Bihar News

36 घंटे में राजा हत्याकांड की गुत्थी सुलझी, चाकू के साथ दो गिरफ्तार

Dainik Jagran - December 18, 2018 - 11:31pm

पटना सिटी। आलमगंज थाना क्षेत्र के गायघाट स्थित ज्यूडिशियल एकेडमी के सामने रविवार की शाम हुई राजा की हत्या की गुत्थी सुलझाते हुए पुलिस ने हत्याकांड को अंजाम देने वाले दो आरोपितों को हत्या में प्रयुक्त चापड़ के साथ मंगलवार को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार नाबालिगों ने अपराध स्वीकारोक्ति बयान में चौंकाने वाली बातों का खुलासा किया है। वरीय पुलिस अधीक्षक मनु महाराज ने 36 घंटे के अंदर हत्या की गुत्थी सुलझाने वाली पुलिस टीम को पुरस्कृत करने की बात कही। - एक दर्जन युवकों से हुई पूछताछ

एसएसपी ने बताया कि रविवार की शाम सात बजे दक्षिणी गली निवासी स्वर्गीय कल्लू राम के छोटे पुत्र 15 वर्षीय राजा कुमार उर्फ राजा की हत्या के बाद एएसपी बलिराम कुमार चौधरी के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया। आलमगंज थानाध्यक्ष ओमप्रकाश ने मृतक राजा के मोबाइल कॉल को खंगाला और आसपास लगे सीसी कैमरों से छानबीन प्रारंभ की। रविवार की शाम गायघाट के समीप मंडराते एक दर्जन युवकों से पूछताछ की गई। पूछताछ के क्रम में थानाध्यक्ष को जानकारी मिली कि चांद कॉलोनी के सन्नी राम का पुत्र आकाश कुमार व मो. तैयब के पुत्र मो. अहमद अली घटना से कुछ देर पूर्व खड़े दिखे हैं। इस सूचना के बाद दोनों को सोमवार की रात गिरफ्तार किया गया। - कहासुनी में बढ़ गयी बात, कर दी हत्या

पूछताछ के क्रम में पकड़े गए आरोपितों ने हत्याकांड में संलिप्तता स्वीकार की है। उन्होंने बताया कि राजा ने अभियुक्त आकाश की चचेरी बहन के साथ कुछ दिन पूर्व छेड़खानी की थी। इस बात को लेकर दोनों के बीच झंझट हुई थी। अभियुक्तों ने बताया कि रविवार की शाम गायघाट ज्यूडिशियल एकेडमी के सामने राजा से आमना-सामना हो गया। चचेरी बहन से छेड़खानी की बात को लेकर आकाश व राजा के बीच बहस होने लगी। इसी क्रम में राजा ने आकाश को दो मुक्का मारा। मुक्का खाते ही आकाश आगबबूला होकर साथी की मदद से राजा को जमीन पर पटक दिया। चाकू से गर्दन व शरीर के अन्य हिस्से पर ताबड़तोड़ वार कर गंभीर रूप से जख्मी कर दिया। अधिक रक्तस्त्राव होने की वजह से राजा ने घटनास्थल पर ही दम तोड़ दिया। हत्या के बाद दोनों अपराधकर्मी घटनास्थल से निकल गए। आलमगंज पुलिस ने अभियुक्त अली के घर से हत्या में प्रयुक्त चाकू बरामद किया।

Categories: Bihar News

NDA में कुशवाहा के बाद अब पासवान का पेंच, सीट शेयरिंग को ले चिराग ने दी चेतावनी

Dainik Jagran - December 18, 2018 - 10:51pm

पटना [जेएनएन]। राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से उपेंद्र कुशवाहा की विदाई के बाद भी 'ऑल इज वेल' नहीं दिख रहा है। कम-से-कम लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) सुप्रीमो रामविलास पासवान के बेटे चिराग पासवान के दो ट्वीट तो यही कह रहे हैं। ट्वीट में चिराग कहते हैं कि नाजुक दौर से गुजर रहे राजग में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को बचे हुए साथियों का सम्‍मान करना चाहिए। एक अन्‍य ट्वीट में चिराग ने सीट शेयरिंग को ले अभी तक अनिर्णय पर भी चिंता जाहिर की है।

चिराग के ये दोनों ट्वीट राजग के अंदर घटक दलों के बीच चल रही खींचतान के प्रमाण हैं। इससे लगता है कि राजग से उपेंद्र कुशवाहा की विदाई के बाद अब रामविलास पासवान की पार्टी का पेंच फंस रहा है। इसके गहरे निहितार्थ हो सकते हैं।

नाज़ुक मोड़ से गुज़र रहा गठबंधन

अपने ट्वीट में चिराग कहते हैं कि टीडीपी व रालोसपा के जाने के बाद गठबंधन नाज़ुक मोड़ से गुज़र रहा है। ऐसे समय में भारतीय जनता पार्टी गठबंधन में बचे हुए साथियों की चिंताओं को समय रहते सम्मानपूर्वक तरीक़े से दूर करे।

ट्वीट पर गौर करें तो इसमें गठबंधन में बचे हुए साथियों की चिंताओं को 'समय रहते' दूर करने की बात है। इसमें

टीडीपी और रालोसपा के उदाहरण भी दिए गए हैं। सवाल यह है कि 'समय सीमा' क्‍या है और चिंताओं का सम्मानजनक समाधान क्‍या है?

दी नुकसान की चेतावनी

चिराग पासवान ट्वीट में सम्‍माजनक सीट शेयरिंग की बात करते हैं। लिखते हैं कि गठबंधन की सीटों को लेकर कई बार भारतीय जनता पार्टी के नेताओं से मुलाक़ात हुई, परंतु अभी तक कुछ ठोस बात आगे नहीं बढ़ पायी है। इस विषय पर समय रहते बात नहीं बनी तो नुक़सान भी हो सकता है। स्‍पष्‍ट तौर पर इस ट्वीट में 'नुकसान' की चेतावनी दी गई है।

इस कारण धरीं रह गईं लोजपा की उम्‍मीदें

राजग से उपेंद्र कुशवाहा की विदाई के बाद माना जा रहा था कि इसका फायदा लोजपा को होगा। लेकिन रालोसपा के सभी सांसद-विधायक उपेंद्र कुशवाहा से टूटकर राजग में ही रह गए हैं। ऐसे में रालोसपा के हिस्‍से की सीटें उन्‍हें ही मिलने की उम्‍मीद है। संभवत: इस कारण लोजपा की अधिक सीटों की उम्‍मीदें धरी रह गईं हैं।

ऐसे में अब सवाल यह है कि लोजपा क्‍या करेगी। ट्वीट में दर्ज 'नुकसान' का मतलब क्‍या है, यह तो फिलहाल स्‍पष्‍ट नहीं, लेकिन राजनीति से जुड़े कुछ लोग इसे राजग छोड़ने की धमकी भी मान रहे हैं।

Categories: Bihar News

चार पहिया गाड़ी के लिए विवाहिता की हत्या

Dainik Jagran - December 18, 2018 - 10:11pm

पटना सिटी। बिहार में दहेज प्रथा को जड़ से समाप्त करने के लिए जहां सामाजिक मुहिम चलाई जा रही है, वहीं दहेज लोभी लालच के लिए अपनी करतूतों से बाज नहीं आ रहे हैं। ताजा मामला मालसलामी थाना क्षेत्र के नुरूद्दीनगंज मोहल्ले में दहेज में चार पहिया की मांग पूरी नहीं करने एक विवाहिता की हत्या कर पंखा में लटकाने का है। विवाहिता के पिता ने ससुरालवालों के खिलाफ दहेज के लिए हत्या कर लाश को आत्महत्या की शक्ल देने का बता मामला दर्ज कराया है। घटना के बाद से पति समेत ससुराल वाले फरार हैं। पुलिस ने लाश को पोस्टमार्टम के लिए नालंदा मेडिकल कॉलेज भेजा। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मामला स्पष्ट हो पाएगा। फिलहाल पुलिस छानबीन में जुटी है।

मालसलामी थानाध्यक्ष अर¨वद कुमार ने बताया कि नालंदा जिला के एकंगरसराय के ओरियावां निवासी शैलेश कुमार ने 20 वर्षीय पुत्री गीता कुमारी की शादी नुरूद्दीनगंज निवासी सूरज कुमार से जून माह में हुयी थी। विवाहिता के पिता ने बताया कि ससुराल पक्ष के लोग चार पहिया वाहन के लिए हमेशा मारपीट करते थे और मायके पहुंचा देते थे। पिता के अनुसार शादी में 15 लाख दहेज दिया था। परिजनों के अनुसार गीता 23 नवंबर 2018 को मायका से ससुराल आई थी। पिता के अनुसार पति बेटी से मोबाइल छीन बात नहीं करने देते थे। दरोगा नदीम अख्तर ने बताया कि जब वे जांचक्रम में घटना स्थल पहुंचे तो विवाहिता को साड़ी के फंदा से पंखा में झूलता पाया। विवाहिता का पैर पलंग पर सटा था। दारोगा के अनुसार प्रथम ²ष्टया मामला आत्महत्या का प्रतीत नहीं होता है। परिजनों का आरोप है कि विवाहिता की हत्या कर लाश को पंखा से लटकाकर ससुराल वाले फरार है।

Categories: Bihar News

भूल सुधार कर नर्सिंग स्कूल का प्रभारी प्राचार्य सरस्वती को बनाया

Dainik Jagran - December 18, 2018 - 10:08pm

पटना सिटी। एनएमसीएच के जीएनएम नर्सिंग स्कूल का प्रभारी प्राचार्य अनुबंध पर कार्यरत शिक्षक को बनाए जाने से उत्पन्न विवाद पर मंगलवार को विराम लगा। अस्पताल प्रशासन ने अपने पूर्व के आदेश में सुधार करते हुए नियमित शिक्षक सरस्वती देवी को नर्सिंग स्कूल के प्रभारी प्राचार्य की जिम्मेदारी सौंपने का पत्र जारी कर दिया। इस पत्र के जारी होते ही स्वास्थ्य विभाग के निदेशक प्रमुख के आदेश की अवहेलना से विभाग, अस्पताल और नर्सिंग स्कूल में तूल पकड़ा मामला भी फिलहाल थम गया है।

सरस्वती देवी को अगले आदेश तक के लिए प्रभारी प्राचार्य बनाया गया है। अधीक्षक द्वारा जारी पत्र के अनुसार 27 सितंबर 2018 से ही इस संशोधित आदेश को प्रभावी किया गया है। नयी जिम्मेदारी संभालने के बाद प्रभारी प्राचार्य सरस्वती देवी ने बताया कि जीएनएम के लिए दूसरे दिन भी नामांकन प्रक्रिया जारी रही। कुल 53 छात्राएं मूल प्रमाणपत्र के साथ गठित कमेटी के समक्ष उपस्थित हुई। अन्य 12 छात्राओं का नामांकन बुधवार को लिया जाएगा।

विभागीय सूत्रों की मानें तो अनुबंध पर कार्यरत शिक्षक नीलम कुमारी ने बीएससी नर्सिंग की डिग्री होने पर प्रभारी प्राचार्य के लिए दावा पेश किया था। अनुबंध पर कार्यरत दो अन्य शिक्षक भी इसी आधार पर दावेदारी पेश करने की तैयारी में हैं। - कार्यरत 12 शिक्षकों में एक ही नियमित

एनएमसीएच के जीएनएम नर्सिंग स्कूल में कार्यरत 12 शिक्षकों में से केवल एक सरस्वती देवी ही नियमित हैं। विभागीय जानकारी के अनुसार इस स्कूल में अनुबंध पर तीन और प्रतिनियुक्ति पर आठ शिक्षक कार्यरत हैं। एनएमसीएच की कई स्टाफ नर्स को स्कूल के शिक्षण कार्य में लगाया गया है।

Categories: Bihar News

मुकेश हत्याकांड में आरोपित दोनों दोस्त गिरफ्तार

Dainik Jagran - December 18, 2018 - 10:00pm

मसौढ़ी। थाना के मीरापुर गाव के पास बीते रविवार की रात शाहपुर थाना के शाहपुर दानापुर कैंट निवासी 25 वर्षीय मुकेश कुमार उर्फ करण उर्फ कल्लू की हत्या अवैध लव ट्रिंगिल में की गई थी। इस मामले का खुलासा मुकेश के दो दोस्तों और मामले के नामजद आरोपितों की गिरफ्तारी के बाद हुआ। हालांकि इस मामले की एक अन्य महिला आरोपित फिलवक्त फरार है और पुलिस को उसकी तलाश है। गौरतलब है कि बीते रविवार की रात मुकेश कुमार की हत्या थाना के मीरापुर गाव के पास सड़क पर गोली मारकर कर दी गई थी। इस मामले में मृतक मुकेश की बहन ज्योति कुमारी ने मुकेश के साथ दीघा की आइटीसी कंपनी में काम करनेवाले उसके दो दोस्तों शाहपुर थाना के शाहपुर दानापुर कैंट निवासी चंद्रदेव राय के पुत्र बिट्टू उर्फ ब्रह्मदेव राय व उसी मोहल्ले के दिवगंत रामपूजन राय के पुत्र लंबू उर्फ इंद्रजीत राय और एक महिला पर एक साजिश के तहत अपने भाई मुकेश की हत्या करने का आरोप लगा प्राथमिकी दर्ज कराई थी। इधर, पुलिस ने बीते सोमवार की रात छापेमारी कर दो नामजद आरोपितों बिट्टू उर्फ ब्रह्मदेव राय व लंबू उर्फ इंद्रजीत राय को गिरफ्तार कर लिया। इस बाबत थानाध्यक्ष सीताराम साह ने बताया कि दोनों से पूछताछ के दौरान मामले में अपनी संलिप्तता स्वीकार कर ली। पुलिस ने बताया कि मुकेश व उसके गिरफ्तार दोनों दोस्तों का एक महिला से करीब सालभर से अवैध संबंध था। और मुकेश की हत्या इसी अवैध संबंध के कारण की गई। पुलिस ने बताया कि मुकेश की हत्या के लिए उसके दोनों दोस्तों ने उसे विश्वास में लेकर मसौढ़ी लाया और फिर मीरापुर गाव के पास गोली मारकर उसकी हत्या कर दी।

एक बड़ा सवाल अब भी बाकी

पुलिस के मुताबिक महिला के साथ मुकेश, लंबू व बिट्टू तीनों का रिश्ता था। मुकेश की ही हत्या कर उसे रास्ते से क्यों हटाया गया, यह फिलहाल राज बना हुआ है। इस बाबत थानाध्यक्ष भी फिलहाल कुछ बताने में असमर्थता जता रहे थे। संभवत: इस राज का खुलासा महिला की गिरफ्तारी के बाद ही संभव हो पाएगा, जो फिलहाल पुलिस की गिरफ्त से बाहर है।

Categories: Bihar News

फतुहा में आठ घंटे तक लगातार गुल रही बिजली, लोग परेशान

Dainik Jagran - December 18, 2018 - 9:51pm

फतुहा। 11 हजार वोल्ट के विद्युत प्रवाहित तार पर पेड़ की डाली गिर जाने से फतुहा शहरी क्षेत्र में आठ घटे तक बिजली गुल रही। इसकी वजह से लोगों को काफी परेशानी झेलनी पड़ी । बिजली के अभाव अधिकतर घरों में पेयजल संकट हो गया। इस वजह से खासकर बच्चों को स्कूल जाना मुश्किल हो गया। सोमवार की रात 2 बजे एकाएक बिजली गुल हो गई तो मंगलवार को साढ़े दस बजे आयी। विद्युत कनीय अभियंता सोनू कुमार ने बताया कि जल्द ही बिजली का तार टूटने की समस्या खत्म होगी। सभी जगह कवर तार लगाया जा रहा है ।

दनियावां में बिजली आपूर्ति ठप

दनियावा। सोमवार की शाम से दनियावा प्रखंड के विभिन्न भागों में विद्युत आपूर्ति ठप हो गई। सहायक अभियंता कन्हैया प्रसाद एवं कार्यपालक अभियंता बबलू कुमार ने बताया कि 33 केवीए में डिश पंचर हो जाने एवं 33/11 केवीए के पावर ट्रासफॉर्मर में खराबी आ जाने से लाइन आपूर्ति ठप है। डिश को बदल दिया गया है, जबकि ट्रासफॉर्मर की मरम्मत के लिए एमआरटी के इंजीनियर लगे हुए हैं, जिसे देर शाम तक ठीक कर लिए जाने की उम्मीद है। मसौढ़ी में भी गुल रही बिजली

मसौढ़ी। बीते सोमवार की शाम से मंगलवार की शाम तक रुक-रूक कर हो रही विद्युत आपूर्ति से उपभोक्ता परेशान रहे। बताया जाता है कि बीते सोमवार की शाम हुई बारिश के कारण कई जगहों पर तार टूट गया और कई तकनीकी खराबी आ गई। इसके कारण बीते 24 घटे में करीब 10 घटे विद्युत आपूर्ति बाधित रही। विद्युत कार्यपालक अभियंता अनिल कुमार ने बताया कि बारिश होने, कई जगहों पर तार टूटकर गिरने, पिन इंसूलेटर व ब्रेकर में आई तकनीकी खराबी के कारण ही विद्युत आपूर्ति बाधित रही। उन्होंने बताया कि इस दौरान 14 घटे विद्युत आपूर्ति रही।

Categories: Bihar News

लालू मामले में सीबीआइ की भूमिका के खिलाफ खोला मोर्चा

Dainik Jagran - December 18, 2018 - 9:42pm

पटना। जिले के अलग-अलग प्रखंड मुख्यालय में राजद कार्यकर्ताओं ने चारा घोटाला मामले में सीबीआइ की भूमिका के खिलाफ धरना दिया। राजद नेताओं ने कहा कि सीबीआइ ने केन्द्र सरकार के इशारे पर लालू को गलत तरीके से मामले में फंसाया है। फतुहा में मंगलवार को राजद कार्यकर्ताओं ने प्रखंड मुख्यालय पर युवा राजद अध्यक्ष पंकज सिह उर्फ मनीष राज के नेतृव में धरना दिया और केंद्र व राज्य सरकार के विरुद्ध नारेबाजी की। राजद नेता धर्मवीर यादव ने कहा कि इसका परिणाम एनडीए को आगामी लोक सभा चुनाव में भुगतना पड़ेगा। इसके लिए नौ जनवरी को पूरे बिहार के राजद कार्यकर्ता दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरना देंगे। मौके पर प्रदेश राजद नेता श्यानंदन यादव, दयानंद यादव, नवल किशोर यादव, मृत्युंजय यादव, अरविंद सिंह, संजय यादव, ऋषिकेश यादव, रवि यादव, लालू यादव मौजूद थे। दानापुर में युवा राजद अध्यक्ष पप्पू यादव की अध्यक्षता में आयोजित धरना में नगर परिषद उपाध्यक्ष राज किशोर यादव, प्रखंड अध्यक्ष सत्यानंद यादव, अर्जून पासवान, राज कुमार यादव, शिवम यादव, संजय यादव, अनिल यादव, रणजीत कुमार, धनंजय कुमार, राज कुमार यादव, ओम प्रकाश यादव, विनय यादव आदि थे।

दनियावा बाजार स्थित दुर्गास्थान के समीप युवा राजद के प्रखंड अध्यक्ष संजीव कुमार उर्फ राजू यादव की अध्यक्षता में एक दिवसीय धरना का आयोजन किया गया। मौके पर मिथलेश यादव, अरुण कुमार यादव, ब्रह्मदेव यादव, अजीत कुमार, कृष्ण मुरारी यादव, अनुज, आदित्य कुमार थे।

बिहटा में प्रखंड अध्यक्ष राजू यादव के नेतृत्व में धरना की अध्यक्षता युवा राजद के प्रखंड अध्यक्ष बबलू सिंह यादव ने की। मौके पर पप्पू यादव, मुखिया मुरारी सिंह, अशोक हिंदुस्तानी, गोपाल सिंह, बच्चू यादव, सुरेंद्र यादव, गुड्डू सिंह आदि थे।

फुलवारीशरीफ प्रखंड कार्यालय परिसर व संपतचक में युवा राजद प्रखंड अध्यक्ष मंटू यादव व ओम प्रकाश के नेतृत्व में धरना दिया गया। मौके पर प्रखंड अध्यक्ष ध्रुव यादव, प्रखंड प्रमुख मुन्नी देवी, उप-प्रमुख संजीत कुमार, सलाउद्दीन मंसूरी, इकबाल अहमद, फुदेना रविदास, कुमारी प्रतिभा, किशुन ठाकुर, शेखर यादव, नुपूर यादव मौजूद रहे।

मसौढ़ी में प्रखंड युवा राजद ने तारेगना स्टेशन परिसर में धरना दिया। इसकी अध्यक्षता मसौढ़ी युवा राजद के प्रखंड अध्यक्ष संजीव कुमार सुमन ने की। प्रखंड अध्यक्ष ब्रजनंदन सहाय, शोभा पासवान, राधिका देवी, इंदु देवी, राजद नेता संटू कुमार यादव, रंजीत यादव, सुनील सम्राट, गुड्डू मलिक, कौशलेन्द्र कुमार, दिलखुश यादव, बंटी पासवान आदि मौजूद थे।

Categories: Bihar News

मुचकुन के मोबाइल ने दिलाई एसटीएफ को दूसरी बड़ी सफलता

Dainik Jagran - December 18, 2018 - 9:40pm

पटना । रूपसपुर नहर रोड में एसटीएफ और बदमाशों के बीच हुई मुठभेड़ के दौरान मारे गए नौबतपुर के चेचौल निवासी मुचकुन उर्फ अभिषेक के मोबाइल ने मंगलवार को बिहार स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) को बड़ी सफलता दिलाई। मुचकुन के मोबाइल से पुलिस को एक अहम सुराग मिला जिसके आधार पर एसटीएफ ने मुजफ्फरपुर के पूर्व मेयर समीर कुमार की हत्या करने के आरोपित शंभू-मंटू गिरोह के गोविंद को गिरफ्तार कर लिया। गोविंद और मुचकुन के बीच गहरे संबंध का खुलासा दैनिक जागरण ने सोमवार के अंक में 'समीर के हत्यारों से जुड़े थे मुचकुन के तार' शीर्षक से प्रकाशित खबर में किया था।

टावर लोकेशन के आधार पर शुरू हुई छानबीन :

आधिकारिक सूत्रों की मानें तो मुचकुन के पास से मिला मोबाइल और राउटर (पोर्टेबल वाई-फाई) एसटीएफ के लिए तुरुप का पत्ता साबित हुआ। तकनीकी सेल की मदद से पुलिस ने जब उसके मोबाइल को खंगाला, तब मालूम हुआ कि गोविंद से उसकी अक्सर वाट्सएप कॉलिंग के माध्यम से बातें होती थीं। यहां तक कि वारदात के बाद दोनों एक-दूसरे को छिपाने और घटना में प्रयुक्त हथियार को ठिकाने लगाने में भी मदद करते थे। पुलिस ने मोबाइल और राउटर लोकेशन के आधार पर छानबीन शुरू कर दी।

: मिला एक संदिग्ध मोबाइल नंबर :

मुचकुन की वाट्सएप कॉल रिकॉर्ड से एक संदिध मोबाइल नंबर मिला। जब वह पटना पुलिस की दबिश बढ़ने पर मुजफ्फरपुर भागा तो वो नंबर हमेशा उसके मोबाइल लोकेशन की रेंज में रहता था। इसी नंबर पर मुचकुन ने तीन और चार दिसंबर को 16 बार वाट्सएप कॉलिंग की। एसटीएफ ने उस नंबर को सर्विलांस पर डाल दिया। लेकिन, गोविंद पुलिस से अधिक शातिर निकला। उस सिम कार्ड का इस्तेमाल एक किराना दुकानदार कर रहा था, जबकि उसी नंबर से गोविंद वाट्सएप चला रहा था। बावजूद इसके एसटीएफ ने एक साथ आधा दर्जन ठिकानों पर दबिश दी तो गोविंद भयभीत हो गया।

देश छोड़ने का लिया फैसला :

मुचकुन के मारे जाने और एक साथ लगातार सभी ठिकानों पर छापेमारी होने से गोविंद को जान का खतरा सताने लगा। इसलिए उसने देश छोड़ने का निर्णय लिया। वह पटना हवाई अड्डे से फ्लाइट लेकर मुंबई जाने वाला था। उसके संरक्षकों ने मुंबई के एक एजेंट से उसकी बात कराई थी, जो उसे फर्जी पासपोर्ट पर छह महीने के लिए मजदूर बताकर दुबई भेज देता। हालांकि इसकी भनक एसटीएफ को लग गई। दो दिन से एसटीएफ के डीएसपी, इंस्पेक्टर और कमांडो एयरपोर्ट के कोने पर नजर रख रहे थे। मंगलवार की दोपहर गोविंद पार्किंग एरिया में टैक्सी से उतरा ही था कि एसटीएफ की टीम ने उसे दबोच लिया।

Categories: Bihar News

PU कैंपस में हथियारबंद दस्‍ते के साथ घुसा शहाबुद्दीन का बेटा, ABVP ने उठाए सवाल

Dainik Jagran - December 18, 2018 - 9:31pm

पटना [जेएनएन]। सिवान के बाहुबली पूर्व सांसद माे. शहाबुद्दीन के बेटे मो. ओसामा के अपने हथियारबंद सुरक्षा दस्‍ते के साथ पटना विवि कैंपस में घुसने से माहौल गर्म हो गया। छात्रों के एक ग्रुप ने उसका स्‍वागत किया तो विरोण्‍ध में भी नारे लगे। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (अभाविप) ने इसका विरोध करते हुए कुलपति से जांच की मांग की है। 

पटना विश्वविद्यालय कैंपस में मंगलवार तब अफरा-तफरी मच गई, जब सिवान के एसिड बाथ डबल मर्डर के सजायाफ्ता और तिहाड़ जेल में बंद पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन का बेटा मो. ओसामा पहुंच गया। ओसामा भी एसिड बाथ डबल मर्डर कांड के गवाह मृतकों के तीसरे भाई की हत्‍या का आरोपित है।

इकबाल और नदवी हॉस्टल में हुआ स्‍वागत

ओसामा पटना कॉलेज परिसर स्थित इकबाल और नदवी हॉस्टल में गया। वहां शहाबुद्दीन और ओसामा का जोर-जोर से नाम लेने लगे। ओसामा के मना करने पर भी छात्र नहीं माने तथा गुलदस्ते देकर और माला पहनाकर उसका स्वागत किया।

कैंपस में कैसे घुसे, खड़ा हुआ सवाल

इसकी खबर कैंपस में फैल गई। चंद मिनट में सैकड़ों छात्र हॉस्टल में जमा हो गए। ओसामा के साथ हथियारबंद गार्ड की सूचना पर विश्वविद्यालय प्रशासन भी चौकस हो गया। हालांकि, विवि परिसर की कड़ी सुरक्षा के बावजूद ओसामा सुरक्षाकर्मियों की जानकारी के बग्‍ौर हथियारबंद गार्ड्स के साथ कैसे घुस गया, यह सवाल खड़ा हो गया है।

विश्वविद्यालय कैंपस में डेढ़ घंटे बिताए

हॉस्टल के बाद छात्रों व समर्थकों के साथ ओसामा साइंस कॉलेज के सामने स्थित मदरसा शमसुल होदा पहुंचा। मदरसा से निकलने के बाद ओसामा ने पटना साइंस कॉलेज कैंपस का भ्रमण किया तथा छात्रों से पढ़ाई व एकेडमिक माहौल की जानकारी ली। ओसामा विश्वविद्यालय कैंपस में डेढ़ घंटे तक रहा। उसने कहा कि उसकी मां हिना शहाब पारस अस्‍पताल में भर्ती हैं। उन्हें देखने वह पटना में है।

विद्यार्थी परिषद ने किया विरोध

दूसरी ओर बगैर पूर्व सूचना हथियारबंद सुरक्षा दस्‍ते के साथ कैंपस में आने का विद्यार्थी परिषद ने विरोध किया है। पटना विवि सीनेट सदस्य पप्पू वर्मा ने कहा कि कुलपति को जवाब देना चाहिए कि जब बगैर प्रवेश पत्र दिखाए कैंपस में एंट्री का प्रावधान नहीं है तो आधा दर्जन हथियारबंद सुाक्षा दस्‍ते के साथ कोई हॉस्टल में कैसे मीटिंग कर सकता है? कुलपति मामले की जांच कर दोषियों पर प्राथमिकी दर्ज कराएं। अन्यथा विद्यार्थी परिषद आंदोलन करेगी।

Categories: Bihar News

भिखारी ठाकुर के गीतों को सुन कर लोग हुए भाव-विभोर

Dainik Jagran - December 18, 2018 - 9:05pm

खगौल। भोजपुरी के शेक्सपियर कहे जाने वाले महान लोक कलाकार 'भिखारी ठाकुर' की जयंती नाट्य संस्था 'सूत्रधार' ने खगौल स्थित आर्यभट्ट निकेतन स्कूल के प्रेक्षागृह में मनाई। कार्यक्रम दो चरणों में विभक्त था। पहले चरण में विचार गोष्ठी एवं दूसरे चरण में भिखारी ठाकुर के गीतों की प्रस्तुति की गई। गोष्ठी की अध्यक्षता सूत्रधार के महासचिव नवा आलम ने की। इस अवसर पर आयोजित विचार गोष्ठी में वरिष्ठ रंगकर्मी उदय कुमार ने भिखारी ठाकुर की रंग चेतना एवं समकालीन रंग परिदृश्य पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि भिखारी ने अपने नाटकों को सामाजिक बदलाव का माध्यम बनाया। पलायन का दर्द, महिलाओं की त्रासदी, उंच-नींच, जात-पात में बंटा समाज, सामंतवादी मानसिकता, स्वार्थ में बिखरते घर-परिवार, रिश्ते-नाते, बाल विवाह, नशा आदि सामाजिक बुराइयों के प्रति नाटक के माध्यम से लोक जागरण का कार्य किया। भिखारी ठाकुर लोक जागरण के सूत्रधार थे। सूत्रधार के महासचिव नवाब आलम ने कहा कि भिखारी ठाकुर के उठाए मुद्दे एवं सवाल आज भी प्रासंगिक है। नवाब आलम ने भिखारी ठाकुर को विलक्षण प्रतिभा का धनी व्यक्ति बताया। अन्य वक्ताओं में विनोद शकर मिश्रा, समाजसेवी रंगकर्मी बिमलेश कुमार, रामनारायण पाठक, कुणाल, सुधीर मधुकर, प्रसिद्ध समाजसेवी एसएन यादव, रंगकर्मी दिलीप देशवासी ने भिखारी ठाकुर के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डालते हुए संदेशों को व्यवहार में उतारने की बात कही। जयंती समारोह के दूसरे सत्र में छपरा (सारण) से आई लोक गायिका बिन्दू भारती ने भिखारी ठाकुर के गीतों की प्रस्तुति से सब का मन मोह लिया। इस अवसर पर रंजीत प्रसाद सिन्हा, अस्तानंद सिंह, अनिल कुमार, मनोज सिन्हा, कमलेश सिंह,राकेश कुमार, रोहित कुमार, आदि लोग मौजूद थे।

Categories: Bihar News

पीयू कैंपस पहुंचे ओसामा, पूर्व सांसद शहाबुद्दीन के समर्थन में लगे नारे

Dainik Jagran - December 18, 2018 - 9:00pm

पटना। पटना विश्वविद्यालय कैंपस में मंगलवार को सिवान के पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन के बेटे मो. ओसामा पहुंचे। पटना कॉलेज परिसर स्थित इकबाल और नदवी हॉस्टल पहुंचते ही छात्र मोहम्मद शहाबुद्दीन और ओसामा के समर्थन में नारे लगने लगे। मनाही के बाद भी रुक-रुककर यह क्रम जारी रहा। छात्रों ने गुलदस्ते और माला पहनाकर स्वागत किया। ओसामा ने छात्रों से नारे नहीं लगाने का अनुरोध किया व कहा कि वह कुछ परिचित छात्रों से मिलने आए हैं। वहीं यह खबर कैंपस में जंगल की आग की तरह फैल गई। चंद मिनटों में ही सैकड़ों छात्र हॉस्टल में जमा हो गए। उसके साथ कई हथियारबंद गार्ड की सूचना मिलने पर विश्वविद्यालय प्रशासन भी चौकस दिखा। हॉस्टल के बाद सैकड़ों छात्रों व समर्थकों के साथ ओसामा साइंस कॉलेज के सामने स्थित मदरसा शमसुल होदा पहुंचे। छात्रों से तालीम की जानकारी और परेशानियों के बारे में पूछताछ की। कहा, उनकी मां हिना शहाब पारस हॉस्पिटल में भर्ती हैं। उन्हें देखने के लिए पटना पहुंचे हैं। मदरसा से निकलने के बाद ओसामा ने पटना साइंस कॉलेज कैंपस का भ्रमण किया। इस दौरान कई छात्रों से पढ़ाई व एकेडमिक माहौल की भी जानकारी ली। लगभग डेढ़ घंटे मोहम्मद ओसामा पटना विश्वविद्यालय कैंपस में रहे।

वहीं बगैर पूर्व सूचना के हथियारबंद गार्ड के साथ कैंपस में प्रवेश का अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने विरोध किया है। पीयू सीनेट सदस्य पप्पू वर्मा ने कहा कि कुलपति को जवाब देना चाहिए कि बगैर प्रवेश पत्र दिखाए कैंपस में किसी की इंट्री का प्रावधान नहीं है तो आधा दर्जन गार्ड के साथ कोई हॉस्टल में कैसे घंटों मीटिंग कर सकता है। कुलपति पूरे मामले की जांच कर दोषियों पर प्राथमिकी दर्ज कराएं। अन्यथा एबीवीपी आंदोलन को मजबूर होगा।

Categories: Bihar News

बिनोद मिश्र के संघर्ष को माले ने किया याद

Dainik Jagran - December 18, 2018 - 8:52pm

फतुहा। भाकपा माले के कार्यकर्ताओं ने मंगलवार को उसफा गाव में पूर्व महासचिव बिनोद मिश्र के 20वें शहादत दिवस पर संकल्प सभा की। सभा का नेतृत्व कर रहे फतुहा के सचिव शैलेंद्र यादव ने कहा कि केन्द्र से फासीवादी ताकतों को उखाड़ फेंकना है। गरीब, मजदूर, छात्र, नौजवानों का दमन हम कभी बर्दाश्त नहीं करेंगे। बिहार में अपराध चरम सीमा पर है। आये दिन हत्या, लूट, बलात्कार, चोरी की घटना हो रही है, लेकिन सरकार मूकदर्शक बनी बैठी है। मौके पर माले नेता मुन्ना पंडित, अवधेश कुमार, सीताराम, सोना देवी, लालमुनी देवी समेत कई लोग मौजूद थे। भाकपा माले का संकल्प दिवस

बिक्त्रम । भाकपा माले के पूर्व महासचिव बिनोद मिश्र की 20वीं बरसी को बिक्रम में कार्यकर्ताओं द्वारा संकल्प दिवस के रूप में मनाया गया। कार्यक्रम में अवधेश पासवान, शकर पासवान, बुचाड़ी पासवान, सुगन दास, जनक देव भगत, ललन सिंह, रामवचन वर्मा, लीला देवी, रामजीवन दास, कृष्णा दास, सोहन दास, रामजन्म यादव आदि थे। माले ने मनाया स्मृति दिवस

पालीगंज। प्रखंड के विभिन्न ग्राम पंचायत व प्रखंड कार्यालय में बिनोद मिश्र के स्मृति दिवस को संकल्प दिवस के रूप में मनाया गया। इस कार्यक्रम में अनवर हुसैन, सुधीर कुमार, ई. रविन्द्र कुमार सिन्हा रवि, कृष्ण नंदन कुमार, उमेश माझी, लीला वर्मा, महेश यादव आदि नेताओं ने भाग लिया। बीसवीं बरसी पर बिनोद मिश्र को श्रद्धाजलि

नौबतपुर। स्थानीय भाकपा माले कार्यालय में मंगलवार को माले के संस्थापक नेताओं में एक रहे बिनोद मिश्र की बीसवीं बरसी मनायी गई। इस मौके पर श्रीकात कुमार, मधेश्वर शर्मा, ओमप्रकाश गुप्ता, महेश यादव, वृजमोहन दास, राजेन्द्र पासवान व पप्पू शर्मा आदि शामिल थे। 20वीं बरसी पर माले ने दी श्रद्धांजलि

मसौढ़ी । भाकपा (माले) के दिवंगत महासचिव बिनोद मिश्र के 20वें शहादत दिवस पर मंगलवार को झडोतोलन के साथ सलामी दी गई। मौके पर भाकपा (माले) के जिला कमेटी सदस्य कमलेश कुमार, कार्यालय सचिव जटहू रविदास, विटेश्वर यादव, रामाशीष ठाकुर, कृष्णा बिंद, चंद्रशेखर माझी, शकर भारती, शिव पासवान आदि मौजूद थे।

Categories: Bihar News

बिहार में छह IPS अधिकारियों का तबादला, जानिए कौन कहां गया?

Dainik Jagran - December 18, 2018 - 7:45pm

पटना, जेएनएन। बिहार में छह आइपीएस अधिकारियों का तबादला कर दिया गया है। विभाग द्वारा जारी अधिसूचना के मुताबिक आइपीएस अधिकारी गणेश कुमार को पटना का आईजी प्रोविजन बनाया गया है।

वहीं आइपीएस राजेश राठी को शाहाबाद का डीआइजी बनाया गया है और बांका के एसपी चंदन कुशवाहा को समादेष्टा गृह रक्षा में तैनात किया गया है। वहीं स्वप्ना जी मेश्राम को बांका जिले का एसपी नियुक्त किया गया है। 

उनके अतिरिक्त अभिनव कुमार को रेल आइजी का सहायक बनाया गया है। भागलपुर एसएसपी आशीष भारती को अतिरिक्त पदभार देते हुए सीटीएस नाथनगर के प्राचार्य का भी पद दिया गया है।

दो दिनों के भीतर ये बिहार में आईपीएएस के तबादलों की दूसरी लिस्ट है। इससे पहले सोमवार को सीतामढी के एसपी विकास वर्मन समेत दो आईपीएस अधिकारियों का तबादला किया गया था।

 

Categories: Bihar News

बिहार कैबिनेट का फैसला: बढ़ेगा आंगनबाड़ी सेविकाओं-सहायिकाओं का मानदेय

Dainik Jagran - December 18, 2018 - 7:44pm

पटना, जेएनएन। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई बिहार कैबिनेट की बैठक में बड़ा फैसला लेते हुए आंगनबाड़ी केन्द्र की सेविकाओं और सहायिकाओं के मानदेय में वृद्धि के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई। अब सहायक सेविकाओं को 3500 के बदले 4500 रुपये मानदेय मिलेंगे, वहीं सहायिकाओं के मानदेय को 2250 से बढ़ाकर 3500 रुपये कर दिया गया है।

इसके साथ ही बिहार कैबिनेट ने आर ब्लॉक दीघा नई सड़क के लिए 379 करोड़ रुपये की रकम को मंजूरी दी है। इसके तहत फ्लाई ओवर, ब्रिज, फोर लेन और ड्रेनेज का निर्माण किया जाएगा। 

 

Categories: Bihar News

डिप्रेशन में हैं तेजप्रताप यादव, लालू से मिलने की वजह कहीं ये तो नहीं...जानिए

Dainik Jagran - December 18, 2018 - 4:47pm

 पटना, जेएनएन। तेजप्रताप यादव सोमवार की शाम पिता लालू यादव से मिलने के लिए रांची रवाना  हुए। लेकिन, रास्ते में ही उनकी तबीयत खराब हो गई। जिसकी वजह से उन्हें जहानाबाद के एक होटल में रूकना पड़ा। डॉक्टरों ने चेकअप कर बताया कि तेजप्रताप यादव आजकल डिप्रेशन में है, जिसकी वजह से उनका बीपी लो हो गया है। 

जहानाबाद में रूके तेजप्रताप के इलाज के लिए उनके साथ रह रहे विधायक सुदय यादव ने सदर हॉस्पिटल से डॉक्टर को बुलाया। डॉक्टर ने तेजप्रताप के स्वास्थ्य की जांच की और जरूरी दवा दी। डॉक्टर ने बताया कि तनाव के चलते तेजप्रताप का ब्लड प्रेशर लो हो गया था।

किस बात को लेकर तनाव में हैं तेजप्रताप 

अब सवाल ये है कि तेजप्रताप यादव जैसे युवा को डिप्रेशन क्यों है? आखिर किस बात को लेकर लालू के लाल इतने तनाव में हैं। 

बता दें कि तेजप्रताप यादव रविवार को अचानक राजद कार्यलय पहुंचे और कार्यकर्ताओं की मीटिंग भी ली।जहां उन्होंने रैली करने की घोषणा की। इसके साथ ही तेजप्रताप ने ये भी कहा कि अब मैं सक्रिय राजनीति में आ गया हूं। उनके कुछ दिनों पहले किए गए ट्वीट पर ध्यान दें जिसमें उन्होंने लिखा था कि मैंने अपने जीने का तरीका बदला है, तेवर नहीं।

उनके ट्वीट और दिए गए बयानों से स्पष्ट है कि वे पार्टी पर फिर से अपनी पकड़ बनाना चाहते हैं। दूसरा ये कि वे शायद किसी बात से 'डरे' हुए हैं तभी अचानक उन्होंने ये करवट लिया है और राजनीति में सक्रिय होने का एेलान किया है। 

तेजप्रताप के लालू से मिलने की कहीं ये वजह तो नहीं....

तेजप्रताप ने पत्नी एेश्वर्या राय को तलाक देने की अर्जी कोर्ट में दायर कर सीधा लालू से मिलने के लिए रांची के रिम्स अस्पताल जा पहुंचे थे, जहां उन्होंने दो घंटे तक बात की थी और पिता के सामने रोते रहे थे। रिम्स से निकलने के बाद तेजप्रताप ने पिता की बात ना सुनने की बात कही थी जिसमें लालू ने कहा था कि घर आने के बाद इस मामले में बात करेंगे।

एेसे में तेजप्रताप के रिम्स पहुंचने और पिता लालू से मुलाकात को लेकर एक बार फिर चर्चा गर्म हो गई है। अब देखना होगा आज की इस मुलाकात पर बिहार की राजनीति के अलावा परिवार में जारी गतिरोध कितना कम हो पाता है। 

तेजप्रताप ने कहा-नहीं लड़ना लोकसभा चुनाव 

सोमवार को रांची जाने से पहले तेजप्रताप ने कहा था कि उन्हें लोकसभा चुनाव लड़ने में कोई दिलचस्पी नहीं है। वे लोकसभा चुनाव लड़ना नहीं चाहते हैं। बता दें कि छपरा लोकसभा सीट लालू फैमिली की परंपरागत सीट है। पहले लालू और उसके बाद चारा घोटाला मामले में लालू प्रसाद यादव के सजायाफ्ता होने के बाद राबड़ी ने यहीं से चुनाव लड़ा था लेकिन, हार गई थीं। 

छपरा सीट को लेकर लग रहे कयास 

अब कयास ये लग रहे हैं कि छपरा से लोकसभा का चुनाव कौन लड़ेगा? तेजप्रताप की एेश्वर्या राय से शादी के बाद इस सीट पर चुनाव लड़ने के लिए उनका नाम भी उछाला गया, लेकिन अभी उनकी उम्र 25 साल नहीं हुई है, जिसकी वजह से वो चुनाव नहीं लड़ सकतीं और अब तो तलाक के मामले के बाद तो इसकी गुंजाइश नहीं बची है।

लालू-तेज के बीच क्या बातें होंगी...

हालांकि कयास इस बात के भी लगाए जा रहे हैं कि लालू यादव के समधी चंद्रिका राय के भी छपरा से चुनाव लड़ने के इच्छुक थे और माना जा रहा है कि तेजप्रताप और एेश्वर्या राय के बीच तनाव की एक वजह ये भी है। 

माना जा रहा है कि तेजप्रताप यादव लालू यादव से कहेंगे कि उन्हें भी पार्टी में अहम जगह दी जाए। साथ ही, तेजप्रताप अपने तलाक के बारे में भी पिता से बात करेंगे।

 

Categories: Bihar News

पटना: जेल से बाहर आईं आसरा होम की संचालिका मनीषा दयाल, कहा-मुझे फंसाया गया

Dainik Jagran - December 18, 2018 - 3:50pm

पटना, जेएनएन। पटना में चलने वाला आसरा शेल्टर होम की संचालिका मनीषा दयाल को पटना हाईकोर्ट से जमानत मिल गई और वो बेऊर जेल से आज रिहा हो गई। उन्हें कोर्ट से नियमित जमानत मिल गई है। ये जमानत उन्हें पहले ही मिल जाती लेकिन कुछ जरूरी कागजात नहीं मिलने की वजह से उन्हें जेल में ही रहना पड़ा था। आज उनकी रिहाई हो गई है। 

मनीषा दयाल जेल से बाहर आ रही थी तो उनके चेहरे पर खुशी साफ झलक रही थी। बाहर आते ही मीडिया के सवाल के जवाब में मनीषा ने सिर्फ इतना कहा कि मुझे फंसाया गया है। मैं निर्दोष हूं। 

इससे पहले न्यायाधीश एस कुमार की एकल पीठ ने आसरा शेल्टर होम की संचालिका मनीषा दयाल द्वारा दायर नियमित जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए जमानत पर रिहा करने का आदेश दिया। बता दें कि  वे पिछले 4 महीने से जेल में बंद थीं।

 मुजफ्फपुर शेल्टर होम मामला सामने आने के बाद  राज्य के अन्य आसरा होम की जांच में यह पता चला कि राजधानी पटना के राजीव नगर स्थित आसरा होम में भी कुछ गड़बड़ियां हुई है। खबर ये भी थी कि यहां के शेल्टर होम में दो लड़कियों की संदिग्ध मौत हुई है।

साथ ही मनीषा दयाल के आसरा होम से 10 अगस्त को कुछ लड़कियां भागने की कोशिश करते पकड़ीं गई थीं।जांच में पता चला कि शेल्टर होम में रह रही लड़कियों के साथ अत्याचार हुआ करते थे। वहां दो लड़कियां संदिग्‍ध परिस्थितियों में मृत भी पायीं गईं थीं। इसके बाद मनीषा दयाल को उनके सहयोगी चिरंतन कुमार के साथ गिरफ्तार कर लिया गया था।

Categories: Bihar News

बिहार: बैरक में सब इंस्पेक्टर ने लगा ली फांसी, सुसाइड से मची सनसनी

Dainik Jagran - December 18, 2018 - 3:49pm

पटना, जेएनएन। भोजपुर जिले के कर्मामेपुर ओपी में तैनात सब इंस्पेक्टर प्रकाश रजक ने मंगलवार को पुलिस बैरक में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। सुसाइड की खबर सुनते ही पूरे इलाके में सनसनी फैल गई है। बता दें कि कुछ दिन पहले ही सब इंस्पेक्टर प्रकाश रजक की पोस्टिंग इस थाने में हुई थी। घटना की सूचना मिलने के बाद पुलिस पदाधिकारी थाने पर पहुंचे खुदकुशी की वजह तलाश करने में जुट गए हैं।

प्रकाश रजक कब गले में फंदा डालकर झूल गया था इसकी जानकारी दोस्तों को तब लगी जब वह कमरे से बाहर नहीं निकला। घटना का वजह अभी खुलकर सामने नहीं आयी है।

मृतक प्रकाश रजक नवगछिया, भागलपुर जिले के मूल निवासी थे। जिले म़े छह साल से कार्यरत थे। वर्तमान म़े दारोगा की पोस्टिंग कारनामेपुर ओपी में थी। घटना के समय अपने बेरक में थे। इस बीच दारोगा ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर लिया । परिजनों को सूचित कर दिया गया है।

घटना के बाद साथी सिपाही कुछ भी बोलने से इंकार कर रहे हैं। रजक ने क्यों सुसाइड की अब तक इसका खुलासा नहीं हो पाया है। फिलहाल शव पुलिस बैरक में ही पड़ा है। परिजनों को सूचित कर दिया गया है। बता दें कि कुछ दिन पहले ही बांका जिले के एक दारोगा ने भी जहर खाकर सुसाइड कर ली थी।

Categories: Bihar News

पटना के डाकबंगला चौराहे का नाम बदल सकता है, लेकिन मंत्री की यह शर्त है

Dainik Jagran - December 18, 2018 - 2:43pm

पटना [जेएनएन] : यूपी में शहर समेत चौक-चौराहों के नाम बदल रहे हैं। कुछ इसी तरह की मांग पिछले कई दिनों से बिहार में भी उठने लगी है। कभी ​बख्तियारपुर के नाम बदलने की बात होने लगती है तो कभी किसी चौराहे का नाम बदलने की चर्चा तेज हो जाती है। इसे लेकर बिहार में राजनीतिक वार-पलटवार भी होती रहती है। अब नया मामला पटना के डाकबंगला चौराहे को लेकर है। 

राजनीतिक गलियारों से आ रही खबर को मानें तो पटना के डाकबंगला चौराहे को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर करने की चर्चा काफी तेज है। इसे लेकर जब पत्रकारों ने बिहार के नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा से बात की तो उन्होंने ऐसे किसी प्रस्ताव के आने से इनकार किया। 

नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा ने कहा कि डाकबंगला चौराहे के नाम को लेकर अभी तक कोई प्रस्ताव उन्हें नहीं मिला है। लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि अगर इस तरह का कोई प्रस्ताव आता है तो हमलोगों को खुशी होगी और हम सभी इसका समर्थन करेंगे। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का सभी नेता समर्थन करते हैं। लेकिन चौराहे का नामकरण सभी दलों की सहमति के बाद ही होगा। 

गौरतलब है कि पिछले दिनों बख्तियारपुर का नाम बदलने की मांग केंद्रीय राज्य मंत्री गिरिराज सिंह ने की थी। उन्होंने कहा था कि बख्तियारपुर ही नहीं, ऐसे अन्य शहरों के भी नाम बदले जाएं। लेकिन उस समय जदयू की ओर से इस पर कड़ी आपत्ति जताई गई थी और उन पर पलटवार किया गया था. इतना ही नहीं, पिछले सप्ताह जब यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ पटना आए थे, तो पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने कटाक्ष किया था कि वे बिहार आएं लेकिन नाम बदलने की राजनीति न करें।

Categories: Bihar News

ललन पासवान के वीडियो मामले पर गरमाई बिहार की सियासत, बयानों की जंग तेज

Dainik Jagran - December 18, 2018 - 1:52pm

पटना [जेएनएन] : रालोसपा से अलग हुए विधायक ललन पासवान का कथित वीडियो सोमवार से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसमें बिहार के मंत्रियों को लेकर विवादित बयान दिये गए हैं। हालांकि वीडियो वायरल होने के बाद मंगलवार को उन्होंने खुद को इस मामले से किनारा कर लिया है। लेकिन विधायक ललन पासवान के वायरल हो रहे इस वीडियो ने बिहार की सियासत को गरमा दिया है। 

बीजेपी ने ऐसे बयानों से बचने की नसीहत दी है। जबकि, जदयू ने ललन पासवान के बयान पर कड़ी आपत्ति जतायी है। वहीं राजद ने बयान को अमर्यादित बताया है। बता दें कि रालोसपा के बागी विधायक ललन पासवान वीडियो में कह रहे हैं कि आज बिहार के सभी मंत्री भीख मांग रहे हैं और हमलोग बिहार वाले लाइन में नहीं हैं। अगर गोल मारना होगा, यानी मंत्री बनना होगा तो हम दिल्ली वाले में गोल मारेंगे। 

इसी पर बीजेपी विधायक संजीव ​चौरसिया ने कहा कि ललन पासवान का बयान मर्यादा के खिलाफ है। उन्हें इस तरह के बयान से बचने की जरूरत है। दूसरी ओर जदयू के प्रदेश प्रवक्ता नीरज कुमार ने इस पर कड़ी नसीहत दी है। उन्होंने कहा कि इस तरह के बयान देने से क्या कोई मंत्री भिखारी या दाता बन जाएगा। इस तरह के गलत बयानबाजी किसी को नहीं करनी चाहिए। 

उधर राजद के भाई बीरेंद्र ने भी इस पर चुटकी लेते हुए बयान को अमर्यादित बताया। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र के लिए यह बयान दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि लोग पद पाने के लोभ में एक दल से दूसरे दल में छलांग लगाने लगते हैं। लेकिन इस तरह का बयान नहीं देना चाहिए। 

गौरतलब है कि विधायक ललन पासवान के बयान का कथित वीडियो वायरल होने के बाद उन्होंने इससे खुद को किनारा किया। मंगलवार को पटना में उन्होंने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि हमारे बयान को तोड़-मरोड़ कर दिखाया गया है। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि इसके लिए हमें माफी मांगने की जरूरत नहीं है। 

बहरहाल देखना होगा कि ललन पासवान के इस कथित वीडियो का बिहार की राजनीति पर क्या प्रभाव पड़ता है। इसे बिहार के सीएम या अन्य मंत्री किस नजरिए से देखते हैं। लेकिन वायरल हो रहे इस वीडियो ने राजनीतिक गलियारों में उथल-पुथल तो मचा ही दिया है। 

Categories: Bihar News

चाचा नीतीश ने सुन ली बात, दिया आश्वासन-तेजप्रताप को जल्द मिलेगा नया बंगला

Dainik Jagran - December 18, 2018 - 1:38pm

पटना, जेएनएन। बिहार में बंगले को लेकर सियासत जारी है। लालू यादव के दोनों बेटे तेजस्वी और तेजप्रताप सरकारी बंगले को लेकर परेशान हैं। जहां तेजस्वी को राज्य सरकार बंगला खाली करने को कह रही है वहीं लालू के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव इन दिनों अपने लिए अलग बंगले की मांग कर रहे हैं। तेजप्रताप यादव अपनी मां राबड़ी देवी के आवास में रह रहे थे। लेकिन अब वो वहां नहीं रह कर, अलग रह रहे हैं।

तेजप्रताप ने अब अपने लिए राज्य सरकार से नया बंगला मांगा है। उन्होंने सीएम नीतीश कुमार को फोन किया लेकिन उनकी बात नहीं हो पायी। इस वजह से तेजप्रताप नाराज हो गए थे और उन्होंने सीएम नीतीश कुमार पर तंज कसा था। तेज प्रताप ने मीडिया से बातचीत में भी कहा था कि मुख्यमंत्री आवास लगातार फोन लगा रहे हैं। लेकिन, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बात नहीं हुई है।

आज उनकी बात मुख्यमंत्री ने सुन ली है और तेजप्रताप यादव से फोन कर बात की है और नया बंगला देने की बात कही है। सूत्रों की माने तो उन्हें आश्वासन दिया गया है कि जल्द ही बंगला मिल जाएगा। सीएम नीतीश कुमार ने इस संबंध में तेज प्रताप को आश्वासन दिया है कि भवन निर्माण विभाग को बंगला के लिए कह दिया गया है।

भवन निर्माण मंत्री माहेश्वर हजारी ने कहा था कि भवन निर्माण विभाग केवल मंत्रियों को ही बंगला आवंटित करता है। विधायकों और विधान पार्षदों को विधानसभा और विधान परिषद की ओर से आवास आवंटित किया जाता है। अब सीएम के निर्देश के बाद जल्द ही लालू के बड़े बेटे को बंगला मिल जाएगा।

हालांकि, माहेश्वर हजारी ने फोन पर बातचीत में कहा कि मुख्यमंत्री का मेरे पास फोन नहीं आया है। संभव है कि वे भवन निर्माण विभाग के सचिव को निर्देश दिए हों। लेकिन सूत्र बता रहे हैं कि मुख्यमंत्री ने इस संबंध में भवन निर्माण विभाग को बंगला तेज प्रताप को देने का निर्देश दे दिया है और तेज प्रताप से भी मुख्यमंत्री की बातचीत हो गई है।

बता दें कि तेजप्रताप यादव ने अपनी पत्नी ऐश्वर्या राय से तलाक के लिए कोर्ट में याचिका दायर कर रखी है। लेकिन, एेश्वर्या राय अपने माता-पिता के साथ नहीं बल्कि राबड़ी देवी के साथ उनके आवास में रह रही हैं। तेजप्रताप तलाक की जिद पर अड़े हैं और इसीलिए वे राबड़ी आवास नहीं जाना चाहते हैं।

लालू परिवार तलाक मामले में तेज प्रताप को लगातार समझाने की कोशिश में लगा है। शायद यही कारण है कि तेज प्रताप ने घर और परिवार से दूरी बना रखी है और वो राबड़ी आवास नहीं जाना चाहते हैं। 

वहीं, रविवार को अचानक पार्टी कार्यालय पहुंचकर तेज प्रताप ने इरादा साफ कर दिया है कि वो राजनीति में पूरी तरह सक्रिय होना चाहते हैं। वो पिता लालू यादव से मिलने के लिए रांची भी गए थे, लेकिन रास्ते में तबियत खराब होने की वजह से पटना में ही रूके रहे।

 

Categories: Bihar News

Pages

Subscribe to Bihar Chamber of Commerce & Industries aggregator - Bihar News

  Udhyog Mitra, Bihar   Trade Mark Registration   Bihar : Facts & Views   Trade Fair