Bihar News

बिहार में JDU के तेवर तीखे, पूछा- क्‍या ऐसे ही चलेगा महागठबंधन?

Dainik Jagran - 54 min 56 sec ago

पटना [जेएनएन]। बिहार के सत्‍ताधारी महागठबंधन के भविष्‍य पर सवाल खड़ा होता दिख रहा है। इसका संकेत जदयू के प्रदेश अध्‍यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने दिया है। उन्‍होंने सवाल किया है कि खुल्‍लम-खुल्‍ला मर्यादाओं के उल्‍लंघन की हालत में भी गठबंधन चलता रहेगा?

वशिष्‍ठ नारायाण सिंह ने पूछा कि क्‍या गठबंधन उहापोह के हालत में चलेगा? कहा कि गठबंधन की भी सीमाएं हैं, मर्यादाएं हैं। अगर मर्यादाओं का पालन नहीं होता है तो गठबंधन के सभी घटक दलों पर प्रश्‍नचिन्‍ह खड़ा हो जाएगा। वशिष्‍ठ नारायाण सिंह के इस बयान के गहरे राजनीतिक अर्थ समझे जा रहे हैं। इससे स्‍पष्‍ट है कि जदयू ने अपने तेवर कड़े कर लिए हैं।

विदित हो कि राष्‍ट्रपति चुनाव को लेकर बिहार के सत्‍ताधारी महागठबंधन के घटक दल एकमत नहीं हैं। सबसे पहले जदयू सुप्रीमो नीतीश कुमार ने भाजपा के राष्‍ट्रपति प्रत्‍याशी रामनाथ कोविंद को अपना समर्थन दिया। इसपर महागठबंधन में तीखी प्रतिक्रिया हुई। इस बीच विपक्षी दलों ने बैठक कर पूर्व लोकसभा अध्‍यक्ष मीरा कुमार को राष्‍ट्रपति पद का प्रत्‍याशी घोषित कर दिया।

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने इसे नीतीश की एेतिहासिक भूल बताते हुए निर्णय पर पुनिर्वचार की अपील की। दोनों नेता लालू प्रसाद की इफ्तार पार्टी में साथ नजर आए, लेकिन वे कटे-कटे से दिखे। इफ्तार पार्टी के बाद नीतीश कुमार ने यह कह डाला कि विपक्ष ने मीरा कुमार को हारने के लिए खड़ा किया है।

यह भी पढ़ें: सोशल मीडिया: राम बनाम मीरा और लालू का दावत-ए-इफ्तार

नीतीश के बयान पर पहली बार डिप्‍टी सीएम तेजस्‍वी प्रसाद यादव ने पलटवार किया। इस बीच महागठबंधन के अन्‍य नेताओं के बयान जारी रहे। जदयू के प्रदेश अध्‍यक्ष का ताजा बयान इसी संदर्भ में बताया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: राष्‍ट्रपति चुनाव का अखाड़ा बना बिहार, पूरे देश की टिकी नजर

Categories: Bihar News

जान लेता ही नहीं बचाता भी है सांप, अब कैंसर से मुक्ति दिलाएगा इसका जहर

Dainik Jagran - 56 min 49 sec ago

पटना [जेएनएन]। सांप का जहर जान लेती है। लेकिन, यह जान बचाने के भी काम आती है। इससे सांप के काटने पर इलाज की दवा तो बनती ही है, कैंसर, पार्किंसन व अल्‍जाइमर जैसे रोगों के इलाज में भी इसकी भूमिका है। इस कारण देश-विदेश में  इसकी भारी मांग है।

मांग को देखते हुए सांप के जहर की बड़े पैमाने पर तस्‍करी होती रही है। बीते महीने मई में ही बिहार के किशनगंज में एसएसबी ने तस्‍करी कर बाहर भेजा जा रहा 70 करोड़ रुपये का सांप का जहर बरामद किया था। आइए नजर डालते हैं सांपों के जहर के दवाओं में उपयोग पर...

- सांप के जहर से एंटी वेनम बनता है। जहर को अल्‍प मात्रा में जानवर के शरीर में इंजेक्‍ट कर जानवर के खून से ऐटीबॉडी लिया जाता है। इससे सांप के कोटे का इलाज होता है।

- रैटल स्‍नेक के जहर में पाए जाने वाले 'क्रोटोक्सिन' के कैंसर कोशिकाओं को नष्‍ट करने में इस्‍तेमाल पर वैज्ञानिक रिसर्च कर रहे हैं।

- रैटल स्‍नेक के जहर में 'क्रोविरिन' पाया जाता है, जिससे लेइसमेनियेसिस नामक बीमारी के कारक प्रोटोजोवा को खत्‍म किया जा सकता है।

- ब्‍लैक मांबा के जहर का असर नर्वस सिस्‍टम पर पड़ता है। इससे पार्किंसन व अल्‍जाइमर रोगों के इलाज पर रिसर्च चल रहा है।

यह भी पढ़ें: प्रेमिका की कहीं और हो रही थी शादी, प्रेमी ने घर पहुंच उठाया ये खौफनाक कदम

- पिट वाइपर के जहर में पाया जाने वाला प्रोटीन ब्‍लड प्रेशर बढ़ने से रोकता है। यह ब्‍लड प्रेशर बढ़ाने के लिए उत्‍तरदायी एंजाइम को काम नहीं करने देता है।

यह भी पढ़ें: शादी के 9 दिनों बाद दुल्हन हो गई किडनैप, प्रेमी संग इस हालत में मिली

Categories: Bihar News

आपातकाल दिवस विशेष: तब JP ने बनाई थी समानांतार 'जनता सरकार'

Dainik Jagran - 1 hour 11 min ago

पटना [अमित आलोक]। 1975 के 25 जून को तत्‍कालीन इंदिरा सरकार ने देश में आपातकाल की घोषणा की थी। इसकी पृष्‍ठभूमि 1974 के 18 मार्च को बन चुकी थी, जब लोकनायक जयप्रकाश नारायण (जेपी) ने छात्र आंदोलन की शुरूआत की थी। दरअसल, जेपी ने दलविहीन शासन व संपूर्ण क्रांति का दर्शन देकर जो आंदोलन खड़ा किया था, उसका बौखलाई सरकार ने जमकर दमन किया।

कम लोग ही जानते हैं कि आपातकाल की पृष्‍ठभूमि में रहे जेपी के आंदोलन के दौरान बिहार में सरकार के समानांतर एक 'जनता सरकार' बनाई गई थी। सूबे की ऐसी पहली जनता सरकार सिवान जिले के पचरूखी प्रखंड में बनी थी। बाद में नवादा, बिहारशरीफ व जुमई में भी जनता सरकारें बनाई गई।

दलविहीन लोकतंत्र चाहते थे लोकनायक
जयप्रकाश का मानना था कि भारत में सच्चे लोकतंत्र की जगह दलतंत्र स्थापित हो गया है। राजनीतिक दलों की भूमिका से असंतुष्ट जेपी दलविहीन लोकतंत्र चाहते थे। समाज में आमूल-चूल परिवर्तन कर एक आदर्श व वर्ग-विहीन समाज की स्थापना को ले उन्होंने संपूर्ण क्रांति की अवधारणा भी दी। उन्होंने 9 दिसंबर, 1973 को वर्धा में एक अपील जारी कर देश के युवकों से लोकतंत्र की रक्षा के लिए एक संगठन बनाने को कहा।

लाठीचार्ज में हुए घायल
जेपी ने सन् 1974 में बिहार आंदोलन की शुरुआत की। उनके नेतृत्व में छात्र संघर्ष समिति का गठन किया गया। छात्रों व युवाओं की यह समिति जनसंघर्ष समिति में शामिल बुजुर्गो से समन्वय स्थापित कर शांतिपूर्ण आंदोलन कर रही थी। इसी क्रम में 2 से 4 नवंबर, 1974 को जयप्रकाश के नेतृत्व में पटना में विधान सभा का घेराव किया गया, जिसपर सरकार की लाठियां चलीं। इसमें जेपी भी घायल हुए।

सिवान ने की पहल
आहत जेपी ने तब बिहार में सरकार के 'समानांतर जनता सरकार' बनाने का ऐलान कर दिया। प्रखंड व आगे विभिन्न स्तरों पर बनने वाली इस सरकार के पास प्रशासनिक अधिकार तो नहीं होते, लेकिन वह जनमत के माध्यम से सरकार पर दबाव बनाती।

जेपी के आह्वान पर अप्रैल, 1974 में इसके लिए पटना में हुई बैठक में सिवान जिला के छात्र संघर्ष समिति के संयोजक जनकदेव तिवारी ने प्रस्ताव दिया कि ऐसी पहली प्रखंड स्तरीय जनता सरकार जिले के पचरूखी में बनाई जाए।

पचरूखी हाईस्कूल में बनी 'सरकार'
फिर मई, 1975 में सिवान के राजेंद्र खादी भंडार में दादा धर्माधिकारी, आचार्य राममूर्ति व सिद्धराज ढढ्डा, दिनेश भाई व अमरनाथ भाई आदि की मौजूदगी में एक बैठक हुई। इसमें पचरूखी के गांधी हाई स्कूल में 1 जून, 1975 को जनता सरकार की घोषणा करने का निर्णय लिया गया।

आंदोलकारी कर लिए गए गिरफ्तार
जनकदेव तिवारी के अनुसार इसके बाद आंदोलनकारियों ने लगातार बैठकें कर प्रस्तावित सरकार की रूपरेखा तय की। जेपी अांदोलन के सिलसिले में बनी छात्र-युवा संघर्ष वाहिनी के संगठन प्रभारी रहे महात्मा भाई ने बताया कि निर्धारित स्थल पर जैसे ही इस सरकार की घोषणा की गई, वहां मौजूद अांदोलनकारियों को गिरफ्तार कर लिया गया।

इनमें कवि नागार्जुन, राज इंक्लाब, शहीद सुहरावर्दी, जहीद परसौनी, जेडए जाफरी आदि हस्तियां भी शामिल थीं। इस दौरान स्थानीय दीपेंद्र वर्मा, जनकदेव तिवारी, कुमार विश्वनाथ, हैदर अली, गंगा विशुन साह, मैथिली कुमार श्रीवास्तव, नयन कुमार, रमेश कुमार व अशोक राय सहित महात्मा भाई भी गिरफ्तार किए गए थे।

अन्य जगह भी बनीं जनता सरकारें
महात्मा भाई ने बताया कि आगे 15 जून, 1975 को नवादा के कौवाकोल व 17 जून को बिहारशरीफ के एकरंगसराय में प्रखंड स्तरीय जनता सरकारें बनीं। फिर 23 जून को जमुई में आचार्य राममूर्ति के नेतृत्व में भी ऐसी सरकार बनी। इसके बाद आपातकाल की घोषणा के साथ जयप्रकाश गिरफ्तार कर लिए गए।

यह भी पढ़ें: राष्‍ट्रपति चुनाव का अखाड़ा बना बिहार, पूरे देश की टिकी नजर

1979 में हुआ जेपी का महाप्रयाण
आपातकाल के बाद सन् 1977 के लोक सभा चुनाव में उन्होंने जनता पार्टी की सरकार को बनवाने में अहम भूमिका निभाई। लेकिन जेपी अपने सिद्धांतों को अमली जामा पहनाने के लिए अधिक दिनों जीवित नहीं रह सके। सन् 1902 के 11 अक्टूबर को सिताब दियारा में जन्में जेपी 8 अक्टूबर, 1979 को देश को शोकाकुल इस धराधाम को छोड़ गए।

यह भी पढ़ें: राजद नेता ने कहा- एेसा कोई सगा नहीं, जिसे नीतीश ने ठगा नहीं, जदयू ने किया पलटवार

Categories: Bihar News

GST पेमेंट को लेकर हैं परेशान? डोंट वरी! ...जानिए क्‍या मिली है बड़ी राहत

Dainik Jagran - 3 hours 30 min ago

पटना [जेएनएन]। जीएसटी पेमेंट को लेकर यह व्‍यवसायियों को बड़ी राहत है। व्‍यवसायी अब किसी भी नजदीकी बैंक की शाखा में जीएसटी के पेमेंट का भुगतान कर सकते हैं। पहले केवल स्टेट बैंक के ट्रेजरी ब्रांच में ही पेमेंट  जमा करने का प्रावधान था।

गया में सेंट्रल बिहार चैम्बर ऑफ कॉमर्स की जीएसटी कार्यशाला में सह बड़ी जानकारी सेल्स टैक्स विभाग के उपायुक्‍त नंदकिशोर राज ने दी। उन्होंने बताया कि जीएसटी से रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया 25 जून से फिर शुरू की जा रही है। इस बार रजिस्ट्रेशन में शुल्क नहीं लगेगा।

उन्‍होंने बताया कि आवेदन के बाद तीन दिनों के अंदर रजिस्ट्रेशन नंबर जेनरेट कर दिया जाएगा तथा सर्टिफिकेट भी ऑनलाइन भेजे जाएंगें।

औरंगाबाद के वाणिज्यकर पदाधिकारी विकास कुमार पाण्डेय ने बताया कि अगर सालाना आपका बिजनेस 20 लाख रुपये है तो रजिस्ट्रेशन की बाध्यता नहीं। लेकिन, अगर तीन राज्‍यों में व्‍यवसाय है और तीनों का जीटीओ जोड़कर 20 लाख से अधिक है तो तीनों राज्‍यों में अलग-अलग रजिस्ट्रेशन कराना पड़ेगा, जबकि पैन नंबर एक ही रहेगा।

इस अवसर पर सीटीओ गंगा प्रसाद ने बताया कि महीने में एक ही रिटर्न दाखिल करना है, साथ ही सेल का डाटा जरूर अपलोड करना है।

Categories: Bihar News

राष्‍ट्रपति चुनाव: लालू ने मीरा के लिए मांगे वोट, 'वेट-एंड-वाच' में नीतीश

Dainik Jagran - 4 hours 24 min ago

पटना [जेएनएन]। राष्ट्रपति चुनाव के प्रत्‍याशी को समर्थन के मुद्दे पर बिहार के सत्‍ताधारी महागठबंधन में दो दिनों की तकरार के बाद शनिवार से शांति दिख रही है। जदयू और राजद नेताओं के बयानों की तल्‍खी खत्‍म होती दिख रही है। लेकिन, दोनों अपने स्‍टैंड पर कायम हैं। सीएम नीतीश कुमार भाजपा के राष्‍ट्रपति प्रत्‍याशी रामनाथ कोविंद काे समर्थन दे रहे हैं तो राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद विपक्ष की प्रत्‍याशी मीरा कुमार के लिए समर्थन मांग रहे हैं।

जदयू से अलग चल रहा राजद शनिवार को विपक्ष की प्रत्‍याशी मीरा कुमार की जीत की रणनीति बनाने में व्‍यस्‍त रहा। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव दिन भर मीरा कुमार के पक्ष में झारखंड के नेताओं से संपर्क साधते रहे। राजद का दावा है कि झारखंड में सभी गैर भाजपा दल  मीरा कुमार  को समर्थन देंगे। जानकारी के अनुसार लालू ने झारखंड के कांग्रेसी नेताओं के अलावा बाबूलाल मरांडी से भी मीरा के पक्ष में वोट की अपील की।

इस बीच यह खबर भी मिली है कि राजद के करीब 10 विधायक मीरा कुमार के नामाकंन पत्र पर हस्‍ताक्षर करेंगे। एक सेट राजद की ओर से दाखिल किया जाएगा।

इस बीच कल मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार काम में व्‍यस्‍त रहे। उन्‍होंने महाराष्ट्र से आये किसान नेता से मुलाकात की। हालांकि, सूत्र बताते हैं कि जदयू में राजद को लेकर विमर्श का दौर चलता रहा। जदयू अभी 'वेट एंड वाच' की स्थिति में है। उसे राजद व कांग्रेस के  अगले कदम का इंतजार है।

Categories: Bihar News

शादी के 9 दिनों बाद दुल्हन हो गई किडनैप, प्रेमी संग इस हालत में मिली

Dainik Jagran - 5 hours 6 min ago

पटना [जेएनएन]। शादी के नौ दिनों बाद प्रेमी ने दुल्‍हन को किडनैप कर लिया। घटना के एक महीने बाद पुलिस ने उसे उसके प्रेमी के साथ बरामद करते हुए प्रेमी सहित तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया। घटना बिहार के आरा की है।

आरा मुफस्सिल थाना के धुधुआं गांव निवासी संजना (काल्पनिक नाम) की शादी 16 मई वर्ष 2017 को आयर थाना के बरनाव उतरवारी मठिया गांव निवासी पिंटू से हुई थी। शादी के नौ दिनों बाद 25 मई को दुल्हन लापता हो गयी।

इसके बाद संजना के पिता ने आयर थाना में बेटी के अपहरण को लेकर तीन लोगों के खिलाफ एफआइआर दर्ज करा दी। इसके बाद पुलिस ने धनबाद हाउसिंग कॉलोनी इलाके से मुख्य आरोपी सरोज यादव, उसके भाई गजेन्द्र यादव व बहनोई चन्देश्वर राय को गिरफ्तार किया। उनके साथ कथित अपहृता भी मिल गई।
पुलिस के अनुसार य‍ह मामला प्रेम-प्रसंग का है। गिरफ्तार सरोज यादव विवाहिता के मायके धुधुआ गांव का ही रहने वाला है। विवाहिता के अनुसार घटना के दिन सरोज उसकी ससुराल आया था। वह मां को बीमार बता ऑटो से आरा ले गया, फिर वहां बेहोश कर दिया। इसके बाद जब नींद खुली तो वह धनबाद में थी।

Categories: Bihar News

राष्‍ट्रपति चुनाव का अखाड़ा बना बिहार, पूरे देश की टिकी नजर

Dainik Jagran - 5 hours 34 min ago

पटना [अरविंद शर्मा]। बिहार राष्ट्रीय राजनीति का अखाड़ा बन गया है। पूरे देश की नजर टिकी है। लालू प्रसाद और नीतीश कुमार की जुबानी जंग के बाद महागठबंधन के सेकेंड लाइन के नेताओं ने मोर्चा संभाल लिया। राजद के निशाने पर रहे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार। दूसरी तरफ जदयू ने क्रॉस वोटिंग की संभावना जताकर राजद और कांग्रेस नेताओं की परेशानी और बढ़ा दी है।

जदयू नेता श्याम रजक ने रामनाथ कोविंद को अच्छा उम्मीदवार बताते हुए उम्मीद जताई है कि चुनाव में क्रॉस वोटिंग होगी और जदयू-राजग के अलावा भी उन्हें वोट मिलेंगे। राजद और जदयू की इस लड़ाई पर राजग नेता खुश हैं। वे खुलकर नीतीश का साथ दे रहे और उन्हें ललकार रहे हैं।  

पूरे देश की है नजर
राष्ट्रपति पद के दो उम्मीदवार हैं और दोनों का बिहार कनेक्शन है। एक की जन्मभूमि बिहार है, दूसरे की कर्मभूमि अभी बिहार थी। दोनों को लेकर लालू प्रसाद और नीतीश कुमार राष्ट्रपति चुनाव को लेकर आमने-सामने हैं। नतीजा यह है कि राष्ट्रपति चुनाव के बहाने बिहार राष्ट्रीय राजनीति की धुरी बन गया है।

महागठबंधन के दो शीर्ष नेताओं के राजनीतिक पैंतरे से लग रहा है कि बैटल फील्ड बिहार है। वैसे तो दलित बनाम दलित की इस लड़ाई का प्रभाव पूरे देश में है, लेकिन सियासी जागरूकता, प्रतिद्वंद्विता एवं दाव-पेंच की शिल्प-शैली के कारण राष्ट्रीय स्तर पर बिहार चर्चा में है।
2019 की लड़ाई दांव पर
जदयू के इस फैसले से महागठबंधन में विकट विरोधाभास की स्थिति उत्पन्न हो गई है। विपक्ष का 2019 का चुनावी गणित बदल गया है और सपने धराशायी दिखने लगे हैं। भाजपा के विजय रथ को सबसे पहले बिहारी फार्मूले से ही रोका गया था। नीतीश कुमार एवं राजद प्रमुख लालू प्रसाद की जोड़ी ने कांग्रेस को साथ लेकर भाजपा विरोध की ऐसी पटकथा लिखी कि विपक्षी राजनीति को बिहार से प्रेरणा मिलने लगी।

लालू-नीतीश के झगड़े से अब राष्ट्रीय स्तर पर बिहारी फार्मूला चल पाएगा कि नहीं इसको लेकर संशय की स्थिति बन रही। यही वजह से कि देश का भाजपा विरोधी धड़ा बिहार पर नजर गड़ाए है।  
वोट के मामले में चार नंबर पर बिहार
राष्ट्रपति पद के लिए 17 जुलाई को होने वाले मतदान में वोटों की संख्या के हिसाब से बिहार देश में चौथे स्थान पर है। यूपी, महाराष्ट्र एवं पश्चिम बंगाल के निर्वाचित जनप्रतिनिधियों का मत मूल्य बिहार से अधिक है। यूपी की तुलना में बिहार का मत मूल्य लगभग आधा है। फिर भी यहां का चुनावी माहौल सबसे अधिक गर्म है।
कोविंद के पक्ष में क्रॉस वोटिंग होगी
--------------
पक्ष-विपक्ष के बीच जारी है बयानबाजी: डालते हैं एक नजर

''रामनाथ कोविंद की जीत पक्की है। उन्हें अन्य पार्टियों का भी समर्थन मिलेगा। राष्ट्रपति चुनाव में क्रॉस वोटिंग की परंपरा रही है। जदयू अपने स्टैंड पर मजबूती से कायम है। हम राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद का आदर करते हैं, लेकिन बाबा टाइप नेता कुछ भी बोलते रहें, यह कतई बर्दाश्त नहीं होगा।''

- श्याम रजक, जदयू के वरिष्ठ नेता

 
''यह समय बताएगा कि रामनाथ कोविंद का समर्थन कर नीतीश ऐतिहासिक भूल कर रहे या उनका विरोध कर रहे लालू प्रसाद। इतना ही दम है तो लालू प्रसाद गठबंधन तोड़कर अपने बूते चुनाव मैदान में क्यों नहीं आ जाते?''

- रामविलास पासवान, केंद्रीय मंत्री

''ऐसा कोई सगा नहीं, नीतीश ने जिसे ठगा नहीं। लगता राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ से इनकी डील पक्की हो चुकी है। हम विचारधारा के लिए लड़ रहे।''
- भाई वीरेंद्र, राजद विधायक

''हार देख कर बौखलाये राजद नेता मुख्यमंत्री के लिए धोखेबाज-पलटीमार जैसे ओछे शब्दों का प्रयोग कर रहे हैं। अब जद-यू को तय करना है कि वह अपमान का घूंट पीकर कब तक सत्ता में बने रहना चाहता है।''

- सुशील कुमार मोदी, पूर्व उप मुख्यमंत्री
-

राष्ट्रपति चुनाव में बिहार के वोट कम, फिर भी दम

प्रदेश : लोस : रास : विस : कुल मतमूल्य
यूपी : 80 : 31 : 403 : 162,412
महाराष्ट्र : 48 : 19 : 288 : 97,836
प. बंगाल : 42 : 16 : 294 : 85,458
बिहार : 40 : 16 : 243 : 81,684
 

Categories: Bihar News

सोशल मीडिया: राम बनाम मीरा और लालू का दावत-ए-इफ्तार

Dainik Jagran - 5 hours 34 min ago

पटना [काजल]। बीते सप्‍ताह सोशल मीडिया में राष्‍ट्रपति चुनाव की राजनीति छाई रही। रामनाथ कोविंद व मीरा कुमार को लेकर सत्‍ताधारी महागठबंधन का विवाद साफ झलकता दिखा। बयानों की बारिश के बीच सियासी इंद्रधनुष निकला।

बिहार के राज्यपाल और नीतीश के फेवरिट रहे रामनाथ कोविंद को जहां एनडीए ने अपना प्रत्याशी बनाया है, वहीं विपक्ष की सत्रह पार्टियों ने मिलकर तमाम हंगामे के बीच अपने तुरुप के पत्ते के तौर पर बाबू जगजीवन राम की बेटी और राजनीति का जाना-माना चेहरा रहीं मीरा कुमार को उम्मीदवार के तौर पर पेश किया है।
दोनों उम्मीदवारों का बिहार से गहरा नाता रहा है, एक की यह जन्मभूमि है तो दूसरे की कर्मभूमि। दोनों का चयन भी अचानक ही हुआ और दोनों के चयन को लेकर सोशल मीडिया पर चर्चाओं का दौर आज भी जारी है।
बात करें एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद की तो उन्हें शायद खुद भी पता नहीं होगा कि वो राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार हो सकते हैं। एनडीए नेताओं की बैठक के बाद बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह ने जैसे ही बिहार के राज्यपाल का नाम लिया, टीवी पर नजरें गड़ाए लोगों को अपनी आंखों पर विश्वास ही नहीं हुआ।

ये खबर सोशल मीडिया में आग की तरह फैल गयी और रामनाथ कोविंद तमाम साइट्स के टॉप ट्रेंड में शामिल हो गए। उस दिन उन्होंने पीएम मोदी और अमिताभ बच्चन को भी पछाड़ दिया और सबसे ज्यादा सर्च किए गए। इससे भी बड़ी बात यह हुई कि उनके नाम की घोषणा के बाद जदयू ने भी अपनी आपात बैठक बुलाई और अध्यक्ष सह सीएम नीतीश कुमार ने अपने पसंदीदा उम्मीदवार रामनाथ कोविंद के नाम पर अपनी मुहर लगा दी।

इस खबर से चारों ओर सनसनी फैल गई। यह सुनते ही जहां एक ओर महागठबंधन के नेताओं की बेचैनी बढ़ तो वहीं दूसरी ओर दिल्ली में बैठक कर रही विपक्षी पार्टियों को भी गहरा धक्का लगा और उन्होंने दांव खेलते हुए बिहार की बेटी मीरा कुमार को अपना प्रत्याशी बना लिया ताकि नीतीश इस बहाने भी अपना फैसला बदल लें।

लालू ने भी नीतीश को समझाने का प्रयास करते हुए कहा कि यह एतिहासिक भूल मत कीजिए नीतीश जी, एक बार फिर सोच लीजिए। लेकिन अपने फैसले से कभी पीछे नहीं हटने वाले नीतीश ने भी लालू को करारा जवाब दिया कि अगर यह एतिहासिक भूल है तो यह भूल कर लेने दीजिए।

हालांकि, नीतीश के इस फैसले की बुद्धिजीवी वर्ग ने जमकर सराहना की। लेकिन राजद नेताओं ने तंज कसते हुए कहा कि बीजेपी का साथ इतना ही पसंद है तो जाकर सट जाइए, धोखा मत दीजिए। महागठबंधन के बीच बढ़ती इस दूरी को सोशल मीडिया में बदलते समीकरण के रूप में देखा जा रहा है।
रमजान के महीने में दावत-ए-इफ्तार का भी खूब दौर चला, सभी राजनीतिक हस्तियों ने अपने-अपने आवास पर दावत-ए-इफ्तार का आयोजन किया। इफ्तार पार्टी के बहाने कई तरह की चर्चाएं और कई तरह व्यंजन के स्वाद के चर्चे रहे।

लालू के घर की इफ्तार पार्टी इस बार खास रही। इफ्तार पार्टी में सबकी नजरें लालू-नीतीश पर टिकी रहीं। दोनों ने एक-दूसरे को गले तो लगाया, लेकिन बढ़ती दूरी साफ झलक रही थी। रूठने-मनाने जैसी बातें तो हुई नहीं, लेकिन तल्खी ऐसी दिखी कि नीतीश ने साफ शब्दों में कहा कि मीरा को सबने हराने  के लिए ही उम्मीदवार बनाया है, इस मुद्दे पर राजनीति नहीं की जानी चाहिए। इसपर पहली बार डिप्टी सीएम  तेजस्वी ने नीतीश को जवाब देते हुए कहा कि मैदान में उतरने से पहले जीत-हार तय नहीं होती।
 

Categories: Bihar News

प्रेमिका की कहीं और हो रही थी शादी, प्रेमी ने घर पहुंच उठाया ये खौफनाक कदम

Dainik Jagran - 5 hours 35 min ago

पटना [जेएनएन]। प्रमिका की शादी कहीं और तय होने पर निराश प्रेमी  ने उनके घर के सामने सुसाइड की कोशिश की। गंभीर हालत में उसे अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है। घटना गोपालगंज के रामनरेश नगर में बीती रात हुई।

जानकारी के अनुसार एक युवक का एक युवती से प्रेम प्रसंग चल रहा था। लेकिन, युवती के परिवार वालों को यह संबंध स्‍वीकार नहीं था। उन्‍होंने उसकी शादी कहीं और तय कर दी।

इसकी जानकारी होने पर युवक ने युवती के घर पर पहुंचकर उसकी शादी रोकनी का आग्रह किया।  इस बात को लेकर वहां कहासुनी होने लगी। इस दौरान अचानक युवक ने अपने हाथ की नस काटकर सुसाइड की कोशिश की।

अचानक की इस घटना के बाद वहां अफरा-तफरी मच गई। लोगों ने युवक को गोपालगंज सदर अस्‍पताल में भर्ती कराया, जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है।

Categories: Bihar News

प्रत्येक छह माह पर नेत्र-जांच कराएं मधुमेह रोगी

Dainik Jagran - 11 hours 8 min ago

पटना । मधुमेह के मरीजों को प्रत्येक छह माह पर अपनी आंखों की रोशनी की जांच अवश्य करानी चाहिए। मधुमेह के मरीजों को छह माह पर आंखों की जांच नहीं होने पर अचानक समस्या काफी गंभीर हो जाती है। इससे आंख की बड़ी समस्या पैदा हो सकती है। ये बातें राजधानी के एक होटल में आयोजित कार्यशाला में वरिष्ठ नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. राजव‌र्द्धन आजाद ने कहीं। कार्यशाला का आयोजन आइएमए, एआइओएस, एक्वायन बिहार, वीआरएस के संयुक्त तत्वावधान में किया गया था।

बचपन से करें आंखों की देखभाल :

डॉ. आजाद ने कहा कि आंखों की देखभाल बचपन से होनी चाहिए। सबसे पहले पांच साल से पहले बच्चों के आंखों की जांच जरूर हो जानी चाहिए। बचपन में बीमारी पकड़ में आने पर बहुत हद तक ठीक की जा सकती है। कई बीमारियों के देर से पकड़ में आने के कारण पूरी तरह ठीक करने में परेशानी होती है।

विश्वास कायम रखना डॉक्टरों की जिम्मेदारी :

कार्यशाला का उद्घाटन भूमि एवं राजस्व मंत्री मदन मोहन झा ने किया। उन्होंने कहा कि लोग डॉक्टर को धरती का भगवान मानते हैं। उनका विश्वास कायम रखना डॉक्टरों की जिम्मेदारी है। प्रत्येक डॉक्टर को बीमारी मुक्त समाज बनाने की पहल करनी चाहिए। मंत्री ने कहा कि आंख के डॉक्टरों पर विशेष जिम्मेदारी है। आखें नहीं होने पर सारी दुनिया बेमानी लगने लगती है।

कार्यशाला में आए अतिथियों का स्वागत डॉ. सुनील कुमार सिंह ने किया। उन्होंने कहा कि मधुमेह आंखों के पर्दे को प्रभावित करता है, इससे आंखों की रोशनी कम होने लगती है।

-------

डायबेटिक रेटिनोपैथी घातक बीमारी :

केरल से आए डॉक्टर एनएसडी राजू ने कहा कि डायबेटिक रेटिनोपैथी एक घातक बीमारी है। यह तेजी से बढ़ रही है। यह बीमारी काफी देर से पता चलती है, तब तक आंखों को बचना काफी मुश्किल है। अगर शुरू में बीमारी पता चल जाए तो उसे पूरी तरह से ठीक किया जा सकता है।

बच्चों में बढ़ रही आंखों की बीमारी :

कोलकाता से आए डॉ. स्वप्न सामंत ने कहा कि देशभर में बच्चों में आंख संबंधी समस्या बढ़ रही है। इसके प्रति अभिभावकों को जागरूक करना बहुत जरूरी है। बच्चों की एक बार आंख चली गई तो पूरा जीवन ही बोझ बन जाता है। बच्चों को आंखों की बीमारियों से बचाने के लिए प्रिवेंट चाइल्डहुड ब्लाइंडनेस प्रोग्राम चलाया जा रहा है।

मौके पर डॉ. नागेंद्र प्रसाद ने कहा कि रेटिना संबंधी समस्या तेजी से बढ़ रही है। इसका मुख्य कारण मधुमेह की समस्या में इजाफा होना है। रेटिना में खून के धब्बे आना एवं रोशनी में कमी इस बीमारी का मुख्य लक्षण है। इस अवसर पर डॉ. सुधीर कुमार, डॉ. बीएनआर सुबुद्ध, डॉ. सत्यजीत सिन्हा, डॉ. वर्षा सिंह, डॉ. पूजा सिन्हा, डॉ. हरिहर दीक्षित एवं डॉ. जीजे पाण्डेय सहित कई लोगों ने भाग लिया।

Categories: Bihar News

बादशाही पईन की उड़ाही से दक्षिणी पटना को राहत

Dainik Jagran - 11 hours 8 min ago

पटना । मानसून सिर पर है। शहर के दक्षिण भाग को डूबने से बचाने के लिए प्रशासन ने कमर कस ली है। तीन जुलाई के पहले बारिश हुई तो शहर में जलजमाव हो जाएगा। प्रमंडलीय आयुक्त आनंद किशोर ने शनिवार को बादशाही पईन की रुकावटों को हटाने के लिए बैठक कर रणनीति तय की। कार्य की तिथि भी तय कर दी। 29 जून को ह्यूम पाइप गिराए जाएंगे। 30 को कटाई का कार्य शुरू होगा और दो दिनों में कार्य पूरा भी हो जाएगा। दंडाधिकारी, पुलिस, स्थानीय थाना भी विधि व्यवस्था को बनाए रखने के लिए मौजूद रहेगा।

चमनचक से नंदलाल छपरा के बीच चिह्नित चार स्थानों पर 29 जून तक ह्यूम पाइप गिर जाएगा। चालू पथ को काटकर एक-एक मीटर परिधि की ह्यूम पाइप लगाकर बारिश के पानी के बहाव की व्यवस्था कर दी जाएगी। नगर निगम का कंकड़बाग अंचल चार स्थानों पर 30 पाइप गिरा देगा।

आयुक्त ने जलसंसाधन विभाग के कार्यपालक अभियंता को निर्देश दिया कि चमनचक से नंदलाल छपरा के बीच तीन स्थानों पर ऊर्जा विभाग के हाईटेंशन बिजली के पोल है, उन स्थानों पर एक मीटर परिधि का ह्यूम पाइप लगाएं। कटाई के क्रम में बिजली के खंभे अस्थिर नहीं होंगे। 30 जून से कार्य प्रारंभ कर दें।

आयुक्त ने कहा कि जल संसाधन विभाग पर्याप्त संख्या में मशीन लगाए। दो दिनों के अंदर कटाई का कार्य पूरा कर लें। आयुक्त ने जिलाधिकारी और वरीय पुलिस अधीक्षक को निर्देश दिया कि विधि व्यवस्था संधारण के लिए एक दंडाधिकारी के साथ 20 लाठी बल, पांच महिला सिपाही और 1-4 का सशस्त्रबल प्रतिनियुक्त करें।

आयुक्त ने पेसू महाप्रबंधक को निर्देश दिया कि 30 जून को कार्य शुरू होने के समय स्वयं कार्यस्थल पर मौजूद रहें। हाईटेंशन वायर के बिजली के खंभे सुदृढ़ करने की कार्रवाई सुनिश्चित करें। नाला कटाई के बाद ये खंभे किसी तरह की दुर्घटना का कारण न बनें। अनुमंडलाधिकारी को निर्देश दिया कि 30 जून के पहले चमनचक और नंदलाल छपरा के बीच कटाई के लिए चिह्नित स्थल का निरीक्षण कर लें। स्थायी थाना को स्थल निरीक्षण कर लें तथा कटाई के समय विधि व्यवस्था की समस्या उत्पन्न न होने दें।

: यहां भी देना होगा ध्यान :

बेउर से एतवारपुर तक का पानी बादशाही पईन में जाता है। इसके बीच जगह-जगह रुकावट है। इसे दूर करना होगा। हालांकि नगर निगम रुकावट को दूर करने के लिए कछुआ चाल से कार्य कर रहा है।

--------

मानसून में जलजमाव की समस्या न रहे। दक्षिणी पटना के बड़े भू-भाग में जलजमाव से राहत दिलाने के लिए कदम उठाए गए हैं। महत्वपूर्ण नालों की उड़ाही के साथ-साथ बादशाही पईन को चमन चक से नंदलाल छपरा के बीच जोड़कर पुर्नस्थापित करने का कार्य युद्ध स्तर चलेगा।

- आनंद किशोर, प्रमंडलीय आयुक्त, पटना

-----------------

Categories: Bihar News

बीएन कॉलेज में एकलव्य की तरह होगी पढ़ाई

Dainik Jagran - 11 hours 8 min ago

पटना। एकलव्य ने द्रोणाचार्य की मूर्ति बनाकर शिक्षा ग्रहण की थी। अब बीएन कॉलेज में भी छात्रों को इसी तरह पढ़ाई करने की नौबत आ गई है। राज्य के सर्वाधिक प्रतिष्ठित कॉलेजों में से एक है बिहार नेशनल कॉलेज। विज्ञान और कला की बेहतर पढ़ाई के लिए यह जाना जाता है। यहां साइंस और आ‌र्ट्स विषयों से यूजी और पीजी में नामांकन प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन लिए जा रहे हैं। विषयों में एक फिजिक्स भी है, जिसके यहां एक भी शिक्षक नहीं हैं। कुछ ही दिनों के बाद कक्षाएं शुरू हो जाएंगी। सवाल है कि बिना शिक्षक के छात्र आखिर फिजिक्स कैसे पढ़ेंगे? दूसरे शिक्षक मजाक में कहते हैं कि बच्चे यहां एकलव्य की तरह किसी टीचर की फोटो टांगकर फिजिक्स की पढ़ाई करेंगे।

यहां एक मात्र शिक्षक बचे डॉ. श्रीकृष्ण सिंह इस साल अप्रैल में सेवानिवृत्त हो चुके हैं। वे विभागाध्यक्ष भी थे। उनके सेवानिवृत्त होने के बाद से ही विभाग में सन्नाटा है। डॉ. सिंह ने कुछ पीएचडी स्टूडेंट की मदद से किसी तरह कक्षाओं को जारी रखा था। उनके जाने के बाद यह सिलसिला भी बंद होता दिख रहा है। सवाल सिर्फ नए छात्रों का ही नहीं है, बल्कि पहले नामांकन ले चुके छात्रों का भी है। छात्र राहुल ने कहा कि फिजिक्स कोई ऐसा भी विषय नहीं है कि जो इधर-उधर पूछकर या नोट्स देखकर कंप्लीट हो जाए। यहां फिजिक्स के मामले में अभी पूरा अंधेरा है। परंतु, ऐसा भी नहीं है कि बाकी विषयों के लिए शिक्षक पर्याप्त हों। रसायन विज्ञान और भूगर्भशास्त्र को छोड़कर बाकी विषयों का हाल भी दयनीय ही है। मैथिली, बंगाली और फारसी विभाग बंद हो चुके हैं।

प्रधानाचार्य डॉ. राजकिशोर ने कहा कि पटना यूनिवर्सिटी को फिजिक्स के कुछ शिक्षक मिलने वाले हैं। उम्मीद है कि उनमें से कुछ बीएन कॉलेज को भी मिलेंगे। उसके बाद ही कुछ कहा जा सकता है। शिक्षकों के मामले में कॉलेज के हाथ बंधे होते हैं।

---------

: बाकी विषयों में शिक्षकों की स्थिति :

¨हदी - 1

इतिहास - 1

राजनीति विज्ञान - 1

उर्दू - 1

संस्कृत - 2

अर्थशास्त्र - 2

मनोविज्ञान - 2

वनस्पति विज्ञान - 1

जंतु विज्ञान - 1

समाज शास्त्र - 2

सांख्यिकी - 1

गणित - 2

भूगोल - 2

भूगर्भशास्त्र - 4

रसायन विज्ञान - 6

भौतिकी - 0

-------------

Categories: Bihar News

कल से राजधानी में सक्रिय हो जाएगा मानूसन

Dainik Jagran - 11 hours 8 min ago

पटना । सोमवार से राजधानी में एक बार फिर मानसून सक्रिय हो जाएगा। वर्तमान में बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। इससे प्रदेश में मानसून के सक्रिय होने की संभावना काफी बढ़ गई है। बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बनने से प्रदेश में काफी नमी आ रही है। शनिवार को राजधानी के मौसम में व्यापक बदलाव आया है। रविवार को भी इसी तरह की स्थिति बने रहने की उम्मीद है। कल से राजधानी समेत प्रदेश के विभिन्न इलाकों में मानसून की झमाझम बारिश प्रारंभ हो जाएगी।

पटना मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक शुभेंदु सेनगुप्ता ने बताया कि प्रदेश के पूर्वी जिलों में मानसून की झमाझम बारिश हो रही है। मध्य बिहार एवं दक्षिण बिहार में अभी तक मानसून की फुहारें कम पड़ी हैं। लेकिन अब बंगाल की खाड़ी में मानसून के सक्रिय होने से पूरे प्रदेश में बारिश की संभावना काफी बढ़ गई है।

दिनभर बदलता रहा मौसम का मिजाज :

शनिवार को दिनभर मौसम का मिजाज बदलता रहा। सुबह में काफी धूप थी। लेकिन दोपहर बाद मौसम में काफी बदलाव आया। देखते ही देखते पूरा आकाश बादलों से पट गया। कुछ इलाके में हल्की फुहारें भी पड़ीं। मौसम में बदलाव आने के बाद राजधानीवासियों ने काफी राहत की सांस ली। मौसम सामान्य होने पर उमस से लोगों को थोड़ी राहत मिली। आज राजधानी में अधिकतम तापमान 36.5 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। वहीं गया का अधिकतम तापमान 39.6 डिग्री, भागलपुर का 37.6 व पूर्णिया का 36 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। मानसून आने के बाद तापमान में गिरावट आने की उम्मीद है।

Categories: Bihar News

पटना कॉलेज बीसीए परीक्षा का परिणाम जारी

Dainik Jagran - 11 hours 8 min ago

पटना : 20 जून को आयोजित हुई पटना कॉलेज की बीसीए प्रवेश परीक्षा का परिणाम जारी कर दिया गया है। यह कॉलेज की वेबसाइट पर अपलोड है। नामांकन की शुरुआत 28 जून से होगी। इस बात की जानकारी बीसीए कोर्स की कोऑर्डिनेटर डॉ. दीप्ति कुमारी ने शनिवार को दी। अधिक जानकारी कॉलेज की वेबसाइट पर उपलब्ध है।

Categories: Bihar News

कोशिकाओं के मरने से होता सफेद दाग

Dainik Jagran - 11 hours 8 min ago

: सफेद दाग दिवस आज :

जागरण संवाददाता, पटना : त्वचा का सफेद होना एक बीमारी है। यह बीमारी मिलेनोसाइट्स नामक कोशिकाओं के नष्ट होने से होती है। इस बीमारी से सबसे ज्यादा व्यक्ति का चेहरा, होंठ, हाथ, घुटना एवं प्रजनन अंग प्रभावित होते हैं। इस बीमारी को इलाज से ठीक किया जा सकता है। ये बातें शनिवार को सफेद दाग दिवस की पूर्वसंध्या पर महावीर वात्सल्य अस्पताल के वरिष्ठ चर्मरोग विशेषज्ञ डॉ. कुणाल सिन्हा ने कहीं।

उन्होंने कहा कि सफेद दाग होने के कई कारण होते हैं। इसमें सबसे प्रमुख है आनुवांशिक। इस बीमारी में शरीर की एक कोशिका दूसरे पर हमला कर बैठती हैं। कई बार यह बीमारी चोट लगने या सूर्य की तीव्र किरणों से चमड़े के जलने से भी होती है।

सफेद दाग को लेकर समाज में कई तरह की भ्रांतियां फैली हुई हैं। बहुत से लोगों का मानना है कि दूध व खट्टे फलों के सेवन से सफेद दाग होता है। यह सही नहीं है। लोगों का यह भी मानना है कि मछली खाने के बाद दूध पीने से सफेद दाग होता है, यह एक भ्रम है। डॉक्टरों का कहना है कि सफेद दाग का व्यक्ति के आहार से कोई लेना-देना नहीं है। इस बीमारी से व्यक्ति की शारीरिक क्षमता पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। यह बीमारी छुआछूत से नहीं होती है। संभोग से भी इसका कोई लेना-देना नहीं है। त्वचा के अन्य रोगों से भी कोई लेना-देना नहीं है। डॉक्टरों का कहना है कि सफेद दाग को पूरी तरह से ठीक करना संभव नहीं है। अत्याधुनिक दवाओं से इसे बढ़ने से रोका जा सकता है।

Categories: Bihar News

कॉलेज की पहल पर मगध विवि ने सुधारी भूल

Dainik Jagran - 11 hours 8 min ago

पटना । नौ जून को मगध विश्वविद्यालय ने अपने अधीनस्थ कुछ महाविद्यालयों को संबंधित आवश्यक कागजातों के अभाव में असंबद्धता सूची में डाल दिया गया था। हालाकि इस दौरान विश्वविद्यालय ने भूलवश मसौढ़ी के ब्रजलाल प्रसाद महाविद्यालय को भी उसी सूची में डाल दिया था। इसकी जानकारी होते ही बीएलपी महाविद्यालय प्रशासन सकते में आ गया और आनन-फानन में अपने पूरे कागजात के साथ विश्वविद्यालय प्रशासन से जाकर मिला। उसके समक्ष अपना पक्ष रखा। महाविद्यालय के कागजातों की बारीकी से छानबीन के बाद विश्वविद्यालय को अपनी भूल का अहसास हुआ और उसने सुधार करते हुए वर्ष 2015 के फरवरी माह में ही विश्वविद्यालय के द्वारा अपने पत्राक - जी 111ए / 69 / 15 को बीएलपी महाविद्यालय को सभी बिषयो में प्रतिष्ठा स्तर पर दी गयी स्थायी मान्यता को बहाल कर दिया। इसकी जानकारी देते हुए ब्रजलाल प्रसाद महाविद्यालय के प्राचार्य साधु शरण प्रसाद ने बताया कि इससे महाविद्यालय में पढ़ने वाले छात्र- छात्राओं के बीच असमंजस की स्थिति व्याप्त हो गई थी। हालाकि विश्वविद्यालय द्वारा भूल सुधार कर देने से छात्रों के साथ-साथ महाविद्यालय प्रशासन ने भी राहत की सांस ली है।

Categories: Bihar News

अब गांव-गांव जाएगा विज्ञान केंद्र

Dainik Jagran - 11 hours 9 min ago

बस के द्वारा बच्चों के विज्ञान से जड़े सवालों का मिलेगा जवाब

खेल-खेल में गणित और भूगोल के विषय में मिलेगी जानकारी

पटना। श्रीकृष्ण विज्ञान केंद्र गांव-गांव जाकर विज्ञान में हो रहे नए शोध के बारे में जानकारी देगा। जानकारी के साथ इसका मकसद ग्रामीण बच्चों में विज्ञान के प्रति रुचि जगाना भी है। एक जुलाई से विज्ञान केंद्र की बस गांव जाकर वहां के बच्चों के विज्ञान से जड़े सवालों का जवाब देगी। बस में विज्ञान से जुड़े कुछ मॉडल रहेंगे। इस मॉडलों के माध्यम से खेल-खेल में बच्चे गणित और भूगोल के बारे में बताया जाएगा।

जून के पहले हफ्ते से ही ये मॉडल बनना तैयार हो गए थे, जिसमें मैजिक छड़ी, पेंडुलम, मैथ मैजिक, मैगनेट मैजिक, हाइट और मैथ, पाइथागोरस मैजिक, रोल एंड राउंड आदि मॉडल तैयार हो चुके है और अन्य मॉडल तैयार हो रहे हैं। इन मॉडलों की खासियत है कि इन सब से खेल-खेल के माध्यम से बच्चों को विज्ञान के प्रति जागरूक किया जाएगा। जैसे मैथ मैजिक से बच्चों को सारे मैथ के फॉमूलों के बारे में बताया जाएगा और साथ ही मैजिक छड़ी से बच्चों को खेल-खेल में विज्ञान के ट्रिक के बारे में बताया जा रहा है। वहीं, पाइथागोरस मैजिक में गणित के सवाल हल कराए जाएंगे। रोल एंड रोल से फिजिक्स के बारे में बताया जाएगा।

श्रीकृष्ण विज्ञान केंद्र के सहायक अध्यक्ष राम स्वरूप बताते हैं कि इस तरह के अभियान से उन बच्चों तक भी विज्ञान पहुंच सकेगा, जो पैसे के कमी के कारण विज्ञान केंद्र नहीं आ सकते है तो उनके पास बस के माध्यम से विज्ञान केंद्र पहुंचने वाला है शुरुआत में एक महीने के ये बस मुजफ्फरपुर और सिवान के स्कूलों में घूमकर बच्चों को विज्ञान के बारे में बताएगी। लोगों को यह बस विज्ञान के तरफ आकर्षित भी करने वाली है। इस बस में विज्ञान केंद्र के तरफ से तीन सदस्य टीम जाएगी और बच्चों को इस मॉडल के बारे में जानकारी देगी।

----------------

सुविधाओं से लैस रहेगी विज्ञान बस

इन मॉडलों को रखने के लिए एक खास बस बनवाई गई है, जिसमें बाहर से 10 मॉडल और अंदर में 10 मॉडल को रखा जा सकता है। इसके साथ ही इसको ऐसे बनवाया गया है कि कितना भी रास्ता खराब हो मॉडल को कभी कोई नुकसान नही पहुंच सकता है और साथ ही इसमें बिजली से लेकर सारी सुविधाएं भी मौजूद है।

Categories: Bihar News

पेंटिंग में दिखाया नशे से होने वाला नुकसान

Dainik Jagran - 11 hours 9 min ago

पटना : शराब और ड्रग्स इंसान को खोखला कर देता है। जिसे इसकी लत लग गई वो अन्य कोई काम नहीं कर सकता। हमारी कोशिश होनी चाहिए कि इस जहर से खुद को और अपने प्रिय जनों को भी दूर रखें। ये बातें बच्चों के बीच शनिवार को दिशा नशा मुक्ति केंद्र की तरफ से आयोजित पेंटिंग प्रतियोगिता में बताई गई। जिसमें बच्चों के बीच ड्रग्स और शराब से क्या परेशानी होती है, किसी का घर परिवार इसके कारण कैसे खत्म हो जाता है, इसकी जानकारी दी गई। इन बातों को ध्यान में रखकर दिशा के बच्चों ने पेंटिंग बनाई और लोगो को शराब और किसी भी प्रकार का नशा नहीं किया जाए इसके लिए प्रेरित किया। इस मौके पर दिशा की निर्देशक राखी शर्मा के साथ कुमार दीपक और दिशा की पूरी टीम मौजूद रही।

Categories: Bihar News

जात-पात में बदला प्रेम

Dainik Jagran - 11 hours 9 min ago

पटना : शेक्सपियर के रोमियों-जूलिएट से प्रेरित नाटक वेस्ट साइट स्टोरी के देसी पाठ का नाटक 'जब शहर हमारा सोता है' का मंचन शनिवार को प्रेमचंद्र रंगशाला में किया गया। नाटक में दिखाया गाय की आज के समय की प्यार की स्थिति कैसे घृणा, जात-पात, नफरत में बदल गई है। देश में मंदिर मस्जिद की जंग अपने चरम पर है। नफरत और अविश्वास का माहौल इसे सरगर्म कर रहा है। इस नाटक के निर्देशक दीपक कुमार और लेखक पीयूष कुमार थे।

Categories: Bihar News

10 बोतल विदेशी शराब के साथ दो गिरफ्तार

Dainik Jagran - 13 hours 13 min ago

पटना सिटी। खाजेकलां थाना पुलिस ने काठ का पुल के समीप वाहन चे¨कग के दौरान दो युवकों को 10 बोतल विदेशी व 138 पाउच देसी शराब के साथ गिरफ्तार कर लिया। थानाध्यक्ष राकेश कुमार भास्कर ने बताया कि वाहन चे¨कग के दौरान एक बाइक सवार युवक बाइक मोड़ कर भागने लगा। बाइक सवार को भागते देख पुलिस ने पीछा किया। भाग रहे बाइक सवार को पुलिस ने पकड़ कर तलाशी ली। बाइक पर सवार हरनाहा टोला निवासी निरंजन कुमार व अंशु कुमार के पास से पुलिस ने 10 बोतल विदेशी व 138 पाउच देसी शराब बरामद की गई। गिरफ्तार युवकों ने बताया कि पब्लिक डिमांड पर वे घूम-घूमकर घरों में शराब की सप्लाई करते थे। पुलिस युवकों के पास से दो मोबाइल व बाइक जब्त किया।

Categories: Bihar News

Pages

Subscribe to Bihar Chamber of Commerce & Industries aggregator - Bihar News

  Udhyog Mitra, Bihar   Trade Mark Registration   Bihar : Facts & Views   Trade Fair