

पटना, जेएनएन। दुल्हिन बाजार थाना क्षेत्र के सोनियावा गांव में मंगलवार की सुबह पिता-पुत्र में ईंट बंटवारे को लेकर झगड़ा हो गया। छोटे बेटे को पीट रहे पिता का जब बड़े बेटे ने विरोध किया तो तैश में आकर उसने छोटे बेटे को गोली मार दी। गोली युवक के सीने को छूते हुए दाएं हाथ में जा लगी, बाद घायल सुधीर कुमार को इलाज के लिए स्थानीय लोगों ने पीएचसी में भर्ती कराया। जहां उसकी हालत खतरे के बाहर बताई जा रही है। मामले में आरोपित पिता को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है।

बात-बात में होने लगी मारपीट

बताया जाता है कि अजय यादव ने पहली पत्नी की मौत के बाद दूसरी शादी कर ली थी। पहली पत्नी से सुधीर कुमार (19) व रंधीर कुमार (17) दो पुत्र हैं जो अजय की दूसरी शादी के बाद से अलग रहते हैं। मंगलवार सुबह ईंट बटवारे को लेकर पिता अजय यादव व पुत्र सुधीर कुमार आपस में गाली-गलौज करने लगे। कुछ ही देर में बात मारपीट में बदल गई। इस दौरान छोटे पुत्र रंधीर कुमार को अकेला देख पिता ने पीटकर गंभीर रूप से जख्मी कर दिया। हो-हल्ला सुनकर बड़ा पुत्र सुधीर कुमार पहुंचा ही था कि आक्रोशित पिता ने उसे गोली मार दी।

बेटे के बयान पर पिता पर प्राथमिकी

पिता की पिटाई से सुधीर कुमार गंभीर रूप से जख्मी हो गया। छर्रा सुधीर के सीने को छूता हुआ दाएं हाथ में जा लगा। सूचना पर पहुंची पुलिस ने दोनों जख्मी को इलाज के लिये पीएचसी में भर्ती करा दिया है। जहां दोनों की हालत खतरे के बाहर है। थानाध्यक्ष अशोक कुमार ने बताया कि पिता के द्वारा पुत्र को गोली मारने की बात सामने आई है। घायल पुत्र के बयान पर आरोपित पिता को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। मामले की जांच की जा रही है। 

Categories: Bihar News

CoronaVirus: RJD सुप्रीमो लालू यादव को मिल सकती है बड़ी राहत, आ सकते हैं जेल से बाहर!

Dainik Jagran - April 7, 2020 - 3:28pm

पटना /रांची,जेएनएन। देशभर में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस के संक्रमण के बीच झारखंड में भी कोरोना के केसेज बढ़े हैं। इसे देखते हुए अनुमान लगाया जा रहा है कि रांची के होटवार जेल में बंद बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को इसे लेकर बड़ी राहत मिल सकती है और वह जेल से बाहर आ सकते हैं। झारखंड सरकार उन्हें पैरोल देने पर विचार कर रही है।

जानकारी के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मद्देनजर भी लालू यादव को कोरोना को लेकर पैरोल दिया जा सकता है। राज्य सरकार के मंत्री बादल ने इस बात की पुष्टि भी की है। बादल के मुताबिक पैरोल को लेकर राज्य सरकार ने कारा विभाग से बातचीत की है।  बता दें कि कोरोना वायरस संक्रमण के खतरे से निपटने के लिए जेल प्रशासन को सजायाफ्ता कैदियों के पैरोल देने के संबंध में सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में फैसला सुनाया था।

लालू यादव की पत्नी और बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने भी झारखंड सरकार से गुहार लगाई है कि कोरोना के चलते अन्य राज्यों में कैदियों को छोड़ा जा रहा है तो झारखंड सरकार को भी राजद प्रमुख और चारा घोटाले में सजा काट रहे लालू प्रसाद को छोड़ देना चाहिए।

उन्हों ने कहा कि इसके लिए ने झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन से बात करेंगी। हेमंत सोरेन से आग्रह करेंगी कि जब सुप्रीम कोर्ट ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए 17 मार्च को अधिकतम सात साल की सजा पाए ज्यादा उम्र वाले कैदियों, खासकर बीमार रहने वालों को जेल से रिहा करने के निर्देश दिए हैं, लोग रिहा किए जा रहे हैं तो लालू प्रसाद को क्यों  जेल में रखा गया है।

राबड़ी ने कहा कि लालू प्रसाद कोरोना से डरे नहीं हैं। लेकिन उनकी उम्र अधिक है और वे मधुमेह, किडनी समेत कई बीमारी से ग्रसित हैं। ऐसे में उन्हें रिहा कर देना चाहिए।

विदित हो कि 6 जनवरी 2018 को स्पेशल सीबीआई कोर्ट ने लालू प्रसाद को चारा घोटाला के एक मामले में साढ़े तीन साल की सजा और पांच लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई थी। इसके बाद से वे जेल में हैं। वैसे इससे पहले भी वे इस घोटाले में सजा काट चुके हैं। कांग्रेस भी जेल में लालू को कोरोना संक्रमण का खतरा बता उनकी रिहाई की मांग कर चुकी है। कांग्रेस नेता कौकब कादरी ने पिछले दिनों कहा था कि संक्रमण और लालू के गिरते स्वास्‍थ्‍य को देखते हुए उन्हें  जेल से रिहा कर दिया जाए। लालू की उम्र 72 साल से ऊपर हो चुकी है।

Categories: Bihar News

Lockdown में फंसे बिहारियों को एक-एक हजार दे रही सरकार, कागजात के साथ दें सेल्‍फी

Dainik Jagran - April 7, 2020 - 3:03pm

पटना, जेएनएन। कोरोना संक्रमण के करण लॉकडाउन में राज्‍य के बाहर फंसे बिहारियों को राज्‍य सरकार एक-एक हजार रुपये की सहायता राशि दे रही है। इसे प्राप्‍त करने के लिए मोबाइल पर 'बिहार कोरोना सहायता ऐप' डाउनलोड करे और उसमें सेल्‍फी व कुछ कागजात के साथ जानकारी दर्ज करें। यह राशि मुख्‍यमंत्री राहत कोष से दी जा रही है। बिहार सरकार के आपदा प्रबंधन विभाग ने आवेदकों को राशि पाने में कोई परेशानी होने पर संपर्क के लिए वेबसाइट, ई-मेल मोबाइल नंबरों की भी जानकारी दी है।

बाहर फंसे बिहारियों को एक-एक हजार की तत्‍काल सहायता

लॉकडाउन में सूबे से बाहर फंसे लोगों को बिहार सरकार एक-एक हजार रुपये की तत्‍काल सहायता दे रही है। इसके लिए ऐसे लोगों को सेल्‍फी के साथ आधार कार्ड की कॉपी व बिहार के किसी बैंक में अपने नाम से खाता की जानकारी देनी है। लाभार्थी के फोटो (सेल्फी) का मिलान आधार डेटाबेस के फोटो से भी किया जायेगा, इसलिए आधार का फोटो स्‍पष्‍ट होना चाहिए।

मोबाइल ऐप पर जानकारी मिलने के बाद जांच, फिर भुगतान

मोबाइल ऐप पर जानकारी मिलने के बाद जीपीएस ट्रैकिंग कर पता लगाया जा रहा है कि आवेदक बिहार से बाहर है या नहीं। इसके बाद भुगतान की प्रक्रिया शुरू की जा रही है। सेल्फी के साथ मांगी गई जानकारी देते ही उसे राज्‍य मुख्‍यालय जांच के बाद संबंधित जिले को भेज दे रहा है। फिर जिला स्‍तर पर राशि को स्वीकृत किया जा रहा है। केवल पश्चिम चंपारण की बात करें तो अब तक 6257 लोगों के खातों एक-एक हजार रुपये का भुगतान किया जा चुका है।

आवेदक को ऐप डाउनलोड व ऑपरेट करने की भी दे रहे जानकारी

पश्चिम चंपारण के प्रवासी श्रमिक कोषांग के वरीय प्रभारी पदाधिकारी एवं अपर समाहर्ता (एडीएम) नंद किशोर साह ने बताय कि बाहर फंसे श्रमिकों को न केवल राशि का भुगतान किया जा रहा है, बल्कि आवेदक को निर्धारित ऐप डाउनलोड व ऑपरेट करने की जानकारी भी दी जा रही है।

कोई परेशानी हो तो यहां करें संपर्क

राशि पाने में कोई परेशानी हो या मोबाइल एप कोरोना सहायता बिहार से संबंधित कोई तकनीकी सहायता की जरूरत हो तो आवेदक वेबसाइट http://aapda.bih.nic.in पर संपर्क कर सकते हैं। वे ई-मेल cmrf.sadm@gmail.com पर भी जानकारी दे सकते हैं। आवेदक निम्‍नलिखित मोबाइल नंबरों पर भी संपर्क कर सकते हैं-

- कृष्णा: 8789410978

- अभिनव: 7667426822

- राज: 9534547098

- आदर्श: 8292825106

- इंद्रजीत: 986294256

- शुभम: 8271226204

Categories: Bihar News

Positive India: बिहार के कौशल के गीत पर मुस्कुरा रहा इंडिया, PM नरेंद्र मोदी भी हुए मुरीद

Dainik Jagran - April 7, 2020 - 2:34pm

अक्षय पांडेय, पटना। देश में फैल कोरोना वायरस के डर के बीच बिहार के पूर्वी चंपारण के रहने वाले कौशल किशोर के गीत 'फिर मुस्कुराएगा इंडिया' पर बॉलीवुड एकजुट हो गया है। हौसला देते इस गाने का वीडियो खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को अपने टि्वटर अकाउंट पर साझा किया है। पीएम ने माइक्रो ब्लॉगिंग साइट पर लिखा है, फिर मुस्कुराएगा इंडिया...फिर जीत जाएगा इंडिया... भारत लड़ेगा, भारत जीतेगा, फिल्म जगत की हस्तियों की शानदार पहल। गाने की ख्याति का अंदाज इसी बात से लगाया जा सकता है कि कुछ ही घंटों में इसे यू-ट्यूब, टि्वटर और फेसबुक पर लाखों लोगों ने देखा और साझा किया है। 

पटना से अपनी पढ़ाई पूरी करने वाले लेखक कौशल किशोर के गीत को अक्षय कुमार, विकी कौशल, आयुष्मान खुराना, शिखर धवन, कार्तिक आर्यन, सिद्धार्थ मल्होत्रा, कियारा आडवाणी, भूमि पेडनेकर, तापसी पन्नू, राजकुमार राव, टाइगर श्रॉफ और कृति सैनन जैसे सितारे गुनगुनात नजर आ रहे हैं। 'फिर मुस्कुराएगा इंडिया' गीत को प्रोड्यूस अक्षय कुमार और जैकी भगनानी ने किया है। जबकि आवाज और म्यूजिक कंपोजिंग विशाल मिश्रा की है।

बोले कौशल, देश को समर्पित है गीत

कौशल ने बताया कि 'फिर से शहरों में रौनक आएगी, फिर से गांवों में लौटेगी हंसी' जैसे शब्दों से शुरू होता गीत देश को समर्पित है। वे कहते हैं कि इस संकट की घड़ी में लोगों को हौसला देने की जरूरत है। ऐसे में मैंने 3.24 मिनट के गीत में कुछ सकारात्मक संदेश देने की कोशिश की है। 'जो साथ दे सारा इंडिया तो मुस्कुराएगा इंडिया' जैसे शब्द हमारी एकता को दर्शाते हैं।

पीएम ने ट्वीट कर बढ़ाया हौसला

गीत में मैंने शहर के ठहरे जीवन से लेकर खेल के मैदान और गांव का जिक्र किया है। कौशल कहते हैं कि प्रधानमंत्री द्वारा गाने के कुछ शब्द ट्वीट करना मेरे लिए बड़ी बात है। कौशल ने इसके पहले सलमान खान की फिल्म नोटबुक के लिए भी दो गाने लिखे थे, जो काफी पसंद किए गए थे। बता दें कि बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हर क्षेत्र के लोगों और हस्तियों से बात की थी और समाज में कोरोना वायरस को लेकर जागरुकता फैलाने की अपील की थी। 

Categories: Bihar News

पटना की इस सब्जी मंडी में प्रवेश करते ही टनल से सैनिटाइज हो जाएगा पूरा शरीर, जानें इसकी खूबी

Dainik Jagran - April 7, 2020 - 1:16pm

पटना, जेएनएन। अब सब्जी मंडी में जाने और आने के बाद वायरस का डर नहीं रहेगा। पटना नगर निगम ने राजेंद्र नगर सब्जी मंडी में विशेष सैनिटाइजिंग टनल बनाया है। निगम की महापौर सीता साहू और नगर आयुक्त हिमांशु शर्मा की उपस्थिति में सोमवार को जिलाधिकारी कुमार रवि ने इसका उदघाटन किया। इसमें प्रवेश करने वालों का पूरा शरीर सैनिटाइज हो जा रहा है।

12 घंटे फ्री मिलेगी सेवा

जिलाधिकारी ने यहां आने वाले लोगों से लॉकडाउन का पालन करने की अपील की। महापौर सीता साहू ने कहा कि राजेंद्रनगर सब्जी मंडी के बाद मीठापुर सब्जी मंडी, दीघा सब्जी मंडी, बाजार समिति व मुसल्लहपुर सब्जी मंडी सहित अन्य सब्जी मंडियों में सैनिटाइजिंग टनल का निर्माण कराया जाएगा। यह सेवा प्रतिदिन 12 घंटे फ्री मिलेगी। सब्जी मंडियों में भीड़ सामाजिक दूरी का पालन नहीं कर रही है। इससे संक्रमण का डर रहता है।

हर किसी को टनल से होगा गुजरना

नगर निगम विभिन्न सब्जी मंडियों में ऐसी टनल का प्रबंध करने जा रहा है। सब्जी मंडी में दाखिल होने के लिए प्रत्येक व्यक्ति को इसमें गुजरते हुए जाना होगा। प्रवेश एवं निकास के लिए दो अलग-अलग छोर हैं। प्रवेश करते ही चारों तरफ से उस व्यक्ति पर सैनेटाइजर (सोडियम हाइपोक्लोराइट)स्प्रे होगा, जिससे उस व्यक्ति के शरीर पर मौजूद कीटाणु खत्म हो जाएंगे। इस स्प्रे में रसायन व पानी की मात्र को विशेषज्ञों की निगरानी में तैयार किया जाएगा। एलर्जी को रोकने के लिए टनल में नोजल से इस रसायन का छिड़काव कुछ सेकेंड्स मात्र के लिए किया जाएगा। हैदराबाद, हुबली, मैसूर, तिरुपुर, सलेम, इरोड व गोरखपुर आदि शहरों की तर्ज पर टनल का प्रबंध किया गया है। प्रत्येक टनल का निर्माण डेढ़-दो लाख रुपये की लागत से टाटा एवं आएश्र टेक्नोफैब द्वारा किया जा रहा है।

 

Categories: Bihar News

Pages

Subscribe to Bihar Chamber of Commerce & Industries aggregator - Bihar News

  Udhyog Mitra, Bihar   Trade Mark Registration   Bihar : Facts & Views   Trade Fair  


  Invest Bihar