Bihar News

अपराधियों से मुकाबला का हौसला देती यह खबर, जानिए गोली खाकर भी कैसे लुटने नही दिए 24 लाख

Dainik Jagran - 1 hour 40 min ago

सारण [जेएनएन]। आए दिन के अपराध से परेशान अवाम को यह खबर अपराधियों से मुकाबला करने का हौसला देगी। ऐसे ही हौसले की बदौलत छपरा के एक पेट्रोल पंप मालिक ने 24 लाख रुपये लुटने से बचा लिए। साथ ही कांस्‍टेबल ने भी मोर्चा लिया तो दो अपराधी दबोच लिए गए।

विरोध करने पर अपराधियों ने सीने में मार दी गोली

सोमवार को छपरा नगर थाना क्षेत्र स्थित स्टेट बैंक की मुख्य शाखा में डाकबंगला रोड स्थित प्रसाद पेट्रोल पंप के मालिक अमित खन्ना बाइक से बड़ी रकम जमा करने जा रहे थे। बाइक सवार अपराधी उनके पीछे लग गए। घिरने पर अमित ने अपराधियों से मोर्चा लिया तथा मौका देख रुपयों से भरा बैग बैंक के अंदर फेंक दिया। इस दौरान अपराधियों ने उनके सीने में गोली मार दी।

कांस्‍टेबल ने एक अपराधी को तो दूसरे को लोगों ने पकड़ा

उसी समय बैंक में पासबुक अपडेट कराने आए एक कांस्‍टेबल ने अपराधियों का रास्‍ता रोककर शोर मचाया तथा एक अपराधी को पकड़ लिया। कांस्‍टेबल की हिम्‍मत देखकर स्‍थानीय लोगों का भी हौसला बढ़ा। उन्‍होंने एक और अपराधी को दबोच लिया।

घायल पेट्रोल पंप मालिक की हालत गंभीर, पटना रेफर

इसके बाद भीड़ दोनों अपराधियों की धुनाई करने लगी। भीड़ ने अपराधियों की बाइक भी फूंक दी। इस दौरान कांस्‍टेबल ने लोगों को कानून हाथ में नहीं लेने का आग्रह करता रहा। बाद में लोगों ने समझाने पर अपरधियों को पुलिस के हवाले कर दिया। उधर, गंभीर रूप से घायल पेट्रोल पंप मालिक को प्राथमिक उपचार के बाद पटना रेफर किया गया है।

उत्‍तर प्रदेश के मऊ जेल में रची थी लूट की साजिश

नगर थाने पहुंचे डीआइजी ने दोनों अपराधियों से पूछताछ की। गिरफ्तार अपराधियों में एक बेतिया के शिकारपुर थाने के कटघरवा का आदित्य कुमार व दूसरा वाराणसी के सारनाथ का तेजबहादुर पटेल है। तीसरा फरार अपराधी जौनपुर का सौरभ कुमार है। उन्‍होंने पेट्रोल पंप के कैश की लूट की साजिश उत्‍तर प्रदेश के मऊ जेल में रची थी। इसमें छपरा के रंजन कुमार ने लाइनर का काम किया था। साजिश को अंजाम देने अपराधी वाराणसी से श्रमिक एक्सप्रेस से छपरा पहुंचे थे।

बहादुर कांस्‍टेबल कौशल किशोर पुरस्कृत

डीआइजी विजय कुमार वर्मा ने बहादुर कांस्‍टेबल कौशल किशोर को पांच हजार नकद पुरस्कार देने के साथ मुख्यालय से पुरस्कृत करने की अनुशंसा की है।

Categories: Bihar News

CM नीतीश बोले: 60 साल से आगे बढ़े रिटायरमेंट की उम्र, अप्रैल से हर पंचायत में नौवीं की पढ़ाई

Dainik Jagran - 1 hour 41 min ago

पटना [राज्य ब्यूरो]। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि रिटायरमेंट की उम्र 60 साल से बढ़ा देनी चाहिए। पटना के सम्राट अशोक कन्वेंशन केंद्र स्थित ज्ञान भवन में आयोजित शिक्षा दिवस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने यह बात कही। इस मौके पर पुरस्कृत आयकर विभाग के एक रिटायर अधिकारी प्रेम वर्मा के संबोधन का संदर्भ लेते हुए मुख्यमंत्री ने यह बात कही। प्रेम वर्मा ने रिटायर लोगों को बच्चों को पढ़ाने के अपने अभियान से जुड़ने की बात कही थी।

मुख्यमंत्री ने किसी सेवा का जिक्र किए बिना कहा कि जिस वक्त रिटायरमेंट की उम्र 58 वर्ष थी, उस समय वे केंद्र में थे। तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को वे लगातार कहते रहते थे कि इसे बढ़ा दीजिए। इस उम्र लोग रिटायर हो जाते हैैं। जबकि, उनमें कार्य करने की क्षमता रहती है।

बिहार में शिक्षा के क्षेत्र में हो रहे कार्यों की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने हरेक पंचायत में उच्च माध्यमिक विद्यालयों की स्थापना का निर्णय किया है। छह हजार पंचायतों में ऐसे विद्यालय शुरू हो गए हैं। शेष बचे पंचायतों में अगले वर्ष अप्रैल से नौवीं कक्षा की पढ़ाई आरंभ हो जाएगी। शिक्षा विभाग ने यह भी तय किया हैै कि सामाजिक विज्ञान पाठ्यक्रम के तहत आठवीं में मौलाना आजाद की जीवनी पढ़ाई जाएगी।

शिक्षा दिवस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने मौलाना आजाद पर शिक्षा विभाग द्वारा तैयार किए गए एक पुस्तक का भी विमोचन किया। उन्होंने कहा कि इस पुस्तक को सभी स्कूलों तक पहुंचाया जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा विद्यार्थी स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड का लाभ लें। हम यह चाहते हैैं कि बिहार का ग्रॉस एनरॉलमेंट रेशियो 30 फीसद से कम नहीं हो। कोई मजबूरी में बिहार के बाहर पढऩे के लिए नहीं जाए। उन्होंने इस मौके पर यह संकल्प भी दिलाया कि सभी को पढ़ाएंगे। आपस में प्रेम और भाईचारे का भाव रखेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2007 में बिहार में उनकी सरकार ने मौलाना अबुल कलाम की जयंती पर शिक्षा दिवस का आयोजन शुरू किया। अगले ही वर्ष केंद्र सरकार ने भी शिक्षा दिवस मनाना शुरू किया। देश के पहले शिक्षा मंत्री के साथ-साथ आजादी की लड़ाई में भी मौलाना आजाद का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। वे देश के विभाजन के पक्ष में नहीं थे। सर्वधर्म समभाव के पक्षधर थे। उनकी अपील पर विभाजन के बाद देश से बाहर जाने का सिलसिला बंद हो गया। अपने आप में यह बहुत बड़ी चीज थी। पहले शिक्षा मंत्री के रूप में देश में शिक्षा के विकास व महिला शिक्षा के विकास उन्होंने जो काम किया उसे भुलाया नहीं जा सकता है।

Categories: Bihar News

Flashback: जब शेषन को लालू ने कहा था 'पगला सांड़', बोले- 'भैंसिया पर चढ़ा गंगाजी में हेला देंगे'

Dainik Jagran - 4 hours 26 min ago

पटना [अमित आलोक]। भारत के 10वें मुख्य चुनाव आयुक्त (Chief Election Commissioner) टीएन शेषन (TN Seshan) नहीं रहे। रविवार को चेन्नई में 86 साल की उम्र में उनका निधन हो गया। ये शेषन ही थे, जिन्‍होंने लोकतंत्र (Democracy) में चुनाव आयोग (Election Commission) की ताकत का अहसास कराया था। 12 दिसंबर 1990 से 11 दिसंबर 1996 तक मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त रहे शेषन ने चुनाव सुधार की शुरुआत बिहार (Bihar) से की थी। वे बिहार के तत्कालीन मुख्यमंत्री (Chief Minister) लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) की आंखों की ऐसी किरकिरी बन गए थे कि एक बार लालू ने उन्‍हें 'पगला सांड़' (Mad Bull) कह दिया था। लालू अपने अंदाज में उनकी आलोचना करते हुए कहते थे कि वे ''शेषनवा (टीएन शेषन) को भैंसिया (भैंस) पर चढ़ाकर गंगाजी में हेला (बहा) देंगे।'

1995 में बिहार से चुनाव सुधार की शुरुआत

टीएन शेषन ने अपने चुनाव सुधार अभियान की शुरूआत 1995 के बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) से की थी। उस दौर में बिहार का चुनाव बूथ लूट (Booth loot) व हिंसा (Violence) के लिए बदनाम था। शेषन ने स्‍वतंत्र व निष्‍पक्ष चुनाव (Free and fair Election) कराने पर फोकस किया। उन्‍होंने इसके लिए सुरक्षा के व्‍यापक बंदोबस्‍त किए। साथ ही पहली बार कई चरणों में मतदान (Voting in phases) कराने का फैसला किया।

पहली बार कई चरणों में कराए गए चुनाव

1995 के विधानसभा चुनाव में लालू बिहार में दूसरी बार सत्ता पाने के लिए प्रयास कर रहे थे। विपक्षी दलों ने लालू पर चुनाव में अधिकारियों से मिलकर भ्रष्‍टाचार का आरोप लगाया, जिसे शेषन ने गंभरता से लिया। उन्‍होंने स्‍वतंत्र व निष्‍पक्ष चुनाव का कब्रिस्‍तान माने जाने वाले बिहार में उदाहरण पेश करने की ठानी। राज्य में बड़े पैमाने पर अर्धसैनिक बलों (Para Military Forces) की तैनाती की गई। पहली बार कई चरणों में चुनाव कराए गए। शेषण ने विभिन्‍न कारणों से उस विधानसभा चुनाव की तिथियों में चार बार परिवर्तन किया। इससे लालू प्रसाद यादव उन्‍हें अपनी जीत कर राह का सबसे बड़ा रोड़ा मानने लगे। कहना नहीं होगा कि लालू अपने ठेठ अंदाज में शेषन के आलोचक बन गए।

तब लालू के गुस्‍से के केंद्र में होते थे शेषण

चुनाव के दौरान शेषन व लालू के बीच जो भी हुआ, उसकी कहानी पत्रकार संकर्षण ठाकुर (Sankarshan Thakur) ने अपनी किताब 'बंधु बिहारी' (The Brothers Bihari) में दी है। चुनाव के दौरान हर सुबह अपने आवास पर होने वाली अनौपचारिक बैठकों में लालू के गुस्‍से के केंद्र में शेषण ही होते थे। ऐसी ही एक बैठक में उन्होंने कहा था, ''शेषन पगला सांड़ (Mad Bull) जैसा कर रहा है। मालूम नहीं है कि हम रस्सा बांध के खटाल में बंद कर सकते हैं।''

गुस्‍से में खो बैठे आपा, फोन पर जमकर बरसे

संकषर्ण ठाकुर लिखते हैं कि लालू यादव का गुस्‍सा तब चरम पर था, जब शेषन ने चुनाव को चौथी बार स्थगित कर दिया। तब लालू स्‍वयं कुछ-कुछ पगलाए सांड़ की तरह हो गए थे। लालू यादव बिहार के तत्कालीन मुख्य निर्वाचन अधिकारी आरजेएम पिल्लई को फोन कर उनपर जमकर बरसे। बोले, ''पिल्लई, हम तुम्हारा चीफ मिनिस्टर और तुम हमारा अफसर। ई शेषनवां कहां से बीच में टपकता रहता है? ...फैक्‍स भेजता है। ...सब फैक्‍स-वैक्स उड़ा देंगे, इलेक्शन हो जाने दो।"

कहते थे- भैंसिया पे चढ़ाकर गंगाजी में हेला देंगे

संकर्षण ठाकुर ने लिखा है कि लालू यादव उन दिनों शेषन को अपने अंदाज में कोसते रहते थे। कहते थे, ''शेषनवा को भैंसिया पे चढ़ाकर गंगाजी में हेला देंगे।''

चुनाव में पहले से मजबूत बनकर उभरे लालू

खैर, बिहार विधानसभा का वह चुनाव सम्पन्न हुआ। चुनावी नतीजे लालू यादव के पक्ष में रहे। वे पहले की तुलना में अघिक मजबूती के साथ सत्‍ता में आए। चुनाव में बूथ लूट आदि नहीं हुई, लेकिन इसके लंबा खिंचने का फायदा लालू को ही हुआ। इससे उन्‍हें राज्‍य के छोटे से छोटे इलाके में अपनी बात पहुंचाने में आसानी हुई।

संकषर्ण ठाकुर की किताब में इसकी भी चर्चा है। वे लिखते हैं कि लालू सार्वजनिक तौर पर भले ही शेषण की आलोचना करते थे, लेकिन चुनाव के लंबा खिंचने से प्रसन्‍न भी थे।

दिखाई चुनाव आयोग की वास्तविक शक्ति

जो भी हो, ये शेषण ही थे, जिन्‍होंने चुनाव आयोग की वास्तविक शक्ति से परिचित कराया। साथ ही बूथ-लूट और चुनावी हिंसा की राकथाम में बड़ी भूमिका निभायी। बिहार के उपमुख्‍यमंत्री (Dy. CM) व भारतीय जनता पार्टी (BJP) के वरीय नेता सुशील मोदी (Sushil Modi) कहते हैं कि  टीएन शेषन के चुनाव सुधार के जो कड़े व बड़े कदम उठाये, उससे बिहार में जंगलराज (Jungle Raj) के अंत की शुरुआत हुई। सुशील मोदी कहते हैं कि अगर शेषन न होते तो न चुनाव आयोग मजबूत होता, न बिहार में निष्पक्ष चुनाव हो पाते।

Categories: Bihar News

जीतनराम मांझी ने महागठबंधन को दिया अल्टीमेटम, कांग्रेस ने दिया जवाब, जानिए

Dainik Jagran - 7 hours 54 min ago

पटना, जेएनएन। बिहार के पूर्व सीएम और हम, हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा के प्रमुख जीतन राम मांझी आजकल महागठबंधन से खासे नाराज चल रहे हैं। वीआइपी के मुकेश सहनी से करीबी होने के बाद मांझी ने अब महागठबंधन को अल्टीमेटम देकर कहा है कि इस साल दिसंबर तक अगर महागठबंधन में को-ऑर्डिनेशन कमेटी नहीं बनी तो हम भी सोचेंगे और तीसरा फ़्रंट बनाने की तैयारी करेंगे। 

जीतनराम मांझी के पैंतरे पर कांग्रेस ने पलटवार करते हुए तंज कसा है और कहा है कि शर्तों को रखकर तालमेल नहीं किया जाता है। कांग्रेस नेता कौकब कादरी और समीर कुमार ने कहा कि लालसा पूरी करने के लिए बार-बार फैसले बदलते रहते हैं लोग। गठबंधन में रहकर इधर -उधर की बातें करना गलत है।

सोमवार को जीतनराम मांझी ने बयान दिया है कि मुझे विधानसभा के उपचुनाव में धोखा दिया गया। पहले से बातें तय होने के बाद भी मेरे ऊपर ही फैसला थोपा गया। अगर हम उपचुनाव में नाथनगर की सीट पर मिलकर लड़ते तो वहां भी हमारी ही जीत होती।

ओवैसी की पार्टी के साथ आने के सवाल पर मांझी ने कहा कि बिहार में दलित-मुस्लिम एक होकर सियासत करेंगे तभी कल्याण है, वरना किसी का कल्याण नहीं होगा। ओवैसी के साथ आने के सवाल पर मांझी ने कहा कि ये ओवैसी के लोग जानें कि साथ आएंगे या नहीं। लेकिन हमने एक कॉल दे दिया है कि दलित-मुस्लिम को साथ आकर ही सियासत करनी चाहिए।

इधर, महागठबंधन से अलग होने की मांझी की घोषणा के साथ ही बिहार में बीजेपी के कई नेताओं का उनसे मिलने-जुलने का सिलसिला बढ़ गया है। गुरुवार को बीजेपी के एमएलसी संजय पासवान ने मांझी से मुलाकात की थी, फिर इसके बाद शुक्रवार को बीजेपी विधायक रामप्रीत पासवान भी उनके मिलने पहुंचे थे। हालांकि इस दौरान दोनों के बीच क्या बातें हुईं इसको लेकर कुछ खुलासा नहीं हुआ है?

Categories: Bihar News

शिवसेना-BJP की 30 साल पुरानी दोस्ती टूटी, बिहार के CM नीतीश ने कही ये बड़ी बात

Dainik Jagran - 11 hours 3 min ago

पटना, जेएनएन। केंद्र की मोदी सरकार में शामिल शिवसेना के इकलौते मंत्री अरविंद सावंत के इस्तीफे के साथ ही शिवसेना और बीजेपी की 30 साल पुरानी दोस्ती खत्म हो गई है। इस मामले पर जब बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से सवाल पूछा गया तो उन्होंने दो टूक कहा कि ये तो उनलोगों की बात है ! इस सबसे हमको क्या? 

अरविंद सावंत ने ट्विटर पर अपने इस्तीफे की जानकारी दी और कहा कि शिवसेना का पक्ष सच्चा है, जो झूठे माहौल के साथ नहीं रहा सकता है।

Chief Minister of Bihar, Nitish Kumar on being asked 'Shiv Sena has left NDA, what do you have to say?': Vo jaane bhai isme humko kya matlab hai? pic.twitter.com/ayIKzNPEkr

— ANI (@ANI) November 11, 2019

अरविंद सावंत के इस्तीफे के ऐलान के साथ ही तय हो गया है कि शिवसेना एनडीए से बाहर हो गई है। शिवसेना और बीजेपी की दोस्ती 30 साल पुरानी थी। महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर कांग्रेस और एनसीपी ने भी सोमवार को बैठक बुलाई है। इस बैठक के बाद ही तय हो पाएगा कि क्या कांग्रेस और एनसीपी शिवसेना को अपना समर्थन देगी या नहीं। 

बता दें कि महाराष्ट्र के राज्यपाल ने बीजेपी द्वारा सरकार न बनाने की बात कहने के बाद शिवसेना को सरकार बनाने का न्योता दिया है और चर्चा है कि आज शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे एनसीपी प्रमुख शरद पवार से मुलाकात करेंगे।

इससे पहले एनसीपी ने महाराष्ट्र में सरकार बनाने से पहले शिवसेना के सामने एनडीए से अलग होने की शर्त रखी थी। एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा था कि अगर शिवसेना को हमारे साथ मिलकर सरकार बनाना है तो उन्हें पहले मोदी सरकार से नाता तोड़ना होगा।

बता दें कि बीजेपी और शिवसेना बीते 25 वर्षों से ज्यादा समय तक गठबंधन का हिस्सा रहे हैं और महाराष्ट्र में मौजूदा हालात की वहज से इनका गठबंधन टूटने की कगार पर है। 

Categories: Bihar News

सिर पर पगड़ी, हाथ में तलवार, भोजपुरी स्टार अक्षरा सिंह को ये हुआ क्या है, जानिए खास

Dainik Jagran - 12 hours 2 min ago

पटना, जेएनएन। भोजपुरी सिनेमा की स्टार और शो क्वीन अक्षरा सिंह को बाबू वीर कुंवर सिंह की धरती आरा में तलवार और पगड़ी के सम्मानित किया गया। साथ ही उन्हें झांसी की रानी लक्ष्मीबाई की उपाधि से भी विभूषित किया गया। अक्षरा इस सम्मान को पाने वाली पहली फिल्मी कलाकार हैं।

इससे पहले यह सम्मान अब तक सिर्फ बड़े - बड़े नेताओं और अन्य क्षेत्र के दिग्गजों को मिलता रहा है, जिसमें प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री भी शामिल हैं। लेकिन इस बार सन 1857 के नायक बाबू वीर कुंवर सिंह की धरती पर अक्षरा को पगड़ी और तलवार के साथ रानी लक्ष्मीबाई की उपाधि का सौभाग्य मिला, जो आज तक किसी हीरो को भी नहीं मिला।

यह सम्मान अक्षरा सिंह को क्षत्राणी अक्षरा बनाने वाला है, जिससे वे खुद को गौरवान्वित महसूस कर रही हैं। इस बारे में वे कहती हैं कि बाबू वीर कुंवर सिंह की धरती पर मुझे जिस तरह से सम्मानित किया गया, वो अद्भुत है। मैंने कभी ये सोचा नहीं था कि मुझे इस तरह से वहां सम्मानित किया जाएगा।

जिस तरह पूर्व में दिग्गज हस्तियों को सम्मानित किया जाता रहा है। इस प्यार और दुलार के लिए आरा की महान जनता ने मुझे अपना ऋणी बना लिया। यह मेरे लिए फक्र और गर्व करने वाला है। पगड़ी और तलवार के साथ सम्मान ने मुझे मेरे आत्मविश्वास को और बढ़ाया है।

आपको बता दें कि अक्षरा सिंह आरा अपने शो के सिलसिले में गयीं थीं, जहां उन्हें यह सम्मान दिया गया। जो आज तक सम्भवतः किसी हीरो को भी नहीं मिला है। वैसे भी अक्षरा पहले से शो क्वीन तो हैं ही। आज वे भोजपुरी इंडस्ट्री की अकेली ऐसी अदाकारा यूं कहें कलाकार हैं, जो अपने दम पर अकेली फ़िल्म हिट देती हैं और जब स्टेज शो करती हैं, तो उनके शो में लाखों की भीड़ उमड़ पड़ती है।

चाहे वो बिहार हो, मध्यप्रदेश हो या गुजरात। अक्षरा को पसन्द करने वालों की तादाद बहुत ज्यादा है। ऐसे में अक्षरा को आरा में यह सम्मान मिलना किसी बड़ी सफलता से कम नहीं है।

Categories: Bihar News

संजय करोल बने पटना HC के चीफ जस्टिस, राज्यपाल ने दिलायी पद और गोपनीयता की शपथ

Dainik Jagran - 12 hours 3 min ago

पटना, जेएनएन। न्यायमूर्ति संजय करोल आज से पटना हाईकोर्ट के नए मुख्य न्यायाधीश बन गए हैं। उन्हें आज बिहार के राज्यपाल फागू चौहान ने पद और गोपनीयता की शपथ दिलायी। मुख्य न्यायाधीश के शपथ ग्रहण समारोह पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी सहित कई गणमान्य लोग मौजूद रहे।

त्रिपुरा हाइकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश थे संजय करोल

पटना हाईकोर्ट के नवनियुक्त चीफ जस्टिस संजय करोल इससे पहले त्रिपुरा हाइकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश थे।सुप्रीम कोर्ट की कॉलेजियम की अनुशंसा पर पटना हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस अमरेश्वर प्रताप शाही का स्थानांतरण मद्रास हाइकोर्ट कर दिया गया है और उनकी जगह पर संजय करोल को पटना हाईकोर्ट का मुख्य न्यायाधीश बनाया गया है।

हिमाचल प्रदेश के रहने वाले हैं न्यायमूर्ति संजय करोल 

पटना हाईकोर्ट के नव नियुक्त न्यायाधीश संजय करोल मूलतः हिमाचल प्रदेश के रहने वाले हैं। उनका जन्म शिमला में 23 अगस्त 1961 को हुआ था और उन्होंने साल 1986 में वकालत शुरू की थी। साल 1998 से 2003 तक वे हिमाचल प्रदेश के महाधिवक्ता रहे।

फिर 8 मार्च 2007 को उन्होंने जज के पद की शपथ ली। 25 अप्रैल 2017 से 5 अक्टूबर 2018 तक हिमाचल प्रदेश के कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश के रूप में काम किया और 14 नवम्बर 2018 को त्रिपुरा हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश बने।

 

Categories: Bihar News

तेजस्वी ने यूं मनाया अपना जन्मदिन, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहीं तस्वीरें

Dainik Jagran - 13 hours 26 min ago

 पटना, जेएनएन। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने इस बार अपना 30 वां जन्मदिन मनाया। पहले तो उन्होंने पटना में राजद के पार्टी दफ्तर में अपने बड़े भाई तेजप्रताप के साथ बर्थडे का केक काटा। उसके बाद वे दिल्ली के लिए रवाना हो गए। अब उनके जन्मदिन मनाने के शाही अंदाज की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं, जिसमें वे कुछ खास लोगों के साथ चार्टर प्लेन में स्पेशल बर्थडे मना रहे हैं। तेजस्वी के बर्थडे सेलिब्रेशन की ये तस्वीरें सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हो रही हैं।

शाही पार्टी की इन तस्वीरों में तेजस्वी के साथ उनके करीबी संजय यादव और मणि यादव भी दिख रहे हैं तो साथ ही प्लेन में तेजस्वी के साथ लालू यादव के सबसे पुराने और विश्वासी सहयोगी भोला यादव भी शामिल हैं। अभी ये किसी को मालूम नहीं कि ये तस्वीरें कहां की हैं?

बता दें कि तेजस्वी का जन्मदिन शनिवार को था और इससे पहले वे शुक्रवार को अपने पिता लालू यादव की तबियत और हालचाल जानने के लिए रांची के रिम्स अस्पताल गए थे। फिर शनिवार की सुबह वे पटना पहुंच गए थे। फिर उसी दिन शाम को वे दिल्ली रवाना हो गए थे। 

छोटे भाई तेजस्वी के जन्मदिन की सुबह ही बड़े भाई तेजप्रताप ने सुबह में उनकी एक पुरानी तस्वीर पोस्ट की और भावुक ट्वीट भी किया। फिर वे तेजस्वी के आवास गए थे और जन्मदिन के मौके पर अपने स्वभाव के अनुरूप उन्हें धार्मिक ग्रंथ गीता की प्रति उपहार में भेंट की थी।

उसके बाद तेजप्रताप यादव और समर्थकों के साथ केक काटकर तेजस्वी ने अपना जन्मदिन मनाया। इस दौरान उन्होंने 30 पाउंड का केक काटा था। समारोह में पार्टी के कई बड़े नेता भी मौजूद रहे। 

तेजस्वी ने जन्मदिन के मौके पर वृक्षारोपण भी किया। बधाई देने के लिए उन्होंने समर्थकों को धन्यवाद दिया. उन्होंने कहा कि मेरी कोशिश होगी कि अपने एक-एक पल को बिहार की जनता की सेवा में लगाऊं। हमने बिहार को आगे बढ़ाने का सपना देखा है। इसके लिए मुझसे जो भी हो सके करूंगा।

Categories: Bihar News

50 रुपये में कम उम्र के बच्चों को गंदी आदत का शिकार बना रहा था डॉक्टर, हुआ गिरफ्तार

Dainik Jagran - 14 hours 5 min ago

पटना, जेएनएन। महज पचास रुपये में कम उम्र के बच्चों व युवाओं को नशे का इंजेक्शन लगाता था।  एक डॉक्टर फिर जब बच्चे और युवा इसके आदी हो जाते थे तो उनसे वह अपना रोजगार चलाता था। ब्रांड प्रोटेक्शन सर्विसेज के द्वारा सूचना दी गई थी कि पाटलिपुत्र थाना क्षेत्र में कुछ युवा पैंटोसिड नामक इंजेक्शन के जरिए नशे के शिकार हो रहे हैं। इंजेक्शन कहां से आ रहा है और कौन दे रहा है इस पर पुलिस काम करने लगी।

दो दिन पहले एक युवक खुद से हाथ में नशे का इंजेक्शन ले रहा था। इसका वीडियो वायरल हो गया और वीडियो पुलिस तक पहुंच गया, जिसके बाद थानेदार केपी सिंह मामले की जांच में जुट गए।

त्वरित कार्रवाई करते हुए नशे का इंजेक्शन लेने वाले युवक तक पुलिस पहुंच गई और उसकी निशानदेही पर इंजेक्शन बेचने वाले क्लीनिक का ठिकाना भी पता कर लिया। पुलिस ने इंदिरा नगर स्थित अशोक सिंह के मकान में चल रहे शैलेंद्र कुमार के क्लीनिक में दबिश दी। क्लीनिक में विभिन्न प्रकार की दवाएं पाई गईं।

पुलिस ने आयुर्वेदिक डॉक्टर बताकर क्लीनिक खोल युवाओं को नशे का इंजेक्शन लगाने वाले आरोपित झोलाछाप डॉक्टर शैलेंद्र कुमार को गिरफ्तार कर लिया और उसे थाने लाई।। मौके से पुलिस ने एक दर्जन से अधिक नशे के इंजेक्शन और अन्य नकली दवाएं बरामद की हैं। देर शाम तक शैलेंद्र पुलिस या ड्रग विभाग के समक्ष कोई डिग्री या कागजात प्रस्तुत नहीं कर सका। 

पकड़ा गया आरोपित शैलेंद्र कुमार मसौढ़ी थाना क्षेत्र के नदौल बैरमचक का रहने वाला है। औषधि निरीक्षक रंजन कुमार की ओर से पकड़े गए आरोपित के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज कराई गई है। पूछताछ के बाद आरोपित को जेल भेज दिया गया। 

जांच में डिग्री मिली न दवा बेचने का लाइसेंस 

इसके बाद थानेदार ने स्वास्थ्य विभाग को खबर की। थोड़ी देर बाद ही ड्रग इंस्पेक्टर रंजन कुमार और पंकज कुमार वर्मा भी थाने पहुंच गए। ड्रग विभाग की टीम ने शैलेंद्र से पूछताछ और दवा खरीद बिक्री से जुड़ा एक भी अभिलेख बरामद नहीं कर सकी, जिससे शैलेंद्र का क्लीनिक या दवा वैध बताई जा सके। रंजन कुमार ने शैलेंद्र के खिलाफ लिखित आवेदन देकर मुकदमा दर्ज कराया है। 

 किसी नशा मुक्ति केंद्र पर पहले करता था काम 

शैलेंद्र पूर्व में किसी नशा मुक्ति केंद्र पर काम करता था। इस दौरान उसका नशे का सेवन करने वालों से संपर्क हुआ। फिर उसने काम छोड़कर इंदिरा नगर में एक कमरे की दवा दुकान और उसमें क्लीनिक खोल लिया। वह 50 से 200 रुपये लेकर ऑटो, रिक्शा चालक से लेकर युवाओं को नशे का इंजेक्शन बेचता था।

पुलिस अब इस बात की जांच कर रही है कि उसे नशे का इंजेक्शन कौन देता था? कितने लोग उसके संपर्क में हैं? थानेदार केपी सिंह ने बताया कि इन सभी बिंदुओं पर जांच की जा रही है। 

दो साल से कर रहा था धंधा

पुलिस के मुताबिक लड़कों को नशे की लत लगाने का यह काला धंधा पाटलिपुत्रा थाना क्षेत्र के इंदिरा नगर छोटा नाले के पास पिछले दो साल से चल रहा था। आरोपित ने यहां अशोक सिंह के मकान में किराए के कमरे में क्लीनिक खोल रखी थी।

महज 50 रुपए लेकर आरोपित लड़कों को नशे का इंजेक्शन लगाता था। इसके चलते लड़के नशे का इंजेक्शन लगाने के आदी बन जाते थे। इसलिए हर दिन लड़के कथित डॉक्टर के पास जाते थे और फिर रुपए देकर नशे वाला इंजेक्शन लगवाते थे।

ड्रग इंस्पेक्टर रंजन कुमार ने बताया कि वुपिन नारसिन इंजेक्शन का इस्तेमाल नशा विमुक्ति केंद्र में नशे के आदी बन चुके लोगों को ठीक करने के लिए दिया जाता है। इस इंजेक्शन का इस्तेमाल करने से संबंधित व्यक्ति नशे का आदी बन सकता है, जो उसकी जान के लिए जोखिम बन सकता है।

Categories: Bihar News

बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ विधानमंडल के समक्ष देगा धरना

Dainik Jagran - 22 hours 39 min ago

पटना। राज्य के नियोजित शिक्षकों व पुस्तकालयाध्यक्षों के चार वषरें से लंबित सेवा शर्त नियमावली के निर्धारण, सातवा वेतनमान लागू करने सहित विभिन्न लंबित मागों को लेकर 26 से 28 नवंबर तक सत्र के दौरान विधानमंडल के समक्ष बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ शातिपूर्ण धरना देगा।

बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष सह विधान पार्षद केदारनाथ पाडेय और महासचिव सह पूर्व सासद शत्रुघ्न प्रसाद सिंह ने बताया कि यह निर्णय संघ के सचिव मंडल की आपातकालीन बैठक में लिया गया। उन्होंने बताया कि संघ द्वारा लगातार लिखित तथा जिला व प्रमंडल स्तर पर शातिपूर्ण सत्याग्रह कार्यक्रमों द्वारा लंबित मागों के संबंध में सरकार का ध्यान आकृष्ट किया जाता रहा है लेकिन अभी तक मुख्यमंत्री की घोषणा और सरकार के आदेश के बावजूद भी सातवें वेतनमान की अनुशसा के अनुरूप वेतनमान तथा सेवाशर्त नियमावली लागू करने में विभाग विफल रहा है। इससे शिक्षकों व पुस्तकालयाध्यक्षों में व्यापक आक्रोश है।

बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के मीडिया प्रभारी सह प्रवक्ता अभिषेक कुमार ने बताया कि विधान मंडल के समक्ष तीन दिवसीय शातिपूर्ण धरना कार्यक्रम में 26 नवंबर को पूर्णिया, कोशी, तिरहुत प्रमंडल, 27 नवंबर को मुंगेर, दरभंगा और भागलपुर प्रमंडल तथा 28 नवंबर को पटना, मगध, सारण प्रमंडल के शिक्षक, पुस्तकालयाध्यक्ष सहित प्रखंड से प्रमंडल स्तर के सभी संघीय पदाधिकारी भाग लेंगे। साथ ही तीनों दिन राज्य संघ के सभी पदाधिकारी धरनास्थल पर उपस्थित रहेंगे। उन्होंने कहा कि पिछले दिनों संघ द्वारा आयोजित राज्यस्तरीय कन्वेंशन में विभिन्न प्रमंडलों से आए शिक्षक प्रतिनिधियों का सुझाव था कि जिला व प्रमंडल स्तर पर सत्याग्रह व धरना के बाद आगामी विधानमंडल सत्र के दौरान राज्यव्यापी आदोलन किया जाए।

Categories: Bihar News

एनआइटी के मॉडल से दवा की पहुंच होगी सहज

Dainik Jagran - 22 hours 41 min ago

पटना। राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एनआइटी) पटना में रविवार को आइडियाथॉन का आयोजन हैकस्लैश डेवलपमेंट क्लब ने किया। इसमें छात्रों ने सामाजिक व दैनिक दुश्वारियों को कम और सहजता से पूरा करने के लिए कई मॉडल प्रस्तुत किए। एनआइटी पटना के साथ-साथ कोलकाता तथा कई नामचीन संस्थानों के छात्र कार्यक्रम में अपना आइडिया मॉडल के माध्यम से प्रस्तुत किया। सेमिनार में हनसीस स्टार्टअप के संस्थापक शशाक, स्कॉलरली के फाउंडर द्धड्डठ्ठह्यद्बह्य (स्टार्टअप ) मौजूद रहे। स्कॉलरली (स्टार्टअप) के फाउंडर आशुतोष सिंह, क्लब के एडवाइजर अर्णव वत्स और इंशा नदीम ने स्टार्टअप की बारीकियों और दुश्वारियों के साथ-साथ रोजगार सृजन तथा रोजगार की विधाओं से छात्रों को अवगत कराया।

कोलकाता के इकोस्मार्ट को प्रथम स्थान

छात्रों के बीच स्टार्टअप आइडिया पर प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। छात्रों की टीम ने लगभग दो दर्जन स्टार्टअप मॉडल प्रस्तुत किए। इसमें पेपर बैग बनाने की सुगम तकनीक के मॉडल 'इकोस्मार्ट' को प्रथम स्थान मिला। टीम कोलकाता से पहुंची थी। दूसरे और तीसरे स्थान पर क्रमश: एनआइटी पटना की मेडिसर्व और पौरपाफ टीम रही। मेडिसर्व की टीम ने दवाइयों को मरीज तक सहजता से पहुंचाने तथा पौरपाफ ने कौन सा सामान घर में किस जगह पर अच्छा लगेगा, इसे मोबाइल पर देखने के मॉडल को प्रस्तुत किया। कार्यक्रम का संयोजन एनआइटी के छह छात्रों की टीम ने किया। इसमें कुमार हर्ष, पार्थ शर्मा, अनुष्का चंदेल, गरिमा सिंह, राज कोठारी, रक्षिता जैन शामिल थीं। डॉ. कुमार अभिषेक ने टीम को निर्देशित किया। डीन प्रो. प्रकाश चंद्रा ने छात्रों को सफल आयोजन के लिए बधाई दी।

- - - - - - - - - -

Categories: Bihar News

मोकामा में पोखर में डूबने से बच्चे की मौत

Dainik Jagran - 23 hours 13 min ago

पटना मोकामा। थाना क्षेत्र के मोर पश्चिम पंचायत वार्ड 12 निवासी कृष्णा यादव के पुत्र भोला कुमार (7 वर्ष) की मौत पोखर में डूबने से हो गई। घटना रविवार शाम की है। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा।

जानकारी के अनुसार, भोला पोखर के समीप अपने दोस्तों के साथ खेल रहा था। इसी दौरान पैर फिसलने पर वह पानी भरे पोखर में डूब गया। साथ खेल रहे बच्चों ने शोर मचाया तो मौके पर पहुंचे परिजनों ने काफी मशक्कत के बाद शव पोखर से निकाला।

पुनपुन में युवक की पईन में डूबने से मौत

संसू, पुनपुन : थाना क्षेत्र के चंदुआरा के समीप पईन से एक युवक का शव बरामद हुआ है। जिसकी पहचान चंदुआरा निवासी पसिया माझी के रूप में हुई। बताया जाता है कि पसिया मांझी शनिवार की शाम शौच करने गया था, लेकिन वापस नही लौटा। देर रात तक काफी खोजबीन की गई, लेकिन कोई जानकारी नहीं मिली। रविवार की सुबह उसका शव पानी भरे पईन से बरामद हुआ। शौच के दौरान पईन में डूबने से उसकी मौत हो गई। पुनपुन एसएचओ कुंदन कुमार सिंह ने बताया कि युवक की मौत शौच के दौरान पईन में डूबने से हुई है। इस संबंध में मृतक के परिजनों द्वारा कोई भी शिकायत दर्ज नही कराई गई है। धनरुआ के मोरहर नदी से युवक का शव बरामद

संसू, धनरुआ : थाना क्षेत्र के महमदपुर गांव के समीप मोरहर नदी से पुलिस ने रविवार को एक युवक का शव बरामद किया। युवक ने काले रंग का हाफ पैंट पहन रखा है। शव की पहचान नहीं हो सकी है।

जानकारी के मुताबिक, महमदपुर गांव के ग्रामीणों ने रविवार को मोरहर नदी में एक शव को पानी मे तैरते देख धनरुआ पुलिस को सूचना दी। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा।

Categories: Bihar News

दानापुर नगर परिषद में बनेंगे चार संप हाउस

Dainik Jagran - 23 hours 16 min ago

पटना दानापुर। जलजमाव की समस्या को लेकर रविवार को नगर परिषद में पथ निर्माण विभाग के प्रधान सचिव अमृत लाल मीणा ने विशेष बैठक कर पार्षदों के साथ विचार-विमर्श किया। पिछले दिनों इलाके में जलजमाव की समस्या गंभीर हो गई थी। जलजमाव की समस्या वाले इलाके का दौरा करते हुए उन्होंने भविष्य में ऐसी समस्या न हो इसको देखते हुए शॅट एवं लॉंग प्लान को लेकर जानकारी प्राप्त की। बैठक में नगर परिषद के उपमुख्य पार्षद डॉ अनु कुमारी व उपमुख्य पार्षद दीपक कुमार ने जलजमाव से निजात दिलाने को लेकर अहम जानकारी दी। जिसमें चार संप हाउस का निर्माण एवं नाला का निर्माण को लेकर जानकारी दी गई।

इसके साथ प्रधान सचिव को सैनिक कॉलोनी से घुड़दौड़ रोड के रास्ते नहर तक नाला का निर्माण कराने, अकुलचक से आने वाले पानी को मुबारकपुर होते हुए देवनानाला में जाने वाले आहर की उड़ाही कराने, खरंजारोड, न्यू प्रगतिनगर, बालाजीनगर आदि इलाकों का पानी सगुनामोड़ से बेलीरोड के रास्ते निकलवाने को लेकर जोड़वाने को सुझाव पार्षदों ने दिया। उपमुख्य पार्षद दीपक कुमार ने बताया कि जल निकासी की समस्या को लेकर स्वीस नहर, रूपसपुर नहर, घुड़दौड़ रोड, अभिमन्यूनगर एवं रामजीचक नहर के पास संप हाउस बनाने की माग की गई। इसके साथ ही बड़े नालों से छोटे नाले का जुड़ाव को लेकर बातें रखीं। नौबतपुर शिवाला से आने वाले आहर को अतिक्रमण मुक्त कराते हुए मुख्य नाला से जोड़ने की बात रखी गई।

बैठक के बाद प्रधान सचिव ने सैनिक कॉलोनी घुड़दौड़ रोड समेत अन्य क्षेत्रों का जायजा लिया, जहां पूर्व में जलजमाव हुआ था। बैठक में कार्यपालक पदाधिकारी संजीव कुमार नगर प्रबंधक विनय कुमार पार्षद राज किशोर यादव अखिलेश कुमार राज कुमार यादव समेत पार्षद उपस्थित थे।

Categories: Bihar News

पालीगंज में बालू उठाव को लेकर फायरिंग

Dainik Jagran - 23 hours 20 min ago

पटना पालीगंज : थाना क्षेत्र के जलपुरा बालू घाट पर बालू उठाव को लेकर दो पक्षों के बीच रविवार को कई राउंड फायरिग हुई। जलपुरा घाट पर एक सप्ताह में फायरिग की तीसरी घटना है। फायरिग होने पर घाट पर बालू उठाव में जुटे मजदूर और वाहन चालकों में अफरातफरी मच गई। घटना की जानकारी मिलने पर पहुंची पुलिस ने छानबीन में जुटी रही।

जानकारी के अनुसार, रविवार को जलपुरा बालू घाट पर पूर्व से दो पक्षों के बीच कई दिनों से बालू उठाव को लेकर तनाव कायम है। तीन दिनों पूर्व भी दोनों पक्षों के बीच फायरिग हुई थी। रविवार को एक पक्ष के लोग बालू घाट से ट्रक पर बालू लोड कर बाहर निकल रहे थे। तभी दूसरे पक्ष के लोगों ने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। इस घटना में एक पक्ष के लोग बाल-बाल बच गए। वहीं फायरिग होने के बाद वाहन चालक अपने वाहन लेकर बालू घाट से लेकर भागने लगे। फायरिग की सूचना मिलते ही पालीगंज थानाध्यक्ष सह इंस्पेक्टर अश्विनी कुमार ने दलबल के साथ मौके पर पहुंचकर मामले की छानबीन शुरू कर दिया। थानाध्यक्ष ने गोलीबारी की घटना से इन्कार किया है। अवैध बालू लदा तीन ट्रैक्टर जब्त

संसू, नौबतपुर : नौबतपुर पुलिस ने सूचना के आधार पर छापेमारी कर रविवार की सुबह पितवास स्थित पुनपुन नदी से बालू का अवैध उत्खनन कर बालू ले जाते तीन ट्रैक्टर को चालक समेत जब्त किया है। इस संबंध में जिला खनन विकास पदाधिकारी राजेश कुमार कुशवाहा ने बिहार खनिज नियम-2019 की धारा 11 का उल्लंघन मानते हुए प्राथमिकी दर्ज कराई है। जिसमें धारा-56 के तहत दंडनीय भी माना है। गौरतलब है कि पिछले कई दिनों से पुनपुन नदी से बालू का अवैध उत्खनन की सूचना पुलिस को मिल रही थी। इसके बाद यह कार्रवाई हुई। गिरफ्तार ट्रैक्टर चालकों में काजीचक थाना भगवानगंज निवासी गोलू कुमार, मसौढ़ी निवासी पूरणचक निवासी नागेंद्र कुमार एवं बबलू कुमार शामिल हैं। छापेमारी का नेतृत्व स्वयं थानाध्यक्ष सम्राट दीपक ने किया।

Categories: Bihar News

पांच दिनों से अगवा व्यवसायी की बरामदगी की मांग को ले सड़क जाम, प्रदर्शन

Dainik Jagran - 23 hours 21 min ago

पटना सिटी। चौक थाना क्षेत्र से छह नवंबर की शाम अगवा होटल कारोबारी के पांचवें दिन भी नहीं मिलने पर परिजनों ने झाऊगंज गली मोड़ के समीप अशोक राजपथ जामकर पुलिस के खिलाफ नारेबाजी कर टायर फूंके। लगभग तीन घंटे सड़क जाम के कारण राहगीरों को परेशानी हुई। थानाध्यक्ष मितेश कुमार ने बताया कि मामले में तीनों नामजदों को गिरफ्तार कर पुलिस खोजबीन में जुटी है।

जामस्थल पर अगवा व्यवसायी की पत्नी रीना रानी ने बताया कि झाऊगंज निवासी पति राकेश कुमार पाटलीपुत्र थाना क्षेत्र के नेहरूनगर में रहकर छात्रावास व होटल चलाते थे। छह नवंबर की शाम 6:30 बजे पति के मोबाइल पर कचौड़ी गली निवासी महादेव गुप्ता का फोन आया कि यहां मेरे घर पर चले आओ। इसके बाद पति स्कूटी से पटना सिटी गए। उसके बाद जब नहीं लौटे। फोन करने पर मोबाइल बंद मिला। इसके बाद महादेव गुप्ता के मोबाइल पर फोन करने पर वह बोला कि सुबह तक पति पहुंच जाएंगे। पांच दिन बीतने के बाद भी पति नहीं पहुंचे।

पत्नी का आरोप है कि हत्या की नीयत पति राकेश का अपहरण कचौड़ी गली निवासी महादेव गुप्ता, सूरज गुप्ता तथा राजू शर्मा ने किया है। पत्नी ने तीनों की चंगुल से पति को मुक्त कराने की गुहार चौक थानाध्यक्ष लगाई है। जामस्थल पर अगवा राकेश के भाई नीरज कुमार ने बताया कि पुलिस भाई को बरामद करने में विफल है। अगवा कारोबारी के चाचा परिजनों के समक्ष अशोक राजपथ पर लेट गए थे। आक्रोशित परिजन पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करते रहे। छोटे-छोटे बच्चे भी जामस्थल पर रोते-बिलखते रहे। परिजनों ने अशोक राजपथ पर टायर फूंक विरोध जताया। परिजनों ने लगभग तीन घंटे मुख्य मार्ग जाम कर आवागमन बाधित रखा।

Categories: Bihar News

बेटी की खुशियों के लिए पिता का झुकता है सिर

Dainik Jagran - November 10, 2019 - 11:52pm

पटना। रवींद्र भवन के प्रेक्षागृह में कलाकारों की उम्दा प्रस्तुति हो रही थी। कलाकार अपने हास्य-व्यंग्य से भरे अभिनय से दर्शकों को लोटपोट करने में लगे थे। बिहार की लोक गाथाओं पर आधारित लोक नौटंकी शैली की प्रस्तुति को दर्शक सराह रहे थे। मौका था रवींद्र परिषद व प्रांगण नाट्य-संस्था की ओर से रविवार को अरुण सिन्हा लिखित एवं वरिष्ठ रंगकर्मी अभय सिन्हा के निर्देशन में 'फूल-नौटंकी विलास' की प्रस्तुति का। संवाद प्रस्तुति 'अगर इतना ही वीर हो तो नौटंकी से ब्याह करके दिखाओ' ये संवाद सुनकर दर्शक खूब आनंदित हुए।

घर छोड़ने पर विवश हो जाता है फूल सिंह -

यह नाटक निम्न जाति का एक योद्धा फूल सिंह और पड़ोसी राज्य की राजकुमारी नौटंकी की प्रेम कहानी है। एक बार फूल सिंह नट और नटी से प्रेम नगर की राजकुमारी नौटंकी की प्रशंसा सुनकर नौटंकी को देखने के लिए व्याकुल हो जाता है। राजकुमारी नौटंकी राजा हरिसिंह की इकलौती संतान है। वह बेटी के स्वयंवर के बहाने युवकों को तरह-तरह की सजा देता है। राजकुमारी राजा के साथ स्वयंवर में निकलती है तो शादी के इच्छुक युवक राजमार्ग की दोनों ओर खड़े हो जाते हैं। राजा के अनुसार राजकुमारी को देखने वाले युवकों को मौत की सजा दी जाती है। ऐसे में राजकुमारी रथ से ही युवकों पर ईट-पत्थर फेंकती है। इसी बीच फूल सिंह चोरी-चुपके राजकुमारी को देख लेता है, वही पत्थर की मार से परहेज नहीं करता और लहूलुहान हो जाता है। वह राजकुमारी की सुंदरता पर फिदा हो जाता है। वह स्त्री रूप धारण कर महल में प्रवेश करता है और राजकुमारी की सहेली बनने में सफल हो जाता है। एक दिन नौटंकी फूल सिंह से बोलती है कि तुम अगर पुरुष होती तो तुमसे शादी कर लेती। फूल सिंह अपनी चालाकी दिखाते हुए राजकुमारी से कहता है कि तुम तीन बार यही शब्द बोलोगी तो मैं शाप मुक्त हो जाऊंगा। राजकुमारी को बोलने के बाद फूल सिंह पुरुष रूप में आता है। इसके बाद दोनों के बीच प्रेम आरंभ होता है। सच्चाई जानने पर राजा उसे मौत की सजा देने का आदेश जारी करता है, लेकिन राजकुमारी अपने प्रेमी को बचा लेती है। अपनी पुत्री की खुशी के लिए पिता का सिर झुक जाता है।

मंच पर कलाकार -

अरविंद कुमार, अर्पिता घोष, संजय सिंह, शांति प्रिया, सोमा चक्रवर्ती, प्रीति कुमारी, इतु घोष, प्रीति शर्मा, अमिताभ रंजन, आतिश कुमार, संजय कुमार, आशुतोष कुमार, गिरीश मोहन, ओम प्रकाश आदि ने प्रस्तुति दी।

Categories: Bihar News

दादी को बचाने के लिए मुनिया सारा पैसा कर देती है खर्च

Dainik Jagran - November 10, 2019 - 11:25pm

पटना। ग्रामीण परिवेश में पली-बढ़ीं महिलाएं मंच पर मुखर थीं। ठेठ देसी अंदाज में संवादों की प्रस्तुति मंच पर देखने लायक थी। मौका था कुमार प्रतिभा प्रतिष्ठान अमरपुरा, नौबतपुर की ओर से रविवार को कालिदास रंगालय में सचिन चंद्रा लिखित एवं निर्देशित नाटक ' देख तमाशा बुढि़या का' के मंचन का। ये थी कहानी -

मुनिया को पढ़ने का बहुत शौक है, लेकिन उसकी दादी उसे पढ़ने देना नहीं चाहती। मुनिया अपनी दादी से स्कूल जाने की बात कहती है। इसके बाद उसे अपने ही घर में कैद कर लिया जाता है। उसके साथ अत्याचार होता है। घर में बूढ़ी दादी का हुक्म चलता है। उसके आगे मुनिया के माता-पिता भी काफी विवश हो जाते हैं। मुनिया भी दुखी रहती है। एक दिन सभी से नजरें बचाकर वह घर से बाहर निकल जाती है। उसके जाने से उसके माता-पिता के दिल पर दुख का पहाड़ टूटता है, वहीं दादी काफी खुश होती है। एक दिन दादी पैसे के लोभ में अपने नालायक पोते की शादी कर देती है। दहेज को लेकर वह लड़की वालों पर दबाव डालता है जिसके बाद पुलिस सक्रिय हो जाती है। इस घटना के बाद बूढि़या को हार्ट-अटैक आता है। घर की माली हालत ठीक न होने के कारण सही से उसका इलाज नहीं हो पाता। जब मुनिया को अपनी दादी की बीमारी के बारे में पता चलता है तो अपने पास के पैसे से दादी का इलाज करा उसे बचा लेती है। इस घटना के बाद दादी का दिल मुनिया के प्रति पिघल जाता है और वह मुनिया को हमेशा के लिए अपना लेती है।

मंच पर कलाकार -

सियामनी कुमारी, आरोही कुमारी, नीलू कुमारी, सुहानी कुमारी, तनु प्रिया, रामदुलारी देवी, गूंजा देवी, शीला कुमारी, चांदनी कुमारी, सावित्री कुमारी, प्रभा देवी, उमा सिंह, टुन्नी देवी, श्यामपरी देवी, संजू देवी ने उम्दा प्रस्तुति दी।

Categories: Bihar News

दरभंगा एयरपोर्ट से जल्द उड़ान भरेंगे मिथिलावासी : संजय झा

Dainik Jagran - November 10, 2019 - 11:15pm

पटना। विद्यापति की रचनाओं के साथ मैथिली की लोक संस्कृति रविवार को विद्यापति भवन में देखने को मिली। महाकवि विद्यापति स्मृति पर्व समारोह के मौके पर एक ओर महाकवि की प्रतिमा पर अतिथियों ने श्रद्धासुमन अर्पित किया तो दूसरी ओर मिथिला के लोक गीतों का भी आनंद उठाया। चेतना समिति के बैनर स्मृति पर्व के मौके पर तीन दिवसीय कार्यक्रम का उद्घाटन जल संसाधन मंत्री संजय झा, लघु जल संसाधन मंत्री नरेंद्र नारायण यादव ने किया।

जल संसाधन मंत्री ने मिथिला की लोक संस्कृति पर विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि दरभंगा में जल्द वायु सेवा आरंभ हो जाएगी। वहां पर तेजी से एयरपोर्ट का निर्माण कार्य चल रहा है। साथ ही 40 वर्षो से ठप पश्चिमी कोसी नहर पर काम को मंजूरी मिल गई है। मंत्री ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने मिथिला क्षेत्र के विकास में भरपूर सहयोग दिया है। कार्यक्रम के दौरान लघु जल संसाधन मंत्री नरेंद्र नारायण यादव ने कहा कि मिथिला के विकास से ही पूरे देश का विकास संभव है। इसके विकास में सभी का योगदान जरूरी है। मिथिला की भूमि महाकवि विद्यापति और मंडन मिश्र की भूमि है। स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि मिथिला की बोली मिठास भरी बोली है। इससे अपनापन का एहसास होता है। उन्होंने कहा कि इस बोली को सीखने का प्रयास कर रहा हूं। विद्यापति की रचनाओं पर कहा कि इनकी रचना सुनने के बाद मन मस्तिष्क आनंद से भर जाता है। कार्यक्रम के दौरान चेतना समिति के सचिव उमेश मिश्र ने समिति का वार्षिक प्रतिवेदन पेश किया। मिश्र ने कहा कि समिति की ओर से विद्यापति भवन का संचालन, पुस्तकों एवं पत्रिकाओं का प्रकाशन, सम्मान समारोह, मुफ्त चिकित्सा शिविर आदि कार्यक्रम नियमित रूप से चल रहा है।

गीत-संगीत से गुलजार हुआ परिसर -

स्मृति पर्व के मौके पर मैथिली गीतों के प्रस्तुति होते रही। वरिष्ठ लोक गायिका व मिथिला की बेटी रंजना झा ने कार्यक्रम की शुरुआत 'कर धरी करूं मोही परे कन्हैया..' से की। जैसे-जैसे कार्यक्रम आगे की ओर बढ़ता जा रहा था, मंच पर एक से बढ़कर एक प्रस्तुति हो रही थी। गायिका रंजना झा ने 'खेले गेलिई रे भैया बड़का भैया' व विद्यापति गीत 'जय-जय भैरवि' को पेश कर तालियां बटोरीं। गीतों को जीवंत बनाने में हारमोनियम पर आशुतोष मिश्र, तबला पर राजशेखर, ढोलक पर जीवानंद झा, बांसुरी पर सरफुद्दीन ने सहयोग दिया। वही गोसाउनिक गीत की प्रस्तुति जाहन्वी प्रिया, शांभवी प्रिया, रीमा कुमारी, वंशिका राज, दक्ष मिश्रा ने पेश कर सभी का मन मोहा।

कविताओं से गुलजार रहा परिसर -

समारोह के दौरान कवि गोष्ठी भी आयोजित की गई। मैथिली लेखक श्याम दरहरे ने 'देखि प्रवासीकें उज्ज्वल कर्म-साधना लीन, बनएबा लेल निस्तेज करबा लेल धन हरण छलकें बना रहल कैरियर' को बयां कर सभी का ध्यान खींचा। कार्यक्रम के दौरान पंडित बुद्धिनाथ मिश्र, कमल मोहन चुन्नू, अनिल कुमार सिंह, कैलाश झा किंकर आदि ने अपनी रचनाएं पेश कीं।

विशेष योगदान के लिए मिला पुरस्कार -

स्मृति पर्व के मौके पर साहित्य, कला, रंगमंच के क्षेत्र में बेहतर काम करने वालों को चेतना समिति की ओर से पुरस्कृत किया गया।

मैथिली भाषा साहित्य - डॉ. रामावतार यादव

संस्कृत साहित्य - डॉ. महेश झा

संगीत, नृत्य, रंगमंच - भागवत मिश्र 'वियोगी'

मिथिला चित्रकला - चतुरानन झा

विशिष्ट अवदान - अनिल सुलभ

चेतना सेवी सम्मान - रघुवीर मोची

कीर्ति नारायण मिश्र साहित्य सम्मान - मैथिल प्रशांत

यात्री चेतना पुरस्कार - बुद्धिनाथ मिश्र

कार्यक्रम के दौरान चेतना समिति के सचिव उमेश मिश्र, मंच का संचालन कमल मोहन चुन्नू, धन्यवाद ज्ञापन दिनेश चंद्र झा ने किया।

विद्यापति स्मृति पर्व पर आज :

विचार गोष्ठी का आयोजन विद्यापति भवन में सुबह 10 बजे से होगा। वही मिलर हाई स्कूल में शाम चार बजे से पुस्तक, कला प्रदर्शनी का उद्घाटन एवं शाम पांच बजे से सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित होगा।

Categories: Bihar News

मंदी को ठेंगा दिखा रहा पुस्तक प्रेमियों का उत्साह

Dainik Jagran - November 10, 2019 - 11:09pm

पटना। तीसरे दिन रविवार को पटना पुस्तक मेला अपने स्वाभाविक स्वरूप में दिखा। पुस्तक प्रेमियों की भीड़ इसकी पुष्टि कर रही थी कि बिहार में पाठकीयता का संकट नहीं है। लोग अपने खर्चे में कटौती करके भी किताब खरीद रहे हैं। हर तबके की उपस्थिति मंदी को ठेंगा दिखा रही थी। युवाओं में तो खासा उत्साह था। युवा पुस्तक प्रेमियों का जमवाड़ा और कहीं-कहीं बैठकी भी देखने को मिली। कहीं नई किताबों को खोजती नजर थी तो कहीं अपने पसंदीदा लेखक की किताब को पढ़ने की चाह। क्विज प्रतियोगिता का आयोजन :

सीआरडी पटना पुस्तक मेले में रविवार को तुलसी मुक्ताकाश मंच पर आईकैन द्वारा दसवीं और बारहवीं के बच्चों के बीच क्विज प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। प्रतियोगिता में कुल 6 स्कूलों के 12 बच्चों ने भाग लिया था। जिसमें डीपीएस, नॉट्रेडेम एकेडमी, आरपीएस स्कूल, लिटेरा वैली, डॉन बॉस्को और कॉलेज ऑफ कॉमर्स के छात्रों ने भाग लिया था। इसमें बच्चों से साहित्य, विज्ञान और देश-विदेश से जुड़े कई सारे सवाल पूछे गए। डीपीएस की टीम ने प्रथम स्थान प्राप्त किया, वहीं दूसरे और तीसरे स्थान पर नॉट्रेडेम एकेडमी और लिटेरा वैली स्कूल रहे। 'एक टीचर की डायरी' का लोकार्पण :

पुस्तक मेले में भावना शेखर द्वारा लिखित पुस्तक 'एक टीचर की डायरी' का लोकार्पण पद्यश्री डॉ. उषा किरण खान ने किया। इस मौके पर कहानीकार अवधेश प्रीत ने कहा कि इसकिताब में बहुत ही सरल भाषा में स्कूल के अनुभवों को साझा किया गया है। लेखिका भावना शेखर ने कहा कि शिक्षक और छात्र के संबंध को वह सालों महसूस की हैं। मंच पर सिस्टर मेरी जेसी प्राचार्या नॉट्रेडेम एकेडमी, डॉ. अरुणोदय और प्रो. एसपी शाही मौजूद थे। नुक्कड़ नाटक में दिखा पूंजीवाद और निजीकरण पर कटाक्ष :

अभियान सांस्कृतिक मंच, पटना द्वारा 'ये दौड़ है किसकी' का प्रदर्शन किया गया। निर्देशन गौतम गुलाल द्वारा किया गया। इस नाटक द्वारा देश में फैल रही पूंजीवादी व्यवस्था और निजीकरण पर कटाक्ष करते हुए देश की अर्थव्यवस्था पर भी व्यंग्य किया गया है। इस नाटक को सफल बनाने में आनंद प्रवीण, मो. शहजाद राजा, विवेक मिश्रा, वंदना सिंह, अनीश चौबे के साथ कई लोग मौजूद थे। युवा कवियों ने सुनाई अपनी रचनाएं : रविवार को मेले में युवा कवियों द्वारा काव्य पाठ का आयोजन किया गया था। जिसमें कवि उत्कर्ष ने तीन भागों में अपनी कविता 'शहर के लिए' शीर्षक से सुनाई। उसके बाद सीमा संगसार ने अपनी कविताएं 'मेरा पहला प्यार' और 'शहर में जिंदा होना' सुनाई। कई युवा कवियों ने भी अपनी कविता से सबकी तालियां बटोरी। 21वीं सर्दी में स्त्रियों को नहीं मिला है सही स्थान :

जनसंवाद कार्यक्रम के अंतर्गत 'स्त्री नेतृत्व की देहबाधा' विषय पर परिचर्चा का आयोजन किया गया। जिसमें जेपी ने कहा कि 21वीं सर्दी में भी स्त्रियों को उचित स्थान नहीं मिला है। वहीं सुधा सिंह ने कहा कि समाज की संरचना ने ही स्त्री की देह को बाधा बना दिया है, जबकि हमारे यहां देह नहीं आत्मा का महत्व है। निवेदिता झा ने कहा कि पिछले दिनों मीटू के आंदोलन ने कई नारियों का दर्द उजागर किया। योगिता यादव ने कहा कि देह बाधा दृष्टिगोचर होने में दृष्टिकोण का दोष है। यह समस्या अपने परिवार से शुरू होती है। आज का कार्यक्रम :

कैंपस के तहत : कथावाचन का कार्यक्रम

नुक्कड़ नाटक

पुस्तक का विमोचन : सैदपुर से बेऊर तक

जनसंवाद के तहत : ट्रांसजेंडर साहित्य और चुनौतियां

जनसंवाद के तहत : तपती धरती घटता पानी

बिहार शिक्षा परियोजना परिषद द्वारा उन्नयन शिक्षा द्वारा माहवारी स्वास्थ्य प्रबंधन

पुस्तक लोकार्पण : पटना खोया हुआ शहर।

Categories: Bihar News

सीएम नीतीश कुमार ने मजार पर की चादरपोशी, बिहार में अमन-चैन व तरक्‍की की मांगी दुआ

Dainik Jagran - November 10, 2019 - 9:58pm

पटना, जेएनएन। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार रविवार को फुलवारीशरीफ खानकाह मुजीबिया में उर्स के मुबारक मौैके पर हजरत मखदूम सैयद शाह पीर मुहम्मद मुजीबुल्लाह कादरी रहमतुल्लाह अलैह की मजार पर चादरपोशी की तथा बिहार में अमन, चैन एवं तरक्की के लिए दुआएं मांगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वह यहां हर वर्ष आते हैैं। वह सभी से यह प्रार्थना करते हैैं कि समाज में ऐसा माहौल बनाएं जिससे प्रेम, सद्भावना और भाईचारा हो। उन्होंने कहा कि हम सब एक-दूसरे का सम्मान करें और मिल-जुलकर बिहार और देश की तरक्की में योगदान दें। समाज में शांति का माहौल बना रहे। 

इस मौके पर खानकाह-ए-मुजीबिया के प्रबंधक हजरत मौलाना मिन्हाजउद्दीन कादरी ने मुख्यमंत्री के साथ सूबे के सुख, शांति एवं समृद्धि के लिए दुआ करायी। चादरपोशी के पहले मुख्यमंत्री ने खानकाह मुजीबिया के पीर सज्जादानशीं हजरत मौलाना सैयद शाह अयातुल्लाह कादरी से मिलकर उनका अशीर्वाद लिया। फुलवारीशरीफ के विधायक श्याम रजक व नगर परिषद के के चेयरमैन मो. आफताब आलम सहित कई गणमान्य लोग भी इस मौके पर मौजूद थे।

Categories: Bihar News

Pages

Subscribe to Bihar Chamber of Commerce & Industries aggregator - Bihar News

  Udhyog Mitra, Bihar   Trade Mark Registration   Bihar : Facts & Views   Trade Fair  


  Invest Bihar